Monday, July 22, 2024
Homeराजनीतिमाफ़ी माँगने की बजाए 'Patriarchy' पर ठीकरा फोड़ रहीं MP महुआ मोइत्रा, संसद में...

माफ़ी माँगने की बजाए ‘Patriarchy’ पर ठीकरा फोड़ रहीं MP महुआ मोइत्रा, संसद में कहा था ‘हरामी’: भाजपा ने पूछा – अपने सांसद पर कार्रवाई करेंगी ममता बनर्जी?

"तृणमूल कॉन्ग्रेस को बताना चाहिए कि वह संसद में अपनी सांसद द्वारा आपत्तिजनक शब्द का इस्तेमाल करने पर कार्रवाई करेगी या फिर पहले की ही तरह उसे संरक्षण देगी।"

तृणमूल कॉन्ग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा ने संसद में आपत्तिजनक शब्द का इस्तेमाल करने के एक दिन बाद तथाकथित ‘पितृसत्तात्मक व्यवस्था’ पर सवाल उठाते हुए अपना बचाव किया। टीएमसी सांसद ने माफी माँगने की बजाए उन लोगों पर पलटवार किया है, जिन्होंने संसद के अंदर हर@मी शब्द का इस्तेमाल करने के लिए उनकी आलोचना की है।

महुआ मोइत्रा ने अपनी भाषा को लेकर हुए विवाद पर बुधवार (8 फरवरी, 2023) को कहा, “बीजेपी कह रही है कि मैं महिला होने के नाते इस तरह के शब्द का इस्तेमाल कैसे कर सकती हूँ? क्या इसके लिए मुझे एक पुरुष होने की आवश्यकता है। यह तो पितृसत्ता है। मुझे आश्चर्य है कि भाजपा हमें संसदीय शिष्टाचार सिखा रही है। दिल्ली के उस प्रतिनिधि ने मेरे साथ बदसलूकी की। मैं एक सेब को एक सेब कहूँगी, नारंगी नहीं… अगर वे मुझे विशेषाधिकार समिति में ले जाएँगे, तो मैं वहाँ अपना पक्ष रखूँगी।”

टीएमसी सांसद ने इस बीच अडानी मुद्दे पर भी टिप्पणी की और सच्चाई को छिपाने के लिए भाजपा को पर कई आरोप लगाए। उन्होंने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा, “पहली बार, हम सभी भारत के लोगों को यह दिखाने में सक्षम हुए कि यह अडानीगेट क्या था? बीजेपी पिछले 3 सालों से इसे छिपाने कोशिश कर रही है। मुझे खुशी है कि सभी विपक्षी दल एकजुट होकर सामने आए। भारत के लोग अडानीगेट घोटाले को देख सकते हैं।”

मालूम हो कि तेलुगु देशम पार्टी के सांसद राम मोहन नायडू मंगलवार (7 फरवरी, 2023) को जब लोकसभा में बोल रहे थे, तभी मोइत्रा ने हरा@# शब्द का इस्तेमाल किया। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की पार्टी की सांसद का वीडियो इंटरनेट पर वायरल होने के बाद लोगों ने उनकी भाषा और व्यवहार पर सवाल उठाए, जिससे सांसद और भी चिढ़ गई। उनका यह शब्द संसद में गूँजते ही सत्तापक्ष के नेताओं ने काफी बवाल मचाया। भाजपा नेताओं ने कार्यवाही रुकवाते हुए कहा कि पहले मोइत्रा को माफी माँगनी चाहिए।

लोकसभा स्पीकर ने महुआ की रिकॉर्डिंग को सदन की कार्यवाही से हटाने का आदेश दिया। उन्होंने महुआ की भाषा सुनते ही कान से हेडफोन उतार दिए। इसके बाद वह बोले कि कुछ भी रिकॉर्ड नहीं होगा। कुछ बेहद आक्रामक व अभद्र शब्द उपयोग किए गए हैं।

टीएमसी सांसद की ​अभद्र भाषा को लेकर न केवल नेटिज़ेंस बल्कि कई भाजपा नेताओं ने भी उनकी आलोचना की। भाजपा प्रवक्ता शहजाद पूनावाला ने कहा, “तृणमूल कॉन्ग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा ने संसद के अंदर अपशब्द और गाली का इस्तेमाल किया है। यह पहली बार नहीं हैं जब सीरियल अपराधी ने इस तरह की भाषा का इस्तेमाल किया है। इससे पहले उन्होंने एक पत्रकार के लिए आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग किया था। उसे गाली दी, चोटीवाला राक्षस कहा। एक समाज के लिए अपमानजनक बातें कहीं। माँ काली का अपमान किया। टीएमसी बार-बार महुआ मोइत्रा का बचाव करती है, उसे संरक्षण देती है। इसलिए वह बार-बार इस तरह का कृत्य करती हैं। उन्होंने संसद के नियमों का उल्लंघन किया। एक चुने हुए जनप्रतिनिधि का सार्वजनिक जीवन में इस तरह का बर्ताव अनुकूल नहीं है।”

उन्होंने टीएमसी पर सवाल उठाते हुए पूछा कि क्या तृणमूल कॉन्ग्रेस मोइत्रा पर कार्रवाई करेगी? नैतिक और सार्वजनिक जिंदगी में हम जो एक मापदंड अपनाते हैं, उस पैमाने पर भी इस तरह का रवैया ठीक नहीं लगता। उन्होने कहा कि तृणमूल कॉन्ग्रेस को बताना चाहिए कि वह संसद में अपनी सांसद द्वारा आपत्तिजनक शब्द का इस्तेमाल करने पर कार्रवाई करेगी या फिर पहले की ही तरह उसे संरक्षण देगी।

पूनावाला के अलावा बीजेपी सांसद हेमा मालिनी ने भी अभद्र भाषा का इस्तेमाल करने वाली टीएमसी सांसद को लताड़ा। उन्होंने कहा, “उन्हें अपनी जीभ पर नियंत्रण रखना चाहिए। उन्हें अति उत्साहित और भावुक नहीं होना चाहिए। संसद का प्रत्येक सदस्य एक सम्मानित व्यक्ति है।”

बता दें कि महुआ के हर@मी कहने के बाद उनके खिलाफ कार्रवाई की माँग गई है। साथ ही यह शब्द और महुआ मोइत्रा ट्विटर पर ट्रेंड करने के बाद कुछ यूजर्स ने उनके बर्ताव को शर्मनाक बताया है। वहीं कुछ ने मोइत्रा के रवैये पर तंज कसते हुए कहा कि उन्होंने संसद में अपनी औकात दिखा दी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -