Wednesday, September 28, 2022
Homeराजनीतितृणमूल के गुंडों ने की बूथ कैप्चरिंग, बमबारी से लेकर वोटरों को धमकी: VotingPhase7

तृणमूल के गुंडों ने की बूथ कैप्चरिंग, बमबारी से लेकर वोटरों को धमकी: VotingPhase7

चंद्र कुमार बोस ने दावा किया कि उनके कार्यकर्ताओं को फोन कर धमकी दी जा रही है कि अगर वह भाजपा के पोलिंग एजेंट के तौर पर बूथों में बैठे तो उन्हें जान से मार दिया जाएगा। बोस ने तृणमूल कॉन्ग्रेस और किसी दहशतगर्द संगठन में कोई अंतर न होने का भी आरोप लगाया।

लोकसभा निर्वाचन के अंतिम चरण में तृणमूल कॉन्ग्रेस ने सभी मर्यादाएँ तोड़ते हुए हिंसा का मुँह पूरी तरह खोल दिया है। बशीरहाट के गाँवों में तृणमूल के गुंडे क्षेत्र के वोटरों को धमकाने से लेकर बूथ के बाहर बम धमाके करने और वोटिंग मशीनों के साथ छेड़-छाड़ करने तक किसी हथकंडे से बाज नहीं आ रहे हैं। भाजपा के बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने आरोप लगाया है कि ममता बनर्जी ने वहाँ संविधान का राज पूरी तरह खत्म कर दिया है। ताज़ा अपडेट्स के अनुसार ग्राउंड रिपोर्टिंग कर रहे पत्रकारों और संवाददाताओं पर भी बमों से हमले हो रहे हैं।

‘भाजपा बूथ एजेंट्स को मार डालने की धमकी’: बंगाल भाजपा उपाध्यक्ष

बंगाल भाजपा के उपाध्यक्ष चंद्र कुमार बोस ने आरोप लगाया कि कल रात तृणमूल की ‘जिहादी’ ब्रिगेड उनके कार्यकर्ताओं को धमका रही थी। ANI से बात करते हुए उन्होंने दावा किया कि उनके कार्यकर्ताओं को फोन कर धमकी दी जा रही है कि अगर वह भाजपा के पोलिंग एजेंट के तौर पर बूथों में बैठे तो उन्हें जान से मार दिया जाएगा। बोस ने तृणमूल कॉन्ग्रेस और किसी दहशतगर्द संगठन में कोई अंतर न होने का भी आरोप लगाया।

बशीरहाट में मतदान में बाधा, भाजपा कार्यकर्ताओं से टकराव  

बशीरहाट के बदुरिया में भाजपा कार्यकर्ताओं ने कथित तौर पर तृणमूल कार्यकर्ताओं का मतदान बूथ के बाहर जमावड़ा देखा। जब वह (भाजपा वाले) देखने गए तो जुबानी जंग जल्दी ही हाथापाई और हिंसा में तब्दील हो गई। न केवल मतदान बूथों के बाहर बम धमाके हुए बल्कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने तृणमूल पर बूथ कैप्चरिंग, बूथ टैम्परिंग और EVM से छेड़छाड़ का भी आरोप लगाया है। रिपब्लिक टीवी की लाइव रिपोर्टिंग के अनुसार औरतें डर के मारे घरों से निकल ही नहीं रहीं थीं, और मर्दों ने वोट देने जाने से रोके जाने पर सड़क पर ही धरना दे दिया। इन सब के बीच भाजपा प्रत्याशी शायन्तन बासु ने दो-तीन कार्यकर्ताओं को साथ लिया, और वह 2-3 के ही समूह में मतदाताओं को सुरक्षित मतदान बूथ के पास तक ले जाकर वोट डलवा रहे हैं।

बशीरहाट तृणमूल कॉन्ग्रेस के लिए राजनीतिक रूप से बहुत जरूरी सीट बताई जाती है। यहाँ गैर-हिन्दू वोट 54% के आसपास है। यहाँ से तृणमूल ने नुसरत जहाँ को अपना प्रत्याशी बनाया है।

इसके अलावा इस्लामपुर, रायगंज में पत्रकारों पर भी तृणमूल कार्यकर्ताओं के हिंसक हमलों की खबरें आ रहीं हैं।

अपडेट: इस बीच जादवपुर में भी भाजपा प्रत्याशी अनुपम हाज़रा पर हिंसक हमला हुआ और उनकी कार बुरी तरह क्षतिग्रस्त कर दी गई है। वह लोकसभा क्षेत्र में बूथ कैप्चरिंग की खबर सुनकर पहुँचे थे। भाजपा ने आरोप लगाया कि तृणमूल के स्थानीय नेता अनन्य बनर्जी के नेतृत्व में हमला हुआ था। भाजपा नेताओं ने पुनर्मतदान की माँग की है।

यह डेवलपिंग स्टोरी है। जैसे-जैसे तस्वीर साफ़ होती जाएगी, हम इस आर्टिकल को अपडेट करते रहेंगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ब्रह्मांड के केंद्र’ में भारत माता की समृद्धि के लिए RSS प्रमुख मोहन भागवत ने की प्रार्थना, मेघालय के इसी जगह पर है ‘स्वर्णिम...

सेंग खासी एक सामाजिक-सांस्कृतिक और धार्मिक संगठन है जिसका गठन 23 नवंबर, 1899 को 16 युवकों ने खासी संस्कृति व परंपरा के संरक्षण हेतु किया था।

अब पलटा लेस्टर हिंसा के लिए हिन्दुओं को जिम्मेदार ठहराने वाला BBC, फिर भी जारी रखी मुस्लिम भीड़ को बचाने की कोशिश: नहीं ला...

बीबीसी ने अपनी पिछली रिपोर्टों के लिए कोई माफी नहीं माँगी है, जिसमें उसने हिंदुओं पर झूठा आरोप लगाया था कि हिंसा के लिए वे जिम्मेदार हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,688FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe