Thursday, September 23, 2021
Homeराजनीति'गलती से हो गया था अकाउंट लॉक': गृहमंत्री अमित शाह की DP हटाने पर...

‘गलती से हो गया था अकाउंट लॉक’: गृहमंत्री अमित शाह की DP हटाने पर ट्विटर ने दी सफाई

आमतौर पर ट्विटर ऐसा तब करता है जब किसी ने कॉपीराइट का दावा किया हो, लेकिन तब भी इतने बड़े प्लेटफॉर्म से यह अपेक्षा नहीं की जाती है कि वह बिना सत्यापित किए किसी शिकायत पर कार्रवाई करें।

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर पर केंद्रीय गृहमंत्री के आधिकारिक अकॉउंट से उनकी तस्वीर गुरुवार (नवंबर 12, 2020) को अचानक गायब होने पर सोशल मीडिया यूजर्स ने हैरानी व्यक्त की। गृहमंत्री के ट्विटर अकॉउंट पर उनके प्रोफाइल में लगी तस्वीर की जगह बहुत देर तक यही लिखा नजर आया कि कॉपीराइट होल्डर की रिपोर्ट के बाद तस्वीर को हटाया गया है। 

बता दें कि गृहमंत्री अमित शाह की ट्विटर डिस्प्ले पिक्चर उनकी ऑफिशियल वेबसाइट पर भी है। लेकिन बावजूद इसके इसे कॉपीराइट का हवाला देकर हटाए जाने से लोग स्क्रीनशॉट शेयर कर करके इसका कारण पूछने लगे।

वैसे आमतौर पर ट्विटर ऐसा तब करता है जब किसी ने कॉपीराइट का दावा किया हो, लेकिन तब भी इतने बड़े प्लेटफॉर्म से यह अपेक्षा नहीं की जाती है कि वह बिना सत्यापित किए किसी शिकायत पर कार्रवाई करें। इसीलिए सोशल मीडिया पर जैसे ही नेटीजन्स ने अपने सवाल दागने शुरू किए, ट्विटर ने फौरन अमित शाह की तस्वीर को पूर्ववत कर दिया।

उल्लेखनीय है कि अमित शाह देश के दूसरे सबसे ज्यादा फॉलो किए जाने वाले नेता हैं। उन्हें ट्विटर पर 23.6 मिलियन लोगों द्वारा फॉलो किया जाता है। वहीं 296 अकॉउंट्स को वह स्वयं फॉलो करते हैं। ऐसे में ट्विटर की ऐसी हरकत की आलोचना होना लाजिमी है।

यदि हम स्वयं अमित शाह के वेबपेज पर जाकर देखेंगे तो हमें उनकी डीपी वाली तस्वीर यहाँ सबसे पहले देखने को मिलेगी। ऐसे में तस्वीर के ऊपर किसी और के कॉपीराइट का तो कोई सवाल ही नहीं है। फिर आखिर किस आधार पर ट्विटर ने अमित शाह की तस्वीर हटाई, ये एक बड़ा सवाल है।

अपने ही प्लैटफॉर्म पर अपनी ही आलोचना झेलने के बाद ट्विटर ने शुक्रवार को एक सफाईनामा पेश किया है। इसमें उन्होंने इस पूरी घटना को अंजाने में हुई गलती कहकर टाला है। ट्विटर प्रवक्ता ने कहा, “एक अनजाने में हुई गलती के कारण, हमने अपने वैश्विक कॉपीराइट नीतियों के तहत इस अकॉउंट को अस्थायी रूप से बंद कर दिया था। लेकिन अब इस निर्णय को पूरी तरह बदल कर अकॉउंट चालू कर दिया गया है। 

भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी की DP भी ट्विटर ने हटाई

उल्लेखनीय है कि एक ओर जहाँ केंद्रीय गृहमंत्री के अकॉउंट पर ट्विटर की ऐसी लापरवाही सामने आई, इसी बीच भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने भी दावा किया कि कल ट्विटर ने एक अंजान बांग्लादेशी की रिपोर्ट के कारण उनकी डिस्प्ले तस्वीर को हटा दिया था। बांग्लादेशी ने दावा किया था कि तस्वीर पर उसका पेटेंट है।

स्वामी ने अपने ट्विटर पर बताया कि ट्विटर ने इस शिकायत को सत्यापित किए बिना तस्वीर को हटाया था लेकिन उनकी टीम द्वारा पूरा मामला गौर करवाए जाने के बाद उसे रिस्टोर कर दिया है। सुब्रमण्यम स्वामी के समर्थकों ने भी ट्विटर पर यह दावा किया है कि उनकी तस्वीर को बिना सत्यापित किए हटाया गया। बाद में जब स्वामी की टीम के कारण यह मामला संज्ञान में आया तब उसे दोबारा सेट किया गया।

दिलचस्प बात यह है कि ट्विटर से अमित शाह और सुब्रमण्यम स्वामी के ख़िलाफ़ ऐसी गलती उसी समय हुई जब आईटी मंत्रालय ने लेह के केंद्र शासित प्रदेश के बजाय जम्मू और कश्मीर का हिस्सा दिखाने के लिए ट्विटर के ग्लोबल वाइस प्रेजिडेंट को बृहस्पतिवार (नवम्बर 12, 2020) को नोटिस भेजा

बता दें कि इस नोटिस में ट्विटर को अगले 5 दिनों में सारा मामला समझाने का निर्देश दिया गया था कि भारत की क्षेत्रीय अखंडता का अपमान करने के लिए उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई क्यों नहीं की जानी चाहिए?

इससे पहले पिछले माह भी , सरकार ने ट्विटर के सीईओ जैक डोरसी को एक पत्र लिखा था, जिसमें लेह की गलत जानकारी देने पर ‘निराशा और नाराजगी’ व्यक्त की गई थी। सरकार के संज्ञान में आते ही इस पर कड़ी आपत्ति जताई गई थी कि ट्विटर ने लेह की भू-स्थिति को जम्मू-कश्मीर, ‘पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना’ के हिस्से के रूप में दिखाया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘नंगी तस्वीरें माँगता, ओरल सेक्स के लिए जबरदस्ती’: हिंदूफोबिक कॉमेडियन संजय राजौरा की करतूत महिला ने दुनिया को बताई

पीड़िता ने बताया कि वो इन सब चीजों को नजरअंदाज कर रही थी क्योंकि वह कॉमेडियन को उसके काम के लिए सराहती थी।

गुजरात में ‘लैंड जिहाद’ ऐसे: हिंदू को पाटर्नर बनाओ, अशांत क्षेत्र में डील करो, फिर पाटर्नर को बाहर करो

गुजरात में अशांत क्षेत्र अधिनियम के दायरे में आने वाले इलाकों में संपत्ति की खरीद और निर्माण की अनुमति लेने के लिए कई मामलों में गड़बड़ी सामने आई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,920FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe