Tuesday, September 28, 2021
Homeदेश-समाज'ओवैसी को तालिबान के पास भेजना बेहतर होगा': मोदी की महिला मंत्री का AIMIM...

‘ओवैसी को तालिबान के पास भेजना बेहतर होगा’: मोदी की महिला मंत्री का AIMIM मुखिया पर पलटवार

ओवैसी ने कहा, “अब जबकि अफगानिस्तान तालिबान के पूर्ण नियंत्रण में है, हमारे पास उनके साथ कोई संचार नहीं है, कोई संवाद नहीं है। सभी अंतरराष्ट्रीय और सुरक्षा विशेषज्ञों ने कहा है कि बातचीत होनी चाहिए थी, लेकिन पिछले सात वर्षों से केंद्र सरकार यह नहीं जान पाई है कि क्या हो रहा है।”

ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल (AIMIM) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा है कि भारत सरकार को तालिबान शासन में परेशान अफगान लोगों को मदद करने के बजाय देश की महिलाओं की मदद करनी चाहिए। उनके इस बयान पर अब विवाद छिड़ गया है। उन्होंने यह बात गुरुवार (19 अगस्त 2021) को एक कार्यक्रम के दौरान यह टिप्पणी की।

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा था, ‘एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत में नौ में से एक बच्ची की 5 साल की उम्र से पहले मौत हो जाती है। यहाँ महिलाओं के खिलाफ अत्याचार और उनके खिलाफ अपराध बढ़े हैं, लेकिन वे (केंद्र) चिंतित हैं कि अफगानिस्तान में महिलाओं के साथ क्या हो रहा है। क्या यह यहाँ नहीं हो रहा है?”

एआईएमआईएम सुप्रीमो का कहना है कि भारत सरकार को तालिबान से बातचीत करनी चाहिए। ओवैसी ने कहा, “अब जबकि अफगानिस्तान तालिबान के पूर्ण नियंत्रण में है, हमारे पास उनके साथ कोई संचार नहीं है, कोई संवाद नहीं है। सभी अंतरराष्ट्रीय और सुरक्षा विशेषज्ञों ने कहा है कि बातचीत होनी चाहिए थी, लेकिन पिछले सात वर्षों से केंद्र सरकार यह नहीं जान पाई है कि क्या हो रहा है।”

ओवैसी के इस बयान पर केंद्रीय मंत्री शोभा करंदलाजे ने पलटवार करते हुए कहा कि उन्हें अफगानिस्तान भेज दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, “असदुद्दीन ओवैसी को उनकी महिलाओं और समुदाय की सुरक्षा के लिए तालिबान के पास भेजना बेहतर होगा।”

अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना की वापसी के बाद वहाँ पर तालिबान ने कब्जा कर लिया है, जिसके बाद से भारत के इस्लामवादी तालिबान के लिए खुशी मना रहे हैं। दिल्ली दंगों के एक आरोपी ने कहा, “मैं आप लोगों को एक खुशखबरी देता हूँ कि अशरफ गनी ने इस्तीफा दे दिया है। अल्लाह का शुक्रिया! धीरे-धीरे यह अफगानिस्तान के इस्लामी साम्राज्य (तालिबान द्वारा शासित) की स्थापना की ओर ले जाएगा। हमें उनसे प्रेरणा लेने और ‘स्वतंत्रता आंदोलन’ के लिए संघर्ष करना सीखना होगा।”

तालिबान द्वारा अफगानिस्तान पर कब्जे के बाद वहाँ की भयावह तस्वीरें सामने आ रही हैं। वहाँ लोग अपनी जान बचाने के लिए देश से भागने की कोशिश कर रहे हैं। हवाई जहाज के पहियों पर लटककर भागने की कोशिश कर रहे अफगान लोगों के आसमान से गिरने के दृश्य सोशल मीडिया पर वायरल हो गए हैं। वहीं, तालिबानियों को मनोरंजन पार्क के साथ-साथ अन्य दृश्यों में आनंद लेते हुए देखा गया है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,827FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe