Tuesday, June 25, 2024
Homeराजनीति16 जिले, 59 सीटें, 49 पर BJP: उत्तर प्रदेश में तीसरे चरण का मतदान,...

16 जिले, 59 सीटें, 49 पर BJP: उत्तर प्रदेश में तीसरे चरण का मतदान, चाचा-भतीजे की किस्मत का भी होगा फैसला

तीसरा चरण राजनीतिक लिहाज से इसलिए भी महत्वपूर्ण माना जा रहा है क्योंकि समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव करहल सीट से चुनाव लड़ रहे हैं।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (Uttar Pradesh Assembly Eelection 2022) के लिए चल रहे मतदान के दो चरण सफलता पूर्वक संपन्न हो चुके हैं और शनिवार (19 फरवरी, 2022) को तीसरे चरण के मतदान के लिए चुनाव प्रचार भी रुक गया है। रविवार (20 फरवरी 2022) को राज्य के 16 जिलों की 59 सीटों पर वोटिंग होगी। कल होने वाले मतदान में 28 सीटें यादव बहुल सीटें मानी जाती हैं। इसी कारण से इस बेल्ट को मेनस्ट्रीम मीडिया द्वारा ‘यादव बेल्ट’ भी कहा जाता है।

रिपोर्ट के मुताबिक, प्रदेश में सत्तारूढ़ योगी सरकार ने पिछले चुनाव में इस बेल्ट की 59 में से 49 सीटों पर जीत दर्ज की थी। जबकि, समाजवादी पार्टी को करारा झटका लगा था। वो ‘यादव बेल्ट’ में भी केवल 8 सीटें ही जीतने में सफल हो पाई थी। वहीं कॉन्ग्रेस और बसपा के खाते में एक-एक सीट गई थी।

तीसरा चरण राजनीतिक लिहाज से इसलिए भी महत्वपूर्ण माना जा रहा है क्योंकि समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव करहल सीट से चुनाव लड़ रहे हैं और तीसरे चरण में यहाँ भी मतदान होने हैं। उनके खिलाफ केंद्रीय मंत्री एसपी सिंह बघेल भाजपा के उम्मीदवार के तौर पर मैदान में हैं। इसके अलावा शिवपाल यादव भी जसवंतनगर सीट से चुनावी मैदान में हैं और यहाँ भी इसी चरण में मतदान होने हैं। करहल में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत कई बड़े नेता प्रचार कर चुके हैं। अब कल होने वाली वोटिंग में इनकी किस्मत का फैसला होगा।

इस बीच राजनीतिक पार्टियों द्वारा मतदाताओं में शराब, भाँग इत्यादि बाँटें जाने की घटनाओं से बचने के लिए प्रशासन ने इस तरह की सभी दुकानों को बंद करा दिया है। उल्लेखनीय है कि 2012 के चुनाव में इन्हीं 16 जिलों में सपा ने 37 सीटें जीतकर सत्ता का स्वाद लिया था। हालाँकि, 2017 में भाजपा की आँधी में सपा का यह किला बुरी तरह से बर्बाद हो गया और वो इकाई के आँकड़े पर सिमट गई।

इन सीटों पर होने हैं मतदान

गौरतलब है कि जसराना, फिरोजाबाद, रसूलाबाद अकबरपुर रनिया, सिकन्दरा, झांसी नगर, मऊरानीपुर सु., भोगनीपुर, बिल्हौर सु., शिकोहाबाद, सिरसागंज, हाथरस सु., सादाबाद, सिकन्दराराऊ, टूण्डला सु., कासगंज, अमापुर, पटियाल, अलीगंज, एटा, मारहरा, जलेसर सु., मैनपुरी, भोगांव, किशनी सु., करहल, कायमगंज सु., अमृतपुर, फरूखाबाद, भोजपुर, छिबरामऊ, तिर्वा, कन्नौज सु., जसवंतनगर, इटावा, भरथना सु, बिधुना, दिबियापुर, औरय्या सु., बिठूर, कल्याणपुर, गोविन्दनगर, सीसामऊ, आर्यनगर, किदवईनगर, कानपुर कैण्ट, महराजपुर, घाटमपुर सु., माधौगढ़, कालपी, उरई सु., बबीना, गरौठा, ललितपुर, महरौनी सु., हमीरपुर, राठ सु., महोबा और चरखारी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिखर बन जाने पर नहीं आएँगी पानी की बूँदे, मंदिर में कोई डिजाइन समस्या नहीं: राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेन्द्र मिश्रा ने...

श्रीराम मंदिर निर्माण समिति के मुखिया नृपेन्द्र मिश्रा ने बताया है कि पानी रिसने की समस्या शिखर बनने के बाद खत्म हो जाएगी।

दर-दर भटकता रहा एक बाप पर बेटे की लाश तक न मिली, यातना दे-दे कर इंजीनियरिंग छात्र की हत्या: आपातकाल की वो कहानी, जिसमें...

आज कॉन्ग्रेस पार्टी संविधान दिखा रही है। जब राजन के पिता CM, गृह मंत्री, गृह सचिव, पुलिस अधिकारी और सांसदों से गुहार लगा रहे थे तब ये कॉन्ग्रेस पार्टी सोई हुई थी। कहानी उस छात्र की, जिसकी आज तक लाश भी नहीं मिली।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -