Wednesday, December 1, 2021
HomeराजनीतिHC के आदेश को SC में चुनौती देगी योगी सरकार, नहीं हटाए जाएँगे 'दंगाइयों'...

HC के आदेश को SC में चुनौती देगी योगी सरकार, नहीं हटाए जाएँगे ‘दंगाइयों’ के होर्डिंग्स

योगी सरकार हाईकोर्ट के इस आदेश को चुनौती देने की तैयारी में जुट गई है। माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री ने कानून के अधिकारियों को हाईकोर्ट के आदेश को चुनौती देने वाली याचिका तैयार करने को कहा है। याचिका इस सप्ताह के अंत तक दायर की जाएगी।

इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश के बाद भी योगी सरकार लखनऊ शहर के चौराहों पर लगे दंगाई अपराधियों के पोस्टर हटाने को तैयार नहीं हैं, वहीं दूसरी ओर योगी सरकार हाईकोर्ट के इस आदेश को चुनौती देने की तैयारी में जुट गई है। माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री ने कानून के अधिकारियों को हाईकोर्ट के आदेश को चुनौती देने वाली याचिका तैयार करने को कहा है। याचिका इस सप्ताह के अंत तक दायर की जाएगी।

दरअसल, इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सोमवार को कहा था कि सड़क के किनारे होर्डिंग्स पर आरोपितों की तस्वीरें और उस पर छपे व्यक्तिगत विवरण गोपनीयता में सरकार का अनुचित हस्तक्षेप है। हाईकोर्ट ने सरकार को चौराहों पर लगे आरोपितों के पोस्टर हटाने के साथ ही इस पर 16 मार्च तक रजिस्ट्रार जनरल को एक अनुपालन रिपोर्ट पेश करने के लिए कहा था।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के मीडिया सलाहकार शलभ मणि त्रिपाठी का कहना है कि हम इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश की जाँच कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमारे कानून के जानकार यह भी जाँच कर रहे हैं कि पोस्टर हटाने के लिए किस आधार पर यह आदेश जारी किया गया है। हालाँकि, सरकार तय करेगी कि कौन सा विकल्प अपनाना होगा। त्रिपाठी ने एक बार सरकार भी मंशा फिर साफ की और कहा कि सार्वजनिक संपत्तियों को नुकसान पहुँचाने वाले लोगों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा।

दरअसल, पिछले साल 19 दिसंबर को लखनऊ के कई स्थानों पर उपद्रवियों ने सीएए विरोध के नाम पर हिंसा की थी, जिसमें करोड़ों की सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुँचाया गया था। हिंसा में शामिल 57 लोगों के नाम और पते के साथ लखनऊ शहर के सभी प्रमुख चौराहों पर कुल 100 होर्डिंग्स लगाए गए थे। प्रशासन ने इससे पहले आरोपितों पर 1.55 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाते हुए नोटिस जारी किया है, जिसके तहत 8 अप्रैल तक जुर्माने की रकम को जमा कराना होगा।

जिसके पीछे सरकार की दलील थी कि सरकार इन उपद्रवियों के चेहरों को बेनकाब करना चाहती है, जिन्होंने सीएए विरोध के नाम पर हिंसा की और सरकार की करोड़ों रुपयों की संपत्ति को नुकसान पहुँचाया।

लखनऊ में 19 दिसंबर को हुई हिंसा के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और डीजीपी ओपी सिंह ने कहा था कि वे हिंसा में किसी भी निर्दोष को हाथ नहीं लगाएँगे, लेकिन जिन्होंने हिंसा की है, उन्हें किसी कीमत पर नहीं छोड़ा जाएगा। उन्होंने यह भी कहा था कि प्रदेश में सार्वजनिक संपत्तियों को नुकसान पहुँचाया गया है, उसकी भरपाई उपद्रवियों की संपत्ति से ही की जाएगी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe