Wednesday, June 19, 2024
Homeराजनीतिमंदिरों की मुक्ति पर निर्णय के बाद अब लव जिहाद पर कानून की तैयारी:...

मंदिरों की मुक्ति पर निर्णय के बाद अब लव जिहाद पर कानून की तैयारी: CM तीरथ सिंह ने संतों से कहा- आपको निराश नहीं करेंगे

मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि वह पुलिस अधिकारियों के साथ इस विषय पर पहले भी चर्चा कर चुके हैं। उन्होंने बताया कि वो राज्य में लव जिहाद से संबंधित मामलों में सभी जिलों की रिपोर्ट भी ले चुके हैं जिसके आधार पर आगे का निर्णय लिया जाएगा।

गुजरात, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के बाद अब उत्तराखंड भी लव जिहाद पर कानून बनाने जा रहा है। हरिद्वार के परमधाम में विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) की केन्द्रीय मार्गदर्शक मंडल की बैठक में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि वह राज्य में लव जिहाद को लेकर चिंतित हैं और जल्दी ही उस पर सख्त कदम उठाने जा रहे हैं।

हरिद्वार के परमधाम में विहिप की केन्द्रीय मार्गदर्शक मंडल की बैठक में विहिप के कई सदस्य और साधु-संत उपस्थित थे। उन्होंने राज्य में लव जिहाद का मुद्दा उठाया। इस पर मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि साधु-संतों के आशीर्वाद से राज्य में लव जिहाद के बहुत अधिक मामले नहीं है किन्तु वह इस पर ध्यान दे रहे हैं और जल्दी ही इस पर बड़ा निर्णय लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि वह संतों को निराश नहीं करेंगे।

पुलिस अधिकारियों के साथ कर चुके हैं चर्चा :

मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि वह पुलिस अधिकारियों के साथ इस विषय पर पहले भी चर्चा कर चुके हैं। उन्होंने बताया कि वो राज्य में लव जिहाद से संबंधित मामलों में सभी जिलों की रिपोर्ट भी ले चुके हैं जिसके आधार पर आगे का निर्णय लिया जाएगा।

संतों और विहिप सदस्यों ने व्यक्त की थी चिंता :

चित्रकूट के रामचन्द्र दास ने कहा कि लव जिहाद एक सोची समझी साजिश है। उन्होंने कहा कि एक शिक्षित महिला अधिकारी भी धोखा खा सकती है तब संतों को आम नागरिकों की चिंता अवश्य करनी चाहिए।

इसके अलावा ऑनलाइन और ओटीटी प्लेटफॉर्म्स के माध्यम से धार्मिक स्थानों और संतों के विरुद्ध किए जा रहे षड्यंत्र और उनके आपत्तिजनक चित्रांकन के विषय में भी बैठक में चर्चा की गई। विहिप सदस्यों और साधुओं ने हिन्दू मंदिरों को सरकारों के नियंत्रण से मुक्त करने की माँग भी की। हालाँकि, उत्तराखंड सरकार ने हाल ही में 51 मंदिरों को सरकार के नियंत्रण से मुक्त करने का निर्णय लिया है।   

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फिर सामने आई कनाडा की दोगलई: जी-7 में शांति पाठ, संसद में आतंकी निज्जर को श्रद्धांजलि; खालिस्तानियों ने कंगारू कोर्ट में PM मोदी को...

खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर को कनाडा की संसद में न सिर्फ श्रद्धांजलि दी गई, बल्कि उसके सम्मान में 2 मिनट का मौन रखकर उसे इज्जत भी दी।

‘हमारे बारह’ पर जो बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा, वही हम भी कह रहे- मुस्लिम नहीं हैं अल्पसंख्यक… अब तो बंद हो देश के...

हाई कोर्ट ने कहा कि उन्हें फिल्म देखखर नहीं लगा कि कोई ऐसी चीज है इसमें जो हिंसा भड़काने वाली है। अगर लगता, तो पहले ही इस पर आपत्ति जता देते।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -