Thursday, June 20, 2024
Homeदेश-समाजपंचायत चुनाव से पहले बंगाल में शुरू हुई हिंसा: मुर्शिदाबाद में कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता की...

पंचायत चुनाव से पहले बंगाल में शुरू हुई हिंसा: मुर्शिदाबाद में कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता की गोली मारकर हत्या, तमंचे के साथ TMC नेता गिरफ्तार

कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता फूलचंद शेख की हत्या के बाद बढ़े तनाव के बीच 10 जून 2023 को मुर्शिदाबाद जिले के डोमकल में कॉन्ग्रेस और उसकी सहयोगी पार्टी सीपीएम के कार्यकर्ताओं ने मिलकर टीएमसी कार्यकर्ताओं पर हमला किया। इस हंगामे के बीच पुलिस ने तृणमूल कॉन्ग्रेस के स्थानीय नेता बशीर मुल्ला को एक तमंचे के साथ गिरफ्तार किया है। 

पश्चिम बंगाल में पंचायत चुनावों के नामांकन दाखिल करने के पहले ही दिन हिंसक घटनाएँ देखने को मिल रहीं हैं। मुर्शिदाबाद जिले में शुक्रवार (9 जून, 2023) को हुई स्थानीय कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता की हत्या के बाद से तनाव बना हुआ है। कॉन्ग्रेस का आरोप है कि तृणमूल कॉन्ग्रेस ने हत्या करवाई है। शनिवार (10 जून, 2023) को टीएमसी, सीपीएम और कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच हिंसक झड़प हुई। इस हिंसा के बीच पुलिस ने TMC नेता बशीर मुल्ला को तमंचे के साथ गिरफ्तार किया है।

दरअसल, पश्चिम बंगाल में 8 जुलाई को पंचायत चुनाव होने हैं। इसको लेकर शुक्रवार (9 जून, 2023) से नामांकन प्रक्रिया शुरू हो गई। इसी दिन मुर्शिदाबाद जिले के खरग्राम में स्थानीय कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता फूलचंद शेख की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। हत्या से पहले उन्हें लाठी, डंडों से पीटा गया था। इस मामले में पुलिस ने 2 लोगों को गिरफ्तार किया है। आरोपितों की पहचान काजल शेख और सफीक शेख के रूप में हुई। 

कॉन्ग्रेस का आरोप है कि बंगाल की सत्ताधारी पार्टी तृणमूल कॉन्ग्रेस के कार्यकर्ताओं ने फूलचंद की हत्या की है। इस हत्या के विरोध में कॉन्ग्रेस ने चुनाव कार्यालय के बाहर भी विरोध प्रदर्शन किया।

कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता फूलचंद शेख की हत्या के बाद बढ़े तनाव के बीच शनिवार (10 जून 2023) को मुर्शिदाबाद जिले के डोमकल में कॉन्ग्रेस और उसकी सहयोगी पार्टी सीपीएम के कार्यकर्ताओं ने मिलकर टीएमसी कार्यकर्ताओं पर हमला कर दिया। इस हंगामे के बीच पुलिस ने तृणमूल कॉन्ग्रेस के स्थानीय नेता बशीर मुल्ला को एक तमंचे के साथ गिरफ्तार किया है। 

पश्चिम बंगाल में कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता की हत्या को लेकर बीजेपी ने TMC पर निशाना साधा है। पश्चिम बंगाल भाजपा अध्यक्ष सुकांत मजूमदार ने कहा है कि अगर राज्य में कानून व्यवस्था बरकरार है तो चुनाव नजदीक आने पर ऐसी हत्याएँ क्यों होती हैं? इस हत्या के मामले में तृणमूल कॉन्ग्रेस के 2 कार्यकर्ता गिरफ्तार हुए हैं। हत्या के बाद से राज्य में जिस तरह से डर का माहौल बना दिया गया है, उससे कोई भी आगे आने की हिम्मत नहीं करेगा। 

इस मामले में कॉन्ग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा है, “यह स्पष्ट संकेत है कि टीएमसी बाहुबल का इस्तेमाल कर पंचायत चुनाव जीतने की कोशिश कर रही है। अगर टीएमसी गोलियों से जीतना चाहती है तो मतदान कराने की जरूरत नहीं है। पंचायत चुनाव से पहले टीएमसी कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं को डराने की कोशिश कर रही है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -