Sunday, July 14, 2024
Homeराजनीतिभवानीपुर में वोटिंग के दौरान हिंसा: BJP नेता पर चले लाठी-डंडे, गाड़ी भी तोड़ी,...

भवानीपुर में वोटिंग के दौरान हिंसा: BJP नेता पर चले लाठी-डंडे, गाड़ी भी तोड़ी, शाम 5 बजे तक 53% मतदान

“हमने उन्हें रंगे हाथों पकड़ा था और पुलिस को इस बारे में जानकारी दी थी। इससे वे लोग भड़क गए। कुछ देर में ही 8 से 10 लोग बाइक से आए और मुझ पर डंडों और पत्थरों से भी हमला किया। उन्होंने मेरी कार में भी तोड़फोड़ की।”

पश्चिम बंगाल के भवानीपुर विधानसभा उपचुनाव के लिए हो रहे मतदान के दौरान भाजपा और तृणमूल कॉन्ग्रेस के कार्यकर्ताओं के बीच जमकर झड़प हुई। हालाँकि बाद में वहाँ मौजूद रहे जवानों ने बीच बचाव कर दोनों दलों के कार्यकर्ताओं को वहाँ से हटाया। इसी दौरान भवानीपुर के ही शरत बोस मार्ग पर कुछ लोगों ने भाजपा नेता कल्याण चौबे की कार पर हमला कर दिया।

बता दें कि कल्याण चौबे को बीजेपी की ओर से मुख्य इलेक्शन एजेंट की जिम्मेदारी भी दी गई है। कल्याण चौबे ने वाकये की जानकारी देते हुए कहा कि एक स्कूल में बने पोलिंग बूथ में दो लोग धोखाधड़ी से वोटिंग कराने की कोशिश कर रहे थे। कल्याण चौबे ने कहा, “हमने उन्हें रंगे हाथों पकड़ा था और पुलिस को इस बारे में जानकारी दी थी। इससे वे लोग भड़क गए। कुछ देर में ही 8 से 10 लोग बाइक से आए और मुझ पर डंडों और पत्थरों से भी हमला किया। उन्होंने मेरी कार में भी तोड़फोड़ की।” 

वहीं भवानीपुर उपचुनाव के लिए भाजपा उम्मीदवार प्रियंका टिबरेवाल ने आरोप लगाया है कि टीएमसी कुछ लोगों को वोट देने के लिए भुगतान कर रही है। टिबरेवाल ने कहा कि एक व्यक्ति ने उनके सामने स्वीकार किया कि टीएमसी ने उसे वोट डालने के लिए 500 रुपए का भुगतान किया था। वह बांसड्रोनी से था। उन्होंने अधिकारियों को सूचित किया है।

हालाँकि इससे पहले दिनभर भवानीपुर में मतदान शांति पूर्ण बना रहा। पश्चिम बंगाल में समसेरगंज, जंगीपुर और भवानीपुर समेत तीन विधानसभा सीटों के लिए उपचुनाव हो रहे हैं। भवानीपुर सीट से ममता बनर्जी चुनाव मैदान में उतरी हैं। इस सीट से जीतना ममता बनर्जी के सीएम बने रहने के लिए बेहद जरूरी है। यहाँ शाम पाँच बजे तक 53 फीसदी मतदान हुआ। ममता बनर्जी ने भी डाला वोट। मुर्शिदाबाद के शमशेरगंज में 78.60 फीसदी तो जंगीपुर सीटों पर 76.12  फीसदी मतदान दर्ज किया गया। 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -