Wednesday, July 24, 2024
Homeराजनीतिपश्चिम बंगाल विधानसभा ने नूपुर शर्मा के खिलाफ पास किया 'निंदा प्रस्ताव', मौलवी ने...

पश्चिम बंगाल विधानसभा ने नूपुर शर्मा के खिलाफ पास किया ‘निंदा प्रस्ताव’, मौलवी ने कहा था – मुस्लिमों के कारण CM की कुर्सी पर हैं ममता बनर्जी

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इन बयानों को लोकसभा चुनाव 2024 से पहले विभिन्न समुदायों के बीच वैमनस्य कायम करने की एक बड़ी साजिश का हिस्सा करार दिया।

पश्चिम बंगाल की विधानसभा ने भाजपा की निलंबित नेता नूपुर शर्मा की निंदा करते हुए प्रस्ताव पारित किया है। सदन में 220 सीटों के साथ तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) बहुमत में है। सोमवार (20 जून, 2022) को ये प्रस्ताव पारित किया गया। नूपुर शर्मा भाजपा की प्रवक्ता के पद पर थीं, लेकिन पैगंबर मुहम्मद पर टिप्पणी के आरोप के बाद उन्हें निलंबित कर दिया गया। संसदीय मामलों के मंत्री पार्था चटर्जी ने इस प्रस्ताव को टेबल पर रखा।

वो ‘मेंशन ऑवर’ के दौरान इस प्रस्ताव को लेकर आए। ये एक अनशेड्यूल्ड मोशन था और इसमें किसी और का नाम नहीं था। विधानसभा में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि वो ‘कुछ नेताओं’ द्वारा दिए गए बयानों की निंदा करती हैं। उन्होंने इन बयानों को लोकसभा चुनाव 2024 से पहले विभिन्न समुदायों के बीच वैमनस्य कायम करने की एक बड़ी साजिश का हिस्सा करार दिया। इस दौरान विपक्षी दल भाजपा ने सदन से वॉकआउट किया।

इस दौरान भाजपा विधायकों ने राज्य सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की। बता दें कि TMC नूपुर शर्मा की गिरफ़्तारी की भी माँग कर चुकी है। पश्चिम बंगाल में उनके खिलाफ मामला भी एक TMC ने ही दर्ज कराया है। कोलकाता पुलिस ने उन्हें पेश होने के लिए भी कहा है, लेकिन महिला नेता ने जवाब देने के लिए 4 हफ़्तों का समय माँगा है। पश्चिम बंगाल में नूपुर शर्मा के विरोध में भयंकर दंगे भी हुए। सीएम ममता ने दंगाइयों को यूपी-गुजरात और दिल्ली में विरोध प्रदर्शन की सलाह दी थी।

याद दिलाते चलें कि एक मौलवी ने इन विरोध प्रदर्शनों के दौरान कहा था, “हम ममता बनर्जी को याद दिलाना चाहते हैं कि आप मुख्यमंत्री की कुर्सी पर मुस्लिमों के दिए गए भीख के कारण बैठी हैं। मुस्लिम समुदाय के वोट बैंक ने आपको बचाया, वरना याद कीजिए कैसे शुभेंदु अधिकारी ने आपके राजनीतिक अभियान का अंत कर दिया था। ये CM का अपमान नहीं, वास्तविकता का वर्णन है। जब सबके पास अभिव्यक्ति की आज़ादी है तो मस्जिद के इमाम के पास क्यों नहीं?

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -