Wednesday, May 18, 2022
Homeराजनीतिवामपंथियों के विरोध की सजा: जब इंदिरा सरकार ने अभिजीत बनर्जी को तिहाड़ में...

वामपंथियों के विरोध की सजा: जब इंदिरा सरकार ने अभिजीत बनर्जी को तिहाड़ में डाला था

ये विवाद एक छात्र को हॉस्टल से निकाले जाने के बाद शुरू हुआ था। जेएनयू प्रशासन ने उक्त छात्र पर दुर्व्यवहार का आरोप लगा कर निकाल दिया था, जबकि छात्रों की माँग थी कि पहले जाँच की जाए। विरोध करने के कारण अभिजीत 10 दिनों तक जेल में रहे थे। कई छात्रों सहित उनकी पिटाई भी की गई थी।

भारतीय मूल के इकोनॉमिस्ट अभिजीत बनर्जी को अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार मिला है। उनकी पत्नी एस्थर डुप्लो को भी अर्थशास्त्र का नोबेल मिला। दोनों पति-पत्नी को नोबेल मिलने के साथ ही अभिजीत बनर्जी के बयान सुर्खियाँ बनने लगे। वर्तमान आर्थिक मंदी से जुड़े बयानों को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा जाने लगा। यहाँ तक कि उनकी माँ के बयानों को लेकर भी केंद्र सरकार को आड़े हाथों लिया गया। कॉन्ग्रेस खेमे में एक ख़ुशी की लहर दौड़ी। पार्टी नेता कॉन्ग्रेस और बनर्जी के संबंधों को हाइलाइट करते हुए फूले नहीं समा रहे।

इसी बीच अभिजीत बनर्जी का इतिहास भी खंगाला जाने लगा और कुछ ऐसी बातें भी पता चलीं, जिसे कॉन्ग्रेस के लोग सुनना पसंद नहीं करेंगे। अभिजीत बनर्जी जेएनयू में पढ़ाई कर चुके हैं और यहाँ पढ़ते हुए वह तिहाड़ जेल भी जा चुके हैं। किस्सा कुछ यूँ है कि 1982-83 में जेएनयू में एक बड़ा फेरबदल हुआ। वामपंथ का गढ़ माने जाने वाले इस विश्वविद्यालय में पहली बार ऐसा हुआ कि चुनाव में वामपंथी समूह को बड़ी हार मिली। इससे जेएनयू प्रशासन भी ख़ुश नहीं था। वामपंथ के किले में हुई हार को कैम्पस में कई प्रभावशाली लोग पचा नहीं पा रहे थे।

उस समय एनआर मोहंती जेएनयू छात्र संगठन के अध्यक्ष चुने गए थे। मोहंती बाद में पत्रकारिता की दुनिया से जुड़े और ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ के साथ एक दशक तक जुड़े रहे। क़रीब 5 वर्ष उन्होंने ‘हिंदुस्तान टाइम्स’ में अपनी सेवा दी। अभिजीत बनर्जी मोहंती के बड़े समर्थक थे। जब वामपंथी उनका विरोध कर रहे थे, तब अभिजीत बनर्जी ने मोहंती का समर्थन किया था। एनआर मोहंती को कैम्पस से निष्कासित भी कर दिया गया था। ये विवाद एक छात्र को हॉस्टल से निकाले जाने के बाद शुरू हुआ था। जेएनयू प्रशासन ने उक्त छात्र पर दुर्व्यवहार का आरोप लगा कर निकाल दिया था, जबकि छात्रों की माँग थी कि पहले जाँच की जाए।

जेएनयू प्रशासन ने उक्त छात्र के कमरे में डबल लॉक लगवा दी थी। स्टूडेंट्स ने लॉक तोड़ कर उक्त छात्र की एंट्री कराई, जिसके बाद बवाल मच गया। इसलिए मोहंती को कैम्पस से निष्कासित किया गया था। इसके विरोध में छात्रों ने कुलपति का घेराव किया। अंत में दिल्ली पुलिस को दखल देना पड़ा और क़रीब 700 छात्रों को गिरफ़्तार कर के ले जाया गया। इन छात्रों में 250 लड़कियाँ थीं। अभिनीत बनर्जी को भी इसी प्रकरण में जेल में डाला गया था। उस समय इंदिरा गाँधी के नेतृत्व में केंद्र में कॉन्ग्रेस की सरकार चल रही थी।

अभिजीत बनर्जी को 10 दिनों तक जेल में रहना पड़ा था। उन पर ‘हत्या की कोशिश’ के आरोप लगाए गए थे। कई छात्रों सहित उनकी पिटाई भी की गई थी। शायद कॉन्ग्रेस इस प्रकरण को याद नहीं करना चाहे, क्योंकि ‘न्याय योजना’ पर बनर्जी के मार्गदर्शन पर छाती चौड़ी कर रही पार्टी अपने सरकार के दौरान हुई इस घटना से कन्नी ही काटना चाहेगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मंदिर तोड़ा, खजाना लूटा पर हिला नहीं सके शिवलिंग: औरंगजेब के दरबारी लेखक ने भी कबूला था, शिव महापुराण में छिपा है इसका राज़

मंदिर के तोड़े जाने का एक महत्वपूर्ण प्रमाण 'मा-असीर-ए-आलमगीरी’ नाम की पुस्तक भी है। यह पुस्तक औरंगज़ेब के दरबारी लेखक सकी मुस्तईद ख़ान ने 1710 में लिखी थी।

हनुमान चालीसा के टुकड़े-टुकड़े किए, फिर जला कर फेंक दिया: पंजाब में बेअदबी की घटना, AAP सरकार निशाने पर

पंजाब में हनुमान चालीसा की बेअदबी का मामला। बठिंडा जिले हनुमान चालीसा के जले हुए पन्ने मिलने के बाद से हिन्दू संगठनों में काफी आक्रोश है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
186,629FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe