Thursday, June 13, 2024
Homeबड़ी ख़बरगिफ्ट लेकर सवाल पूछने पर गई सांसदी, अब लोकसभा चुनाव में 'राजमाता' से टक्कर:...

गिफ्ट लेकर सवाल पूछने पर गई सांसदी, अब लोकसभा चुनाव में ‘राजमाता’ से टक्कर: कृष्णा नगर में बुरी फँसी TMC की महुआ मोइत्रा, जानिए कौन हैं BJP की अमृता रॉय

भाजपा ने पश्चिम बंगाल की कृष्णानगर लोकसभा सीट से राजमाता अमृता रॉय को उम्मीदवार बनाया है। वह तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) की उम्मीदवार महुआ मोइत्रा से मुकाबला करेंगी। महुआ को लोकसभा से कदाचार के कारण निकाल दिया गया था। अमृता रॉय को टिकट देकर भाजपा ने इस सीट पर बड़ा दांव खेला है।

अमृता रॉय का नाम भाजपा द्वारा रविवार (24 मार्च, 2024) को जारी की गई सूची में घोषित किया गया है। अमृता रॉय कृष्णा नगर के ही राजपरिवार से सम्बन्ध रखती हैं। वह वर्तमान में कृष्णा नगर की राजमाता हैं। कृष्णानगर सीट पर राजबाड़ी (राजपरिवार) का अच्छा प्रभाव है।

राजमाता अमृता रॉय ने 20 मार्च, 2024 को भाजपा की सदस्यता ली थी। उनसे पार्टी लगातार बातचीत कर रही थी। बताया गया है कि अमृता रॉय की उम्मीदवारी के पीछे जिला यूनिट का हाथ है। जिला भाजपा ने राजमाता से सम्पर्क साध कर चुनाव लड़ने का प्रस्ताव दिया था।

62 वर्षीय अमृता रॉय, सौमिष चन्द्र रॉय की पत्नी हैं। सौमिष चन्द्र रॉय कृष्णानगर की राजबाड़ी के 39वें वंशज हैं। यहाँ इस वंश के कृष्णचन्द्र रॉय का आज भी सम्मान है। वह 18वी शताब्दी में इस वंश के राजा थे। उनको प्रशासनिक सुधारों के लिए जाना जाता है।

राजमाता अमृता रॉय ला मार्टिनियर स्कूल और लोरेटो कॉलेज से पढ़ी हुई हैं और पेशे से एक फैशन कंसल्टेंट रही हैं। अभी तक यहाँ का राजपरिवार राजनीति से दूर रहा है लेकिन अब राजमाता ने चुनाव लड़ने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि उनका परिवार उनके इस निर्णय में साथ है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, भाजपा इस सीट से किसी ऐसे उम्मीदवार को उतारना चाहती थी जो पहले से जनता के बीच अपनी पहचान रखता हो। राजमाता अमृता रॉय लगातार सामाजिक कार्यक्रमों में शामिल होती रहती हैं। दुर्गा पूजा से लेकर राजपरिवार के कई कार्यक्रमों में वह शामिल रहती हैं।

कृष्णानगर सीट 2009 से ही तृणमूल कॉन्ग्रेस के पास है। 2019 में यहाँ से महुआ मोइत्रा जीती थीं। उन्होंने भाजपा के कल्याण चौबे को हराया था। हालाँकि, हार जीत का अंतर मात्र 5% वोटों का रहा था। भाजपा तब से ही यहाँ अपना संगठन मजबूत करने में जुटी है।

महुआ मोइत्रा की भी छवि पर इस बीच फर्क पड़ा है। वह संसद की आचार समिति द्वारा कारोबारी दर्शन हीरानंदानी से महंगे गिफ्ट लेकर संसद में प्रश्न पूछने की दोषी पाई गई थीं। उन्हें दिसम्बर, 2023 में संसद से निष्कासित कर दिया गया था। हालाँकि, पार्टी ने उन पर फिर से भरोसा दिखाते हुए उन्हें उम्मीदवार बनाया हिया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -