Tuesday, April 20, 2021
Home राजनीति 'महाठगबंधन' की बारात में 'तानाशाह' दीदी से लेकर दोमुँहे साँप केजरी 'सड़जी' फन...

‘महाठगबंधन’ की बारात में ‘तानाशाह’ दीदी से लेकर दोमुँहे साँप केजरी ‘सड़जी’ फन फैलाए बैठे हैं

सवाल उठता है कि आखिर ये इनका दोहरा रवैया झूठ, फ़रेब, धोखा, भ्रष्टाचार, घोटाले के अलावा इस राष्ट्र को क्या दे सकता है?

देश में जिस महागठबंधन को लेकर आज माहौल बनाया जा रहा है, वह सही मायने में ‘चोरों’ की एक ऐसी मंडली है जिसका इतिहास ही बाँटो, लूटो और राज करो का रहा है। अगर ये कहा जाए कि प्रधानमंत्री मोदी को हटाने के लिए सभी ‘चोरों’ का गिरोह एक साथ मैदान में उतर आया है तो गलत नहीं होगा। मौजूदा गाँठ जोड़ने वाली पार्टियों का सिर्फ़ एक ही लक्ष्य है कि ‘चौकीदार’ को हटाया जाए, और देश को लूटा जाए।

बिन दूल्हे की बारात जाएगी कहाँ?

सोचने वाली बात है कि बिन दूल्हे की बारात का आख़िर होगा क्या? पीएम मोदी जैसे सशक्त नेता के डर से गठबंधन तो कर लिया गया है, लेकिन गठबंधन में पीएम का विकल्प कौन होगा इस प्रश्न पर सन्नाटा है। कॉन्ग्रेस राहुल गाँधी को दूल्हा मानकर चल रही है, तो वहीं तृणमूल कॉन्ग्रेस का सपना दीदी ममता के सिर पर ताज सजाने का है। गठबंधन में शामिल हुए अलग-अलग पार्टी के दिग्गज नेताओं के मन में अलग ही रसगुल्ले इस बात को लेकर फूट रहे हैं कि शायद उनका जीवन बुढ़ापे में ही सुफल हो जाए।

खैर अब राहुल बाबा की कॉन्ग्रेस के 70 सालों के कारनामों को कौन नहीं जानता है? साम्प्रदायिकता के आधार पर देश को बाँटना हो, देश में हिंदू-मुस्लिम दंगा करवाना हो या फिर 2G, बोफ़ोर्स, कोल आवंटन, राष्ट्रमंडल खेल में करोड़ों का घोटाला करना हो, यहाँ का इतिहास घोटालों से संपन्न है। बावजूद इसके स्टालिन का कहना है कि मोदी सरकार को हराने की ताक़त, और क़ूवत राहुल गाँधी में है।

दोमुँहे साँपों का है ये महागठबंधन

दोमुँहे साँपों की अगर बात करें तो उसमें सबसे पहला नाम ‘सर केजरी’ का आता है। ये मैं नहीं कह रहा हूँ, इसका प्रमाण ‘सड़जी’ ख़ुद दे चुके हैं। जनवरी 2014 में ‘सड़जी’ ने कहा था, “मैंने भ्रष्ट लोगों की सूची बनाई है, यह सिर्फ़ शुरूआत है और सूची बढ़ेगी। मैं आपके सामने सूची पेश कर रहा हूँ, और आप तय करें कि इन लोगों को वोट दिया जाना चाहिए या नहीं? इनको हराना ही मेरा लक्ष्य है।” बता दें कि उस वक़्त ‘सड़जी’ की लिस्ट में सबसे ऊपर कॉन्ग्रेस के शहज़ादे राहुल गाँधी हुआ करते थे। खैर, ‘सड़जी’ तो इन्हें हटाते-हटाते खुद ही इनमें लिप्त हो गए।

कर्नाटक CM कुमारस्वामी चाहते हैं ममता जी के सिर पर सजे ताज

कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी की मानें तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रशासन से पूरी तरह ‘निराश’ हैं। इन्हें पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता जी में ‘कुशल प्रशासक’ दिखाई दे रहा है। स्वामी जी की मानें तो देश की अगुवाई करने की हर काबिलियत इनमें मौज़ूद है।

वहीं, दूसरी ओर कॉन्ग्रेस के पश्चिम बंगाल के नेता रंजन चौधरी की मानें तो ममता जी गिरगिट की तरह रंग बदलने वाली महिला हैं, कट्टर, चालाक, तानाशाह उन पर भरोसा नहीं किया जा सकता है। चलिए जाने अनजाने ही सही कोई खुलकर तो बोला। याद दिलाते चलें कि ये वही ममता बनर्जी हैं जो हमेशा से दोहरे आचरण को लेकर चलती आई हैं।

एक तरफ ये NRC (नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन) के मुद्दे पर असम एनआरसी से बाहर रह गए 40 लाख घुसपैठियों की बात करती थीं, वहीं दूसरी ओर 2005 में संसद में पश्चिम बंगाल में अवैध प्रवासियों के ख़िलाफ़ स्थगन प्रस्ताव लेकर अपनी ही बात का खंडन किया। इन सब के बावज़ूद ममता जी 2018 में NRC को लेकर बीजेपी पर हमला करती हैं और कहती हैं कि 40 लाख लोग पूरी तरह भारतीय हैं।

ममता जी पर तानाशाही का आरोप भी लग चुका है, याद दिला दें कि पश्चिम बंगाल की ममता दीदी की रैली में सवाल पूछने वाले एक व्यक्ति को गिरफ़्तार करने का आदेश दे दिया गया था। क्योंकि उसने ये कह दिया था कि किसान मर रहे हैं और खोखले वादे से काम नहीं चलेगा। अब आप सोच सकते हैं कि ममता जी के पास कितनी ममता है, और राष्ट्र के लिए वो कितनी उपयोगी प्रधानमंत्री साबित हो सकती हैं।

झूठ, फ़रेब, धोखा, भ्रष्टाचार के अलावा कुछ नहीं देगा महागठबंधन

‘मुँह में राम बगल में छूरी’ की कहावत पूरी तरह से ‘महागठबंधन’ के प्रत्येक पार्टी और नेताओं पर सटीक बैठता है। ये वही पार्टियाँ हैं, जिनके पास राष्ट्र के लिए कोई विज़न नहीं है। दशकों से एक दूसरे से लड़ती-झगड़ती, आरोप-प्रत्यारोप लगाते हुए राजनीति करती आई हैं। सवाल उठता है कि अगर सत्ता में आईं तो राष्ट्र और राष्ट्र के नागरिकों के लिए क्या करेंगे? क्योंकि वोट बैंक की राजनीति और सत्ता में आना ही इनका एक मात्र लक्ष्य है।

ये पार्टियाँ एक तरफ संसद में जीएसटी, आर्थिक आधार पर आरक्षण देने वाले बिल पर पूरा समर्थन देती हैं, वहीं दूसरी और संसद के बाहर राष्ट्रहित के इन पैमानों की जमकर आलोचना करती हैं। इनके लिए केवल सत्ता पाना ही सब कुछ है, भले ही इसके लिए कितना भी झूठ और अफ़वाह क्यों न फै़लाया जाए। सवाल उठता है कि आखिर ये इनका दोहरा रवैया झूठ, फ़रेब, धोखा, भ्रष्टाचार, घोटाले के अलावा इस राष्ट्र को क्या दे सकता है?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी में दूसरी बार बिना मास्क धरे गए तो ₹10,000 जुर्माने के साथ फोटो भी होगी सार्वजनिक, थूकने पर 500 का फटका

उत्तर प्रदेश में पब्लिक प्लेस पर थूकने वालों के खिलाफ सख्ती करने का आदेश जारी किया गया है। इसके तहत यदि कोई व्यक्ति पब्लिक प्लेस में थूकते हुए पकड़ा गया तो उस पर 500 रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा।

हाँ, हम मंदिर के लिए लड़े… क्योंकि वहाँ लाउडस्पीकर से ऐलान कर भीड़ नहीं बुलाई जाती, पेट्रोल बम नहीं बाँधे जाते

हिंदुओं को तीन बातें याद रखनी चाहिए, और जो भी ये मंदिर-अस्पताल की घटिया बाइनरी दे, उसके मुँह पर मार फेंकनी चाहिए।

दिल्ली-महाराष्ट्र में लॉकडाउन: राहुल गाँधी ने एक बार फिर राज्यों की नाकामी के लिए मोदी सरकार को ठहराया जिम्मेदार

"प्रवासी एक बार फिर पलायन कर रहे हैं। ऐसे में केंद्र सरकार की जिम्मेदारी है कि उनके बैंक खातों में रुपए डाले। लेकिन कोरोना फैलाने के लिए जनता को दोष देने वाली सरकार क्या ऐसा जन सहायक कदम उठाएगी?"

‘मजदूरों की 2020 जैसी न हो दुर्दशा’: हाई कोर्ट ने दिल्ली सरकार को चेताया, CM केजरीवाल की पत्नी को कोरोना

दिल्ली में प्रवासियों मजदूरों को हुई पीड़ा पर हाई कोर्ट ने केजरीवाल सरकार को फटकार लगाई है। इस बीच सीएम ने पत्नी के संक्रमित होने के बाद खुद को क्वारंटाइन कर लिया है।

‘पूर्ण लॉकडाउन हल नहीं, जान के साथ आजीविका बचाने की भी जरुरत’: SC ने इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले पर लगाई रोक

इलाहाबाद कोर्ट के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने आज रोक लगा दी। इस मामले में योगी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट का रुख करते हुए अपनी अपील में कहा था कि हाईकोर्ट को ऐसे फैसले लेने का अधिकार नहीं है।

आपके शहर में कब और कितना कहर बरपाएगा कोरोना, कब दम तोड़ेगी संक्रमण की दूसरी लहर: जानें सब कुछ

आप कहॉं रहते हैं? मुंबई, दिल्ली या चेन्नई में। या फिर बिहार, यूपी, झारखंड या किसी अन्य राज्य में। हर जगह का हाल और आने वाले कल का अनुमान।

प्रचलित ख़बरें

‘वाइन की बोतल, पाजामा और मेरा शौहर सैफ’: करीना कपूर खान ने बताया बिस्तर पर उन्हें क्या-क्या चाहिए

करीना कपूर ने कहा है कि वे जब भी बिस्तर पर जाती हैं तो उन्हें 3 चीजें चाहिए होती हैं- पाजामा, वाइन की एक बोतल और शौहर सैफ अली खान।

‘छोटा सा लॉकडाउन, दिल्ली छोड़कर न जाएँ’: इधर केजरीवाल ने किया 26 अप्रैल तक कर्फ्यू का ऐलान, उधर ठेकों पर लगी कतार

केजरीवाल सरकार ने 26 अप्रैल की सुबह 5 बजे तक तक दिल्ली में लॉकडाउन की घोषणा की है। इस दौरान स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त कर लेने का भरोसा दिलाया है।

नासिर ने बीड़ी सुलगाने के लिए माचिस जलाई, जलती तीली से लाइब्रेरी में आगः 3000 भगवद्गीता समेत 11 हजार पुस्तकें राख

कर्नाटक के मैसूर की एक लाइब्रेरी में आग लगने से 3000 भगवद्गीता समेत 11 हजार पुस्तकें राख हो गई थी। पुलिस ने सैयद नासिर को गिरफ्तार किया है।

‘सुअर के बच्चे BJP, सुअर के बच्चे CISF’: TMC नेता फिरहाद हाकिम ने समर्थकों को हिंसा के लिए उकसाया, Video वायरल

TMC नेता फिरहाद हाकिम का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल है। इसमें वह बीजेपी और केंद्रीय सुरक्षा बलों को 'सुअर' बता रहे हैं।

‘मैं इसे किस करूँगी, हाथ लगा कर दिखा’: मास्क के लिए टोका तो पुलिस पर भड़की महिला, खुद को बताया SI की बेटी-UPSC टॉपर

महिला ने धमकी देते हुए कहा कि उसका बाप पुलिस में SI के पद पर है। साथ ही दिल्ली पुलिस को 'भिखमंगा' कह कर सम्बोधित किया।

‘F@#k Bhakts!… तुम्हारे पापा और अक्षय कुमार सुंदर सा मंदिर बनवा रहे हैं’: कोरोना पर घृणा की कॉमेडी, जानलेवा दवाई की काटी पर्ची

"Fuck Bhakts! इस परिस्थिति के लिए सीधे वही जिम्मेदार हैं। मैं अब भी देख रहा हूँ कि उनमें से अधिकतर अभी भी उनका (पीएम मोदी) बचाव कर रहे हैं।"
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,213FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe