Thursday, January 27, 2022
Homeराजनीति'बुलडोजर चलाना नफरत है, तो जारी रहेगी': राहुल गाँधी को CM योगी ने दिया...

‘बुलडोजर चलाना नफरत है, तो जारी रहेगी’: राहुल गाँधी को CM योगी ने दिया करारा जवाब

सीएम योगी ने लिखा, ''जिन्ह के रही भावना जैसी। प्रभु मूरति तिन्ह देखी तैसी। और हाँ श्रीमान राहुल जी! अपराधियों और उपद्रवियों के साम्राज्य पर बुलडोजर चलाना अगर नफरत है, तो ये नफरत अनवरत जारी रहेगी।''

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार (14 सितंबर 2021) को कॉन्ग्रेस नेता राहुल गाँधी को करारा जवाब दिया। दरअसल, कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और वायनाड से सांसद राहुल गाँधी ने ट्वीट किया था, “जो नफरत करे वो योगी कैसा।” इसको लेकर CM योगी ने बेहद शालीनता से उन्हें ट्वीट के माध्यम से ही जवाब दिया।

राहुल गाँधी के ट्वीट का स्क्रीन शॉट

मुख्यमंत्री ने योगी आदित्यनाथ ऑफिस के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर रामचरितमानस की पंक्तियाँ लिखकर राहुल को करारा जबाब दिया है। सीएम योगी ने लिखा, ”जिन्ह के रही भावना जैसी। प्रभु मूरति तिन्ह देखी तैसी। और हाँ श्रीमान राहुल जी! अपराधियों और उपद्रवियों के साम्राज्य पर बुलडोजर चलाना अगर नफरत है, तो ये नफरत अनवरत जारी रहेगी।” ट्वीट में सबसे पहले लिखी गई पंक्तियों का अर्थ है एक व्यक्ति भगवान को उसी तरह से देखता है जैसी उसकी भावना और भक्ति भगवान के लिए होती है।

बता दें कि देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। इसको लेकर राजनीतिक दलों ने अपनी कमर कस ली है। हालाँकि, इनमें से कॉन्ग्रेस नेता राहुल गाँधी और एआईएमआईएम के मुखिया असदुद्दीन औवेसी जैसे कुछ ऐसे बड़े नेता भी हैं, जो उत्तर प्रदेश में अपनी राजनीतिक जमीन तलाशने के लिए लोगों को उकसाने और अपमानजनक टिप्पणियाँ करने से बाज नहीं आ रहे हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘योगी जैसा मुख्यमंत्री मुलायम सिंह और अखिलेश भी नहीं रहे’: सपा के खिलाफ प्रचार पर बोलीं अपर्णा यादव- ‘पार्टी जो कहेगी करूँगी’

अपर्णा यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तारीफ करते हुए कहा कि उन्हें मेरा समाजसेवा का काम दिखा था, जबकि अखिलेश यह नहीं देख पाए।

धर्मांतरण के दबाव से मर गई लावण्या, अब पर्दा डाल रही मीडिया: न्यूज मिनट ने पूछा- केवल एक वीडियो में ही कन्वर्जन की बात...

लावण्या की आत्महत्या पर द न्यूज मिनट कहता है कि वॉर्डन ने अधिक काम दे दिया था, जिससे लावण्या पढ़ाई में पिछड़ गई थी और उसने ऐसा किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
153,876FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe