Thursday, August 5, 2021
Homeवीडियो'एक बेटा तो चला गया, कोर्ट-कचहरी में फँसेंगे तो वो बाकियों को भी मार...

‘एक बेटा तो चला गया, कोर्ट-कचहरी में फँसेंगे तो वो बाकियों को भी मार देंगे’: बंगाल पुलिस की क्रूरता के शिकार एक परिवार का दर्द

जब उन्हें अपने बेटे को गोली लगने की खबर मिली, तब दिन के साढ़े 10 बज रहे थे और वो रोटी बना रही थीं। उन्होंने कहा कि जब उन्होंने अपने बेटे से पूछा था कि वो रोटी खाएगा, तो उसने आराम से बनाने को कहा था और साथ ही घूम कर जल्द आने की बात कही थी। लेकिन, लौटी तो सिर्फ उनकी लाश।

पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हिंसा आम बात है। इसी तरह की एक घटना बैरकपुर थाना क्षेत्र के भाटपाड़ा में जून 25, 2019 को भी हुई थी, जब रिलायंस जूट मिल पर कुछ गुंडों ने बम फेंके थे। पुलिस ने उसके बाद अंधाधुंध फायरिंग शुरू की, जिसमें रामबाबू साव नामक एक व्यक्ति की सिर में गोली लगने से मौत हो गई। यानी, पुलिस ने बिना कुछ किसी को बताए गोलीबारी की और युद्ध की स्थिति बनाते हुए नियम-कायदों का पालन नहीं किया।

ऑपइंडिया के संपादक अजीत भारती ने मृतक रामबाबू साव की माँ के साथ बातचीत की, जिन्होंने बताया कि जब उन्हें अपने बेटे को गोली लगने की खबर मिली, तब दिन के साढ़े 10 बज रहे थे और वो रोटी बना रही थीं। उन्होंने कहा कि जब उन्होंने अपने बेटे से पूछा था कि वो रोटी खाएगा, तो उसने आराम से बनाने को कहा था और साथ ही घूम कर जल्द आने की बात कही थी। लेकिन, लौटी तो सिर्फ उनकी लाश।

रामबाबू साव कि उम्र 18 वर्ष के करीब थी। जून महीने में ही 12 तारीख को उनका जन्मदिन था। पाँचवीं के बाद उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी थी और एक दुकान में बैठ कर कमाते थे। रामबाबू की चाची ने बताया कि वो अपने बच्चे को लेकर स्कूल गई थीं, तभी रामबाबू ने कहा कि वो कचौड़ी लेकर आ रहे हैं, जिसके बाद सीधा खबर आई कि दंगा हो गया है और उसे गोली लगी है। जब चाची वहाँ गई तो पुलिस ने उन्हें रोक दिया।

रामबाबू को अस्पताल में भर्ती कराया गया। ये सब कुछ दंगों के बीच ही हो रहा था। उन्होंने बताया कि उन्हें अस्पताल में रामबाबू के मृत होने की बात कही गई। मृतक की चाची का कहना है कि दंगा न तो हिन्दू-मुस्लिम का था और न ही दो पक्षों का, बम फेंकने के बाद ये शुरू हो गया। उन्होंने बताया कि रामबाबू पार्टी-पॉलिटिक्स में नहीं रहता था। उन्होंने बताया कि केस कहाँ तक पहुँचा है, उन्हें नहीं पता। कभी कोर्ट में भी उन्हें नहीं बुलाया गया।

चाची ने बताया कि नेताओं ने आकर 10 लाख रुपए देने का आश्वासन दिया था, लेकिन ममता सरकार की तरफ से कुछ नहीं आया। हाँ, भाजपा नेताओं ने उन्हें 4.5 लाख रुपए दिए हैं। जबकि TMC वाले देखने और समाचार लेने तक नहीं आए – ऐसा परिजनों का कहना है। पीड़ित परिवार दशकों से उसी इलाके में बसा हुआ है। परिजनों का सोचना है कि वो कोर्ट-कचहरी के झमेले में नहीं पड़ते हैं, नहीं तो वो दूसरे को गोली मार देंगे।

मृतक रामबाबू के परिवार से ऑपइंडिया ने की बातची

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारती
पूर्व सम्पादक (फ़रवरी 2021 तक), ऑपइंडिया हिन्दी

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जब मनमोहन सिंह PM थे, कॉन्ग्रेस+ की सरकार थी… तब हॉकी टीम के खिलाड़ियों को जूते तक नसीब नहीं थे

एक दशक पहले जब मनमोहन सिंह के नेतृत्व में कॉन्ग्रेस नीत यूपीए की सरकार चल रही थी, तब हॉकी टीम के कप्तान ने बताया था कि खिलाड़ियों को जूते भी नसीब नहीं हैं।

UP के ‘मुंगेरीलाल’, दिन में देख रहे ख्वाब: अखिलेश के 400 विधायक जीतेंगे, प्रियंका गाँधी बनेंगी CM, बीजेपी को कैंडिडेट भी नहीं मिलेंगे

तिवारी ने बताया कि फिलहाल समाजवादी पार्टी या किसी अन्य राजनैतिक दल से गठबंधन की कोई बात नहीं चल रही है लेकिन प्रियंका ने कहा था कि कॉन्ग्रेस का लक्ष्य 2022 में भाजपा को हराना है और इसके लिए कॉन्ग्रेस हर तरह का राजनीतिक गठबंधन करने को तैयार है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,091FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe