Monday, June 17, 2024
Homeदेश-समाजअरबाज ने दलित युवती को फँसाया, फिर शाहनवाज और फारूक संग मिल कर किया...

अरबाज ने दलित युवती को फँसाया, फिर शाहनवाज और फारूक संग मिल कर किया गैंगरेप: तीनों राजस्थान पुलिस की पहुँच से बाहर

आरोपित अरबाज युवती को पहले झुंझुनूं लेकर गया, वहाँ उसने शादी का वास्ता देकर उसका रेप किया। इसके बाद अपने घरवालों से मिलवाने की बात कहकर वह युवती को बस में बैठाकर सीकर लेकर चला गया। सीकर में वह अपने दोस्त शहनवाज और फारुक को बुला लिया और युवती को लेकर एक होटल में गया। वहाँ तीनों ने युवती के साथ गैंगरेप किया।

राजस्थान के चुरू जिले (Churu, Rajasthan) में एक दलित युवती को प्रेमजाल में फँसाने और फिर अपहरण कर साथियों के साथ मिलकर उसका गैंगरेप करने का मामला सामने आया है। इस मामले में पुलिस ने अरबाज और उसके साथियों सहित तीन लोगों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज खोजबीन कर रही है।

चुरू शहर के अग्रसेन नगर निवासी 22 साल की दलित युवती से गैंगरेप के मामले में पुलिस ने अरबाज धोबी, उसके दोस्त शहनवाज खत्री और फारूक खत्री के खिलाफ गैंगरेप में मामला दर्ज किया है। आरोपितों के खिलाफ पुलिस ने ST-SC एक्ट भी लगाया है। सारे आरोपित फरार हैं और पुलिस उनकी तलाश कर रही है।

चूरू महिला थाना प्रभारी सुखराम चोटिया के अनुसार, मुख्य आरोपित अरबाज ने युवती को शादी का झाँसा देकर अपने प्रेमजाल में फँसा लिया था। 19 सितंबर 2022 को अरबाज ने युवती को बुलाया और जान से मारने की धमकी देकर उसे अपनी कार में अपहरण कर लिया।

आरोपित अरबाज युवती को पहले झुंझुनूं लेकर गया, वहाँ उसने शादी का वास्ता देकर उसका रेप किया। इसके बाद अपने घरवालों से मिलवाने की बात कहकर वह युवती को बस में बैठाकर सीकर लेकर चला गया। सीकर में वह अपने दोस्त शहनवाज और फारूक को बुला लिया और युवती को लेकर एक होटल में गया। वहाँ तीनों ने युवती के साथ गैंगरेप किया।

अगले दिन 20 सितंबर 2022 को युवती किसी तरह आरोपियों के चंगुल से निकलकर अपने घर पहुँची। वहाँ पीड़िता ने अपनी माँ को पूरी घटना बताई। इसके बाद पीड़िता परिजनों के साथ थाने पहुँची और आरोपितों के खिलाफ मामला दर्ज कराया।

पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने तीनों आरोपितों के खिलाफ IPC (भारतीय दण्ड संहिता) की धारा 376(2) (एन), 376D, 366 और SC-ST एक्ट की धारा 3(2)(v) के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया। पीड़िता का मेडिकल करवाने के बाद पुलिस आरोपितों की तलाश में जुटी है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बकरों के कटने से दिक्कत नहीं, दिवाली पर ‘राम-सीता बचाने नहीं आएँगे’ कह रही थी पत्रकार तनुश्री पांडे: वायर-प्रिंट में कर चुकी हैं काम,...

तनुश्री पांडे ने लिखा था, "राम-सीता तुम्हें प्रदूषण से बचाने के लिए नहीं आएँगे। अगली बार साफ़-स्वच्छ दिवाली मनाइए।" बकरीद पर बदल गए सुर।

पावागढ़ की पहाड़ी पर ध्वस्त हुईं तीर्थंकरों की जो प्रतिमाएँ, उन्हें फिर से करेंगे स्थापित: गुजरात के गृह मंत्री का आश्वासन, महाकाली मंदिर ने...

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि किसी भी ट्रस्ट, संस्था या व्यक्ति को अधिकार नहीं है कि इस पवित्र स्थल पर जैन तीर्थंकरों की ऐतिहासिक प्रतिमाओं को ध्वस्त करे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -