Monday, July 26, 2021
Homeरिपोर्टवन्दे भारत एक्सप्रेस का किराया रेलवे ने कम किया

वन्दे भारत एक्सप्रेस का किराया रेलवे ने कम किया

सोमवार को वन्दे भारत एक्सप्रेस के किराए को लेकर ख़बर आई थी कि इसके चेयर कार का किराया शताब्दी एक्सप्रेस के मुकाबले 1.5 गुना और एग्जीक्यूटिव क्लास का 1.4 गुना ज़्यादा था।

नई दिल्ली से वाराणसी के बीच चलने के लिए तैयार देश की सबसे तेज गति वाली सेमी स्पीड ट्रेन ‘वन्दे भारत एक्सप्रेस’ का किराया घटा दिया गया है। बता दें कि 15 फरवरी को प्रधानमंत्री मोदी इस ट्रेन का उद्घाटन करने वाले हैं।

सोमवार (फ़रवरी 11, 2019) को वन्दे भारत एक्सप्रेस के किराए को लेकर ख़बर आई थी कि इसके चेयर कार का किराया शताब्दी एक्सप्रेस के मुकाबले 1.5 गुना और एग्जीक्यूटिव क्लास का 1.4 गुना ज़्यादा था। अब इस ट्रेन का किराया और घटा दिया गया है।

दिल्ली से वाराणसी के बीच चलने वाली इस ट्रेन का प्रस्तावित किराया चेयर कार के लिए 1850 रुपए से घटाकर 1760 रुपए और एक्जीक्यूटिव क्लास के लिए 3520 से घटाकर 3310 रुपए कर दिया गया है। यह आदेश भारतीय रेलवे ने दिया है।

वापसी में वाराणसी से दिल्ली आते वक़्त चेयर कार की दर 1795 से घटाकर 1700 रुपए और एग्जीक्यूटिव क्लास का टिकेट 3470 से कम कर 3260 रुपए तय की गई है। सेमी हाई स्पीड ट्रेन का किराया शताब्दी से थोड़ा ही ज़्यादा है।

चेयरकार और एग्जीक्यूटिव क्लास में सुबह का चाय, नाश्ता और लंच की दर दोनों श्रेणियों के लिए अलग-अलग है। दिल्ली से वाराणसी की यात्रा में एग्जीक्यूटिव क्लास के लिए यह 399 रुपए है जबकि चेयर कार के लिए यह 344 रुपए। वाराणसी से नई दिल्ली की यात्रा में यह दर घट कर 349 रुपए और 288 रुपए ही है। कम दूरी की यात्रा जैसे नई दिल्ली से कानपुर और प्रयागराज तक के लिए यह दर क्रमशः 155 रुपए और 122 रुपए है। उपरोक्त सभी दरें किराए में शामिल हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पेगासस पर भड़के उदित राज, नंगी तस्वीरें वायरल होने की चिंता: लोगों ने पूछा – ‘फोन में ये सब रखते ही क्यों हैं?’

पूर्व सांसद और खुद को 'सबसे बड़ा दलित नेता' बताने वाले उदित राज ने आशंका जताई कि पेगासस ने कितनों की नंगी तस्वीर भेजी होगी या निजता का उल्लंघन किया होगा।

कारगिल के 22 साल: 16 की उम्र में सेना में हुए शामिल, 20 की उम्र में देश पर मर मिटे

सुनील जंग ने छलनी सीने के बावजूद युद्धभूमि में अपने हाथ से बंदूक नहीं गिरने दी और लगातार दुश्मनों पर वार करते रहे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,222FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe