अल-क़ायदा और IS कर सकते हैं हमला, गोवा समेत दिल्ली, मुंबई में अलर्ट जारी

ख़ुफ़िया एजेंसियों ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि मुंबई में इजरायली दूतावास, महावाणिज्यिक दूतावास के अलावा छाबड़ हाऊस की सुरक्षा और निगरानी तत्काल प्रभाव से बढ़ाई जाए।

भारत की ख़ुफ़िया एजेंसियों ने गोवा, मुंबई और दिल्ली में अल-क़ायदा और इस्लामिक स्टेट (IS) द्वारा आतंकी हमला होने की संभावना जताई है। इस संभावना के चलते स्थानीय पुलिस प्रशासन को अलर्ट भी जारी कर दिया गया। गोवा पुलिस ने कहा कि राज्य में इज़रायली पर्यटकों पर इस्लामिक आतंकवादियों द्वारा ‘संभावित बदले’ के रूप में हमला किया जा सकता है।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि उन्हें इज़रायल के पर्यटकों के अलावा उत्तरी गोवा में एक प्रार्थना घर को भी सुरक्षित रखना होगा। यह आतंकी हमला इस्लामिक स्टेट या अल-क़ायदा द्वारा न्यूज़ीलैंड की मस्जिद में हुई हत्याओं का बदला लेने के लिए किया जा सकता है।

ख़बर के अनुसार, वर्तमान में कई दर्जन इज़रायली यहूदी गोवा में लंबे समय तक वीजा पर हैं और वे अक्सर उत्तरी गोवा के छाबड़ हाउस में प्रार्थना करने के लिए इकट्ठे होते हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

कथित तौर पर अन्य राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को भी अलर्ट जारी किया गया है, जिसमें यहूदी आराधनालयों समेत वो जगह भी शामिल हैं जहाँ इज़रायली पर्यटक निवास करते हैं। टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार, चाकू को भी एक हथियार के तौर पर हमले के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। ख़ुफ़िया एजेंसियों ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि मुंबई में इज़रायली दूतावास, महावाणिज्यिक दूतावास के अलावा छाबड़ हाऊस की सुरक्षा और निगरानी तत्काल प्रभाव से बढ़ाई जाए।

हाल के दिनों में, इस्लामी आतंकवादी समूहों से जुड़े आतंकवादियों ने लोगों को मारने के लिए वाहनों का उपयोग किया गया। पुलवामा आतंकी हमले में भी, आत्मघाती बम विस्फोट के लिए एक वाहन का ही इस्तेमाल किया गया था। यूरोप में, पैदल यात्रियों के ऊपर आतंकवादियों ने ट्रक चढ़ा दिए।

बता दें कि शुक्रवार (15 मार्च) की सुबह न्यूज़ीलैंड के क्राइस्टचर्च शहर के अल नूर मस्जिद में गोलीबारी हुई थी जिसमें कई लोगों के हताहत होने की ख़बर थी। इस घटना के बारे में न्यूज़ीलैंड पुलिस ने अपने बयान में क्राइस्टचर्च में गंभीर स्थिति पैदा होने की स्थिति को स्वीकारा था हमले से बिगड़ते हालात में शहर के सभी स्कूलों को बंद कर दिया गया था और भीड़भाड़ वाले इलाक़े से बचने की सलाह दी गई थी। इस आतंकी हमले में कम से कम 49 लोग मारे गए थे।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू छात्र विरोध प्रदर्शन
गरीबों के बच्चों की बात करने वाले ये भी बताएँ कि वहाँ दो बार MA, फिर एम फिल, फिर PhD के नाम पर बेकार के शोध करने वालों ने क्या दूसरे बच्चों का रास्ता नहीं रोक रखा है? हॉस्टल को ससुराल समझने वाले बताएँ कि JNU CD कांड के बाद भी एक-दूसरे के हॉस्टल में लड़के-लड़कियों को क्यों जाना है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,491फैंसलाइक करें
22,363फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: