Thursday, June 30, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय1000+ मौतें और 1500 से अधिक घायल: अफगानिस्तान में भूकंप से 3000+ घर धराशायी,...

1000+ मौतें और 1500 से अधिक घायल: अफगानिस्तान में भूकंप से 3000+ घर धराशायी, धीरे-धीरे सामने आ रही तबाही की तस्वीर

अफगानिस्तान के प्राकृतिक आपदा प्रबंधन राज्य मंत्रालय के उप मंत्री मवलवी शराफुद्दीन मुस्लिम ने भूकंप में मारे गए लोगों के परिवारों के लिए 100,000 अफगानी और घायलों को 50,000 अफगानी की सहायता देने का ऐलान किया है।

अफगानिस्तान (Afghanistan) में बुधवार को (22 जून 2022) को आए 6.1 मैगेनीट्यूड की तीव्रता वाले एक शक्तिशाली भूकंप (Earthquake) में कम से कम 1,000+ लोगों के मारे जाने की खबर सामने आई है। हादसे के दूसरे दिन दावा किया जा रहा है कि इस आपदा में कम से कम 1,500 से अधिक लोग घायल हुए हैं। भूकंप के कारण अफगानिस्तान में बड़े पैमाने पर जान-माल का नुकसान हुआ है।

रिपोर्ट के मुताबिक, कम से कम भूकंप के कारण 3000+ घर धराशाई हो गए हैं। बताया जा रहा है कि भूकंप का केंद्र पाकिस्तान से सटे पक्तिका प्रान्त में था। यूनाइटेड स्टेट्स जियोलॉजिकल सर्वे ने कहा कि 6.1 तीव्रता का भूकंप पाकिस्तानी सीमा के पास खोस्त शहर से लगभग 44 किमी (27 मील) दूर, 51 किमी (31 मील) की गहराई पर आया।

शीर्ष तालिबान सेना के एक प्रवक्ता ने कहा कि कमजोर टेलीफोन नेटवर्क के कारण राहत और बचाव कार्यों में खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। ये दो दशकों में अफगानिस्तान का सबसे घातक भूकंप था। आशंका है कि मृतकों की संख्या बढ़ सकती है।

स्थानीय न्यूज चैनल टोलो न्यूज के मुताबिक, तालिबान सरकार ने भूकंप से प्रभावित लोगों की मदद के लिए 1 अरब अफगानी (87.53 करोड़ रुपये के बराबर) का पैकेज जारी किया है। अफगानिस्तान के प्राकृतिक आपदा प्रबंधन राज्य मंत्रालय के उप मंत्री मवलवी शराफुद्दीन मुस्लिम ने भूकंप में मारे गए लोगों के परिवारों के लिए 100,000 अफगानी और घायलों को 50,000 अफगानी की सहायता देने का ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि देश के प्रधानमंत्री के आदेश पर ये निर्णय लिया गया है।

इसके साथ ही तालिबानी नेता ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से भूकंप के कारण हुए विनाश से उबरने में इस्लामी अमीरात की मदद करने की अपील की है।

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी अफगानिस्तान में भूकंप से हुई तबाही पर संवेदना जाहिर करते हुए मानवीय मदद की पेशकश की है। इसके अलावा पाकिस्तान, जापान और दक्षिण कोरिया जैसे कई अन्य देशों ने भी सहायता का ऐलान किया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,188FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe