Monday, June 17, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'PM मोदी बॉस हैं, रॉकस्टार का भी नहीं हुआ ऐसा स्वागत': सिडनी के कार्यक्रम...

‘PM मोदी बॉस हैं, रॉकस्टार का भी नहीं हुआ ऐसा स्वागत’: सिडनी के कार्यक्रम में बोले ऑस्ट्रेलियाई PM, गूँजा वैदिक मंत्रोच्चार

ऑस्ट्रेलियाई पीएम ने कहा कि जैसा स्वागत पीएम मोदी को मिल रहा है, वैसे ब्रूस स्प्रिंगस्टीन को भी नहीं मिला था। उन्होंने कहा, "प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बॉस हैं।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फ़िलहाल ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर हैं। सिडनी स्थित कुडोस बैंक एरिना में भारतीय समुदाय का एक भव्य कार्यक्रम चल रहा है, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा उनके ऑस्ट्रेलियाई समकक्ष एंथोनी अल्बानीज भी पहुँचे हैं। पीएम मोदी का स्वागत भारतीय परंपरागत तरीके से किया गया। हजारों लोग इस कार्यक्रम में पहुँचे हुए हैं। जब वो कार्यक्रम स्थल पर पहुँचे, तो हजारों लोगों के आवाज़ से एरिना गूँज उठा।

दोनों प्रधानमंत्रियों ने भी हाथ हिला कर लोगों का अभिवादन स्वीकार किया। पीएम मोदी भारतीय समुदाय को संबोधित भी करने वाले हैं। लोगों ने ‘मोदी-मोदी’ के नारे के साथ उनका भव्य स्वागत किया। इस दौरान पीएम मोदी मजाकिया लहजे में ऑस्ट्रेलियाई पीएम एंथोनी एल्बानीज के कान में कुछ कहते भी नजर आए, जिसके बाद दोनों हँस पड़े। फिर भारत और ऑस्ट्रेलिया का राष्ट्रगान हुआ। पंडितों ने वैदिक मंत्रोच्चार के साथ पीएम मोदी का स्वागत किया।

भारत से हजारों किलोमीटर दूर ऑस्ट्रेलिया जैसे बड़े देश के प्रधानमंत्री के सामने वैदिक मंत्रों का उच्चारण हुआ। ऑस्ट्रेलियाई पीएम ने कहा कि पिछली बार उन्होंने इस मंच पर ब्रूस स्प्रिंगस्टीन को देखा था। बता दें कि ब्रूस स्प्रिंगस्टीन को अमेरिका सहित अंग्रेजी संगीत के अन्य प्रेमी आइकॉन मानते हैं। ‘E स्ट्रीट बैंड’ के साथ उनकी जुगलबंदी के करोड़ों लोग दीवाने हैं। अपने 6 दशक के करियर में 73 वर्षीय ब्रूस ने 21 स्टूडियो एल्बम जारी किए, जो चार्टबस्टर रहे।

ऑस्ट्रेलियाई पीएम ने कहा कि जैसा स्वागत पीएम मोदी को मिल रहा है, वैसे ब्रूस स्प्रिंगस्टीन को भी नहीं मिला था। उन्होंने कहा, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बॉस हैं।” ऑस्ट्रेलियाई पीएम ने इस दौरान अपने भारत दौरे को याद करते हुए कहा कि उन्होंने गुजरात में होली खेली थी और दिल्ली में महात्मा गाँधी की समाधि पर माल्यार्पण किया था। उन्होंने कहा कि अगर भारत को समझना है तो ट्रेन या बस से यात्रा कीजिए। उन्होंने भारतीय समुदाय को भी सराहा।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पावागढ़ की पहाड़ी पर ध्वस्त हुईं तीर्थंकरों की जो प्रतिमाएँ, उन्हें फिर से करेंगे स्थापित: गुजरात के गृह मंत्री का आश्वासन, महाकाली मंदिर ने...

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि किसी भी ट्रस्ट, संस्था या व्यक्ति को अधिकार नहीं है कि इस पवित्र स्थल पर जैन तीर्थंकरों की ऐतिहासिक प्रतिमाओं को ध्वस्त करे।

रेड सिग्नल पार करने वाली ट्रेनों को भी रोक देता है कवच, फिर क्यों कंचनजंगा एक्सप्रेस से भिड़ गई मालगाड़ी: जानिए सब कुछ

न्यू जलपाई गुड़ी में हुए रेल हादसे के बाद कवच पर चर्चा चालू हो गई है। जिस रूट पर हादसा हुआ है, वहाँ अभी कवच सिस्टम नहीं लगा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -