Friday, July 19, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयपाकिस्तान में अब Samsung के QR कोड को लेकर ईशनिंदा का आरोप, कट्टरपंथी इस्लामिक...

पाकिस्तान में अब Samsung के QR कोड को लेकर ईशनिंदा का आरोप, कट्टरपंथी इस्लामिक संगठन तहरीक-ए-लब्बैक ने शहर भर में जलाए कंपनी के बैनर

पैगंबर मुहम्मद की निन्दा और अपमान के नाम पर गैर-मुस्लिमों के खिलाफ हिंसा और बर्बरता की असंख्य रिपोर्टें हैं। पाकिस्तान में ईशनिंदा के नाम पर किसी को काट देना या जिंदा जला देना आम घटना सी है। इसमें वहाँ की न्यायपालिका भी चाह कर कुछ नहीं कर पाती है।

पाकिस्तान के कराची में मोबाइल कंपनी सैमसंग (Samsung) द्वारा ईशनिंदा की अफवाह के बाद मुस्लिमों के चरमपंथी फिरका बरेलवी से जुड़ा संगठन तहरीक-ए-लब्बैक (TLP) के दर्जनों इस्लामवादियों ने मोबाइल बाजार में तबाही मचा दी। प्रदर्शनकारियों ने शहर के मोबाइल बाजार में सैमसंग के होर्डिंग को फाड़ दिया और तोड़फोड़ की।

विरोध प्रदर्शन केवल मोबाइल बाजार तक ही सीमित नहीं था, क्योंकि शहर भर में कई स्थानों पर कंपनी की होर्डिंग को कट्टरपंथियों के गुस्से का सामना करना पड़ा। अफवाहों में कहा गया कि सैमसंग ने अपने उपकरणों पर एक क्यूआर कोड पेश किया था, जो ईशनिंदा है। इसके बाद इस्लामवादी कराची की सड़कों पर उतर आए।

हालाँकि, बाद में एक नई अफवाह फैलने लगी कि ‘ईशनिंदा’ सैमसंग मोबाइल के एक कर्मचारी द्वारा की गई थी, जिसने अपने वाईफाई नेटवर्क को ‘ईशनिंदा’ नाम दिया था।

हालाँकि किसी को भी ये पता नहीं था कि वास्तव में ‘ईशनिंदा’ क्या की गई। इसके बावजूद टीएलपी चरमपंथियों ने कराची की सड़कों पर सैमसंग मोबाइल के खिलाफ अपना गुस्सा निकालने से नहीं रोका।

QR कोड से ईशनिंदा पाकिस्तान में कोई नई बात नहीं

पिछले साल 31 दिसंबर को एक पाकिस्तानी शख्स ने अमेरिका की दिग्गज कंपनी पेप्सी को उसकी 7UP बोतलों पर पैगंबर मुहम्मद के नाम के साथ एक QR कोड छापने को लेकर धमकी दी थी।

उस व्यक्ति ने पेप्सी कंपनी के ट्रक ड्राइवर को धमकी दी कि अगर कंपनी ने 7UP कोल्ड ड्रिंक की बोतल से QR कोड नहीं हटाया तो उसे गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। पूछताछ करने पर खुद को मुल्ला बताने वाले उस व्यक्ति ने जोर देकर कहा कि QR कोड वास्तव में पैगंबर मुहम्मद का नाम है और अगर कंपनी लोगो को नहीं हटाती है तो वह ट्रक को जला देगा।

पाकिस्तान में ईशनिंदा

पैगंबर मुहम्मद के खिलाफ कथित ईशनिंदा को लेकर पाकिस्तान को व्यापक सांप्रदायिक हिंसा और दंगों का सामना करना पड़ा है। पैगंबर मुहम्मद के लिए विपरीत संदर्भ देना, जिसे ‘ईशनिंदा’ कहा जाता है, अक्सर इस्लामवादियों द्वारा ‘गैर-मुस्लिमों’ के खिलाफ हिंसा और सांप्रदायिक दंगे करने के लिए एक वजह के रूप में उपयोग किया जाता है।

पैगंबर मुहम्मद की निन्दा और अपमान के नाम पर गैर-मुस्लिमों के खिलाफ हिंसा और बर्बरता की असंख्य रिपोर्टें हैं। पाकिस्तान में ईशनिंदा के नाम पर किसी को काट देना या जिंदा जला देना आम घटना सी है। इसमें वहाँ की न्यायपालिका भी चाह कर कुछ नहीं कर पाती है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -