Wednesday, August 4, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय54 'कायर' कुत्तों की नीलामी करेगा चीन, नीलामी की ये रही प्रमुख शर्तें

54 ‘कायर’ कुत्तों की नीलामी करेगा चीन, नीलामी की ये रही प्रमुख शर्तें

जिन कुत्तों को नीलामी के लिए रखा गया है उनमें, जर्मन शेपर्ड और बेल्जियम मालिनोइस नस्ल के कुत्ते शामिल हैं। हालाँकि, इस नीलामी में शर्तें हैं। इसके मुताबिक, ये कुत्ते उन्हीं लोगों को बेचे जाएँगे, जो सरकार के दिशा-निर्देशों का पालन करेंगे।

चीन से हैरान करने वाला मामला सामने आया है। वहाँ के लियाओनिंग प्रान्त में कम्युनिस्ट सरकार ने 54 कुत्तों को ‘कायर‘ करार दिया है। अब इन सभी को नीलाम किया जाएगा। ये सभी कुत्ते पूरी तरह से ट्रेंड हैं, लेकिन इनकी गलती ये थी कि ये पुलिस एकेडमी के ट्रेनिंग कार्यक्रम को पास नहीं कर पाए थे। पुलिस एकेडमी ने इन्हें डरपोक, छोटे, कमजोर और आदेश नहीं मानने वाला बताया है।

जिन कुत्तों को नीलामी के लिए रखा गया है उनमें, जर्मन शेपर्ड और बेल्जियम मालिनोइस नस्ल के कुत्ते शामिल हैं। हालाँकि, इस नीलामी में शर्तें हैं। इसके मुताबिक, ये कुत्ते उन्हीं लोगों को बेचे जाएँगे, जो सरकार के दिशा-निर्देशों का पालन करेंगे। चीनी सरकार ने इनके नीलामी की तारीख 7 जुलाई 2021 को निर्धारित की है। रिपोर्ट के मुताबिक, एक कुत्ते की कीमत 200 युआन (करीब 2200 रुपए) रखी गई है।

नीलामी की शर्तें

जिन 54 कुत्तों को कायर बताकर उन्हें बाहर का रास्ता दिखाया गया है, उनके बारे में चीन की क्रिमिनल इन्वेस्टिगेशन पुलिस यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में विस्तृत जानकारी दी गई है। नीलामी की घोषणा में कहा गया है कि खरीदारों को एक लिखित प्रतिज्ञा पर हस्ताक्षर करना होगा कि वे जानवरों की अच्छी देखभाल करेंगे। उन्हें कुत्तों को न बेचने या किसी को भी न देने का वादा भी करना होगा।

ज्यादातर कुत्ते दो से तीन साल पुराने जर्मन शेफर्ड हैं। इसके अलावा कई बेल्जियम मेलिनोइस, डच शेफर्ड, स्पैनियल और उसकी हाईब्रिड नस्ल के हैं। सीएनएन ने चीनी सोशल मीडिया साइट वीबो पर जियांगिंग पुलिस ब्यूरो में एक पुलिस अधिकारी के हवाले से कहा कि पुलिस कुत्तों को ‘खत्म’ नहीं किया गया था। लेकिन ये कभी पुलिस डॉग बनने के लायक नहीं रहे। क्योंकि इनकी भर्ती की ही नहीं गई थी।

कुत्तों की नीलामी की न्यूज को करीब दो हफ्ते पहले ही अपलोड किया गया था। इसे अब तक 80,000 बार डाउनलोड किया जा चुका है। रिपोर्ट के मुताबिक, जर्मन शेफर्ड अपने शांत स्वभाव, बुद्धि, डिफेंस, वफादारी, ताकत और एथलेटिक्स जैसी ट्रेनिंग देने के लिए किसी भी देश की पुलिस अकादमी द्वारा पसंद किए जाते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राणा अयूब बनीं ट्रोलिंग टूल, कश्मीर पर प्रोपेगेंडा चलाने के लिए आ रहीं पाकिस्तान के काम: जानें क्या है मामला

पाकिस्तान के सूचना मंत्रालय से जुड़े लोग ऑन टीवी राणा अयूब की तारीफ करते हैं। वह उन्हें मोदी सरकार का पर्दाफाश करने वाली ;मुस्लिम पत्रकार' के तौर पर जानते हैं।

राहुल गाँधी ने POCSO एक्ट का किया उल्लंघन, NCPCR ने ट्वीट हटाने के दिए निर्देश: दिल्ली की पीड़िता के माता-पिता की फोटो शेयर की...

राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR) ने राहुल गाँधी के ट्वीट पर संज्ञान लिया है और ट्विटर से इसके खिलाफ कार्रवाई करने की माँग की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,975FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe