Monday, September 20, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीययौन उत्पीड़न करने वाले पादरी के गले में क्रॉस घुसेड़कर पीड़ित 19 वर्षीय किशोर...

यौन उत्पीड़न करने वाले पादरी के गले में क्रॉस घुसेड़कर पीड़ित 19 वर्षीय किशोर ने मार डाला

एलेक्जेंडर को गिरफ्तार कर लिया गया है और हत्या, पादरी को टॉर्चर करने और गिरफ्तारी का विरोध करने के आरोप में हिरासत में लिया गया है। फ्रांसीसी मीडिया के अनुसार, किशोर ने कहा है कि उसे पीडोफाइल पादरी की हत्या का कोई अफ़सोस नहीं है।

चर्च और यौन शोषण की घटनाएँ आए दिन चर्चा में रहती हैं और अब फ्रांसीसी मीडिया में एक रिपॉर्ट प्रकाशित हुई है जिसमें अलेक्जेंडर वी के रूप में पहचाने जाने वाले एक 19 वर्षीय किशोर पर यह आरोप है कि उसने एक पादरी द्वारा उसके ऊपर यौन शोषण का प्रयास किए जाने के बाद उसने चर्च के पादरी की गला दबाकर हत्या कर दी थी। यह बताया जा रहा है कि पीड़ित किशोर और उसके पिता दोनों का फादर रोजर माटासोली द्वारा यौन शोषण किया गया था, इससे आहत एलेक्जेंडर ने पीडोफाइल पादरी के गले के में क्रॉस घुसेड़कर उसकी हत्या कर दी।

पीड़ित के वकील ने फ्रांसीसी मीडिया को बताया, “अब हम जानते हैं कि पीड़ित का पिता भी पादरी का शिकार था। हम यह भी जानते हैं कि इस पिता ने अपने बच्चों की रक्षा करने की कोशिश की और फिर, तलाक के बाद, वह माटासोली (Matassoli) के चंगुल में वापस आ गया। एलेक्जेंडर ने उन तथ्यों का उल्लेख किया है जो उसे बेहद परेशान करते थे। जैसे एलेक्जेंडर से नंगे होकर पादरी के घर की सफाई करने की बात की गई थी।

रिपोर्ट के अनुसार, एलेक्जेंडर को गिरफ्तार कर लिया गया है और हत्या, पादरी को टॉर्चर करने और गिरफ्तारी का विरोध करने के आरोप में हिरासत में लिया गया है। फ्रांसीसी मीडिया के अनुसार, किशोर ने कहा है कि उसे पादरी की हत्या का कोई अफ़सोस नहीं है।

90 वर्षीय पादरी की 7 नवंबर 2019 को उसके अपने घर में यातनाएं दी गईं और उनकी हत्या कर दी गई थी। जब पादरी की डेड बॉडी मिली, तो उसके शरीर पर टॉर्चर जैसे सिर, पेट और चेहरे पर चोट के निशान थे। ज्ञात हो, 2009 में, यौन शोषण के आरोपों से घिरे पादरी को उसके कर्तव्य से हटा दिया गया था, हालाँकि,इसके बावजूद माटासोली 2018 तक बिशप के पेरोल पर रहे।

पादरी अपनी मृत्यु से कुछ समय पहले चर्च की आतंरिक जाँच का विषय था। उसकी मृत्यु के बाद जाँच बंद कर दी गई। रिपोर्ट के अनुसार, रोम को अभी पादरी से जुड़ी कोई भी जाँच रिपोर्ट नहीं भेजी गई थी। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि जुलाई 2018 से मृत्यु तक तीन लोगों ने पादरी द्वारा यौन शोषण किए जाने के बारे में जानकारी के साथ स्थानीय बिशप कार्यालय से संपर्क किया था।

एक स्थानीय पत्र के अनुसार, सरकारी वकील के कार्यालय ने 2018 में दो शिकायतों की रिपोर्ट की जिसमें 10 से 14 वर्ष की आयु के दो युवा लड़कों का यौन उत्पीड़न फादर माटासोली द्वारा किया गया था। हालाँकि, इस पर मामला आगे नहीं बढ़ा था क्योंकि फ्रांसीसी कानून के तहत शिकायतें एक निश्चित समय सीमा में नहीं की गई थीं, क्योंकि एक घटना 1962 की थी, और दूसरा 1976 और 1980 के बीच का।

पादरी की हत्या के बाद, एक स्थानीय महिला ने उस डरावने पल की भी बात की, जो कि ईसाई पादरी ने उसके भाइयों के साथ किया था।

“कुछ लोगों का कहना है कि उन्हें (1967 में) सेंट-आंद्रे में स्थानांतरित कर दिया गया था क्योंकि उन्होंने क्लरमॉन्ट (Clermont) में अपने दूसरे पैरिश में बच्चों से यौन दुर्व्यवहार किया था।” वह कहती है कि उसके दोनों भाइयों का पादरी द्वारा यौन शोषण किया गया था। उस महिला को उस दुर्व्यवहार का पता तब लगा जब उसके छोटे भाई, पॉल ने उसे बताया कि उसने पुजारी के साथ स्नान किया था। महिला के बड़े भाई ने भी पादरी के उसके साथ यौन शोषण की कहानी बताई।

ऐसे कई और यौन शोषण की घटनाएँ हैं जो चर्च में पादरियों द्वारा अंजाम दी गई हैं। भारत में केरल का मामला तो चल ही रहा है। कहा जाता है पूरे विश्व में ऐसे अनगिनत मामले हैं जहाँ पादरियों ने न सिर्फ बच्चों बल्कि नन को भी नहीं बख्शा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

IT रेड पड़ते ही बिहार के 2 बैंक खातों में पहुँचे ₹960 करोड़: सोनू सूद से क्या है कनेक्शन, छापे पर अभिनेता बोले- पैसा...

हाल ही में बिहार के कटिहार में दो छात्रों के बैंक खाते में अचानक से 960 करोड़ रुपए आ गए। क्या आपको पता है कि इस मामले के तार सोनू सूद से भी जुड़े हैं?

चन्नी को कॉन्ग्रेस का ‘चुनावी स्टंट’ बता दलित संगठनों ने दुत्कारा, #MeToo वाला मामला भी पंजाब के नए CM के लिए मुसीबत

दलित संगठनों ने चरणजीत सिंह चन्नी को पंजाब का सीएम बनाने के कॉन्ग्रेस के फैसले को चुनावी हथकंडा करार दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,406FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe