Tuesday, July 27, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय370 पर उलझे इमरान, वहाँ पाकिस्तान में निकाह के लिए तरस रहे हैं आम...

370 पर उलझे इमरान, वहाँ पाकिस्तान में निकाह के लिए तरस रहे हैं आम लोग, ये है वजह

खाने-पीने से लेकर जीवन की रोजमर्रा की चीजें इस कदर महँगी हैं कि खाने के लाले ही पड़ गए हैं। आतंक पर लगाम न लगाने के कारण विदेशों से कर्ज मिलना बंद हो चुका है। इन्फ्लेशन बढ़ने से पाकिस्तान में कॉस्ट ऑफ़ लिविंग बेतहाशा बढ़ी है जिसका सबसे ज़्यादा असर आम लोगों के निकाह पर पड़ा है।

पाकिस्तान की अर्थव्यस्था मरणासन्न स्थिति में है। वहाँ दिनों-दिन आसमान छूती महँगाई ने पाकिस्तान की कमर तोड़ दी है। पाकिस्तान इस समय घोर आर्थिक संकट और बेतहाशा महँगाई से जूझ रहा है। इससे उबरने के लिए पाकिस्तान के वजीरे आज़म इमरान खान ने क्या कुछ नहीं किया। चाहे कारें बेचनी हों या गधे यहाँ तक कि वहाँ नान और टमाटर के दाम तय करने को भी राष्ट्रीय मुद्दा बना दिया गया था। बाकायदा उसके लिए कैबिनेट मीटिंग तक हुई थी। लेकिन कार और गधे बेचने के बाद भी पाकिस्तान की अर्थव्यस्था सुधर नहीं रही है। आतंक की खेती करने वाले पाकिस्तान में जहाँ जेहादी हूरों के सपने दिखाकर आतंकवाद को पोषित करते आ रहे हैं। वहीं रिपोर्ट्स के अनुसार, इमरान के नए पाकिस्तान में अब आलम यह है कि आम लोगों के लिए अब निकाह करना भी आसान नहीं रह गया है।

पाकिस्तान के अखबार डॉन में छपी खबर के मुताबिक, वेडिंग सीजन अर्थात निकाह का मौसम आने के बाद भी वहाँ लोग निकाह को तरस जा रहे हैं। पाकिस्तान में आम लोग निकाह से बच रहे हैं जिसकी सबसे बड़ी वजह है चिकन के दाम क्योंकि वहाँ चिकन का दाम अब तक के सबसे उच्चतम स्तर पर पहुँच गया है। ऐसे में आम लोगों का रोजमर्रा का खर्च इतना बढ़ गया है कि खाने के लाले पड़ गए हैं। चिकन ही नहीं वहाँ पेट्रोल-डीजल, फलों और सब्ज़ियों, दूध सहित कई खाद्य उत्पादों के दाम आसमान छू रहे हैं। ऐसे में आम आदमी निकाह करे भी तो कैसे दावत के बिना निकाह टल रहे हैं और इमरान खान 370 के हटने के बाद कश्मीर को लेकर परेशान हैं।

बता दें कि पिछले महीने पाकिस्तान में पेट्रोल की कीमत 117.83 रुपए (पाकिस्तानी रुपए) प्रति लीटर तक पहुँच गया था और डीजल की कीमत 132.47 रुपए प्रति लीटर तक। पाकिस्तान में दूध की कीमत 140 रुपए प्रति लीटर है अर्थात वहाँ पेट्रोल-डीजल से भी महँगा दूध बिक रहा है।

खाने-पीने से लेकर जीवन की रोजमर्रा की चीजें इस कदर महँगी हैं कि खाने के लाले ही पड़ गए हैं। आतंक पर लगाम न लगाने के कारण विदेशों से कर्ज मिलना बंद हो चुका है। खर्चे बचाने के लिए इमरान खान की विदेश यात्राएँ भी उधार के विमान से संपन्न हो रही हैं। इन्फ्लेशन बढ़ने से पाकिस्तान में कॉस्ट ऑफ़ लिविंग बेतहाशा बढ़ी है जिसका सबसे ज़्यादा असर आम लोगों के निकाह पर पड़ा है।

एक कारोबारी के हवाले से डॉन के इस रिपोर्ट में लिखा गया है कि पाकिस्तान में एक किलोग्राम चिकन का दाम 480-500 रुपए (हड्डियों के साथ) हो गया है। वहीं, बोनलेस चिकन के दाम 650-700 रुपए प्रति किग्रा हो गए हैं। जहाँ आटा और मैदे का दाम भी आसमान छू रहा हो वहाँ नान का दाम बढ़ जाने से पब्लिक पर दोहरी मार पड़ रही है।

रिपोर्ट्स के अनुसार, पाकिस्तान की जनता में बढ़ते महँगाई को लेकर आक्रोश बढ़ता जा रहा है। जनता बेसिक सुविधाओं के लिए मुँहताज हो रही है और इमरान खान अभी भी इस समस्या से न निपटकर भारत के आतंरिक मामले कश्मीर में दखल के लिए दूसरे देशों से समर्थन न दिए जाने के बावजूद भी चक्कर लगा रहे हैं। वहाँ के मंत्री मीडिया में उल्टे-सीधे बयान दे रहे हैं।

सोशल मीडिया पर लोग पाकिस्तान का लगातार मजाक उड़ा रहे हैं। लोगों का यहाँ तक कहना है कि अभी भी वक़्त है संभाल लें इमरान कहीं ऐसा न हो कि जिहाद और आतंक की खेती के चक्कर में आम लोग विद्रोह कर बैठें। पहले अपना देश संभाल लें फिर दूसरे देश के आतंरिक मामलों में दखल देने की सोचें।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नाम: नूर मुहम्मद, काम: रोहिंग्या-बांग्लादेशी महिलाओं और बच्चों को बेचना; 36 घंटे चला UP पुलिस का ऑपरेशन, पकड़ा गया गिरोह

देश में रोहिंग्याओं को बसाने वाले अंतरराष्ट्रीय मानव तस्करी के गिरोह का उत्तर प्रदेश एटीएस ने भंडाफोड़ किया है। तीन लोगों को अब तक गिरफ्तार किया गया है।

‘राजीव गाँधी थे PM, उत्तर-पूर्व में गिरी थी 41 लाशें’: मोदी सरकार पर तंज कसने के फेर में ‘इतिहासकार’ इरफ़ान हबीब भूले 1985

इतिहासकार व 'बुद्धिजीवी' इरफ़ान हबीब ने असम-मिजोरम विवाद के सहारे मोदी सरकार पर तंज कसा, जिसके बाद लोगों ने उन्हें सही इतिहास की याद दिलाई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,464FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe