Thursday, July 18, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय16 देवी-देवताओं के साथ दुबई का नया हिंदू मंदिर तैयार: दशहरा के शुभ अवसर...

16 देवी-देवताओं के साथ दुबई का नया हिंदू मंदिर तैयार: दशहरा के शुभ अवसर पर उद्घाटन, QR कोड से होगी बुकिंग

मंदिर में हर रोज 1000 से 1200 श्रद्धालु आसानी से दर्शन कर सकेंगे।। यहाँ हर हिंदू अपने धर्म का पालन कर सकता है। मंदिर में 16 देवी-देवताओं की पूजा की जाएगी।

संयुक्त अरब अमीरात (UAE) के प्रमुख शहर दुबई में नया हिंदू मंदिर दशहरे के पावन अवसर पर खुलने जा रहा है। यह मंदिर दुबई के जेबेल अली इलाके में बनाया गया है। मंगलवार (4 अक्टूबर 2022) मतलब आज के ही दिन इसका भव्य उद्घाटन किया जाना है। दर्शनार्थियों को इस मंदिर में दशहरे मतलब 5 अक्टूबर से प्रवेश मिलेगा।

मंदिर के ट्रस्टियों में से एक राजू श्रॉफ ने गल्फ न्यूज को सोमवार (3 अक्टूबर 2022) को बताया, “यूएई के शासकों और सामुदायिक विकास प्राधिकरण के सहयोग से हम मंगलवार शाम दुबई में हिंदू मंदिर का आधिकारिक रूप से उद्घाटन करने जा रहे हैं।”

उन्होंने कहा कि संयुक्त अरब अमीरात और भारतीय अधिकारियों की मौजूदगी में उद्घाटन समारोह होगा। इस दौरान हालाँकि आम लोगों को प्रवेश नहीं मिलेगा। विजय दशमी पर दशहरे के दिन दर्शनार्थियों के लिए यह मंदिर खोला जाएगा।

1000-1200 श्रद्धालु कर सकेंगे दर्शन

रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस मंदिर में दर्शन के लिए क्यूआर कोड से बुकिंग की व्यवस्था की गई है, ताकि लोग सुरक्षा के साथ मंदिर जा सकें और भीड़ को भी नियंत्रण किया जा सके। दुबई का नया हिंदू मंदिर सुबह 6:30 बजे से रात 8 बजे तक खुला रहेगा।

मंदिर में हर रोज 1000 से 1200 श्रद्धालु आसानी से दर्शन कर सकेंगे।। यहाँ हर हिंदू अपने धर्म का पालन कर सकता है। मंदिर में 16 देवी-देवताओं की पूजा की जाएगी। इसके साथ ही यहाँ सिखों की पवित्र किताब गुरुग्रंथ साहिब को रखने के लिए भी एक अलग कक्ष होगा।

गल्फ न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, दशहरा उत्सव के दिन मंदिर सभी धर्मों के लोगों के लिए खुला रहेगा। यहाँ स्थापित 16 देवताओं की मूर्तियों के दर्शन के लिए सभी को अनुमति दी जाएगी। यह मंदिर दुबई के वरशिप विलेज में बनाया गया है, जिसमें कई चर्च और गुरुद्वारा मौजूद हैं।

अरबी और हिंदू शैली में डिजाइन

1 सितंबर, 2022 को इस मंदिर की एक झलक लोगों को देखने का मौका दिया गया था। उस वक्त यहाँ हजारों विजिटर्स को सफेद संगमरमर से बने मंदिर के अंदरूनी हिस्से की झलक पाने की अनुमति दी गई थी। मंदिर को अरबी और हिंदू शैली में डिजाइन किया है। सजावटी स्तंभ लगाए गए हैं। छत पर घंटियाँ लगाई गई हैं।

खलीज टाइम्स के मुताबिक, इस मंदिर में हिंदू धर्म के 16 देवी-देवताओं की मूर्तियों की स्थापना के साथ एक ज्ञान कक्ष और अन्य धार्मिक गतिविधियों के लिए सामुदायिक केंद्र होगा। इस मंदिर की नींव फरवरी 2020 में रखी गई थी। इस इलाके में मंदिर बनने से भारतीयों का दशकों पुराना सपना सच हो गया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नई नहीं है दुकानों पर नाम लिखने की व्यवस्था, मुजफ्फरनगर पुलिस ने काँवड़िया रूट पर मजहबी भेदभाव के दावों को किया खारिज: जारी की...

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में पुलिस ने ताजी एडवायजरी जारी की है, जिसमें दुकानों और होटलों पर मालिकों के नाम लिखने को ऐच्छिक कर दिया है।

‘भ#$गी हो, भ$गी बन के रहो’: जामिया के 3 प्रोफेसर पर FIR, दलित कर्मचारी पर धर्म परिवर्तन का डाल रहे थे दबाव; कहा- ईमान...

एफआईआर में आरोपित नाज़िम हुसैन अल-जाफ़री जामिया मिल्लिया इस्लामिया के रजिस्ट्रार हैं तो नसीम हैदर डिप्टी रजिस्ट्रार। इनके साथ ही आरोपित शाहिद तसलीम यूनिवर्सिटी में प्रोफ़ेसर हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -