Saturday, July 2, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयएलन मस्क ने ट्विटर को धमकाया, कहा- फेक एकाउंट्स का सारा डेटा दो, वरना...

एलन मस्क ने ट्विटर को धमकाया, कहा- फेक एकाउंट्स का सारा डेटा दो, वरना ₹3.42 लाख करोड़ की डील कैंसल

एलन मस्क पहले ही घोषणा कर चुके हैं कि ट्विटर को खरीद कर प्राइवेट कंपनी बनाने के समझौते को फ़िलहाल स्थगित रखा गया है, क्योंकि उन्हें इसकी जानकारी चाहिए कि इस प्लेटफॉर्म पर कितने बॉट्स सक्रिय हैं।

दुनिया के सबसे अमीर उद्योगपति एलन मस्क ने चेतावनी दी है कि अगर बॉट्स और फेक हैंडल्स को लेकर सूचनाएँ साझा नहीं की गईं तो वो ट्विटर डील रद्द कर सकते हैं। अमेरिका के ‘सिक्योरिटी एंड एक्सचेंज कमीशन (SEC)’ के माध्यम से कंपनी को भेजे गए पत्र में एलन मस्क ने कहा है कि माइक्रो ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म्स पर मौजूद ऑटोमेटेड एकाउंट्स की सूचनाएँ साझा न कर के कंपनी 44 बिलियन डॉलर (3.42 लाख करोड़ रुपए) के इस समझौते का उल्लंघन कर रही है।

वो इसके बाहरी विश्लेषण के लिए एक खाका चाहते हैं। ट्विटर की शीर्ष अधिवक्ता विजया गड्डे को भेजे गए पत्र में एलन मस्क ने कहा है कि अगर बॉट्स को लेकर जानकारियाँ नहीं दी गईं तो वो इस समझौते से बाहर निकल सकते हैं। उन्होंने अपने वकीलों के माध्यम से ये पत्र दायर किया। ट्विटर के प्रवक्ता का कहना है कि कंपनी अब भी लेनदेन और विलय को पहले से तय शर्तों और समझौतों के आधार पर पूरा करना चाहती है।

सोमवार (6 जून, 2022) को सुबह ट्रेडिंग शुरू होते ही ट्विटर के शेयर्स 5.3% गिर कर 38.02 डॉलर्स (2954.06 रुपए) तक पहुँच गए। खबर लिखे जाने तक ट्विटर के शेयर्स 1.49% की गिरावट के साथ 38.56 डॉलर (2996.02 रुपए) पर ट्रेड हो रहे थे। एलन मस्क पहले ही घोषणा कर चुके हैं कि ट्विटर को खरीद कर प्राइवेट कंपनी बनाने के समझौते को फ़िलहाल स्थगित रखा गया है, क्योंकि उन्हें इसकी जानकारी चाहिए कि इस प्लेटफॉर्म पर कितने बॉट्स सक्रिय हैं।

एलन मस्क ने खुद को इस समझौते के लिए प्रतिबद्ध बताया है, लेकिन ट्विटर के CEO पराग अग्रवाल का कहना है कि बॉट्स के मामले में ‘एक्सटर्नल एनालिसिस’ के पक्ष में वो नहीं हैं। बता दें कि 221.60 बिलयन डॉलर (17.22 लाख रुपए) की संपत्ति के साथ एलन मस्क फ़िलहाल दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति हैं। उनका कहना है कि ट्विटर समझौते के नियमों का उल्लंघन कर रहा है। वो पूरे डेटा का विश्लेषण करवाना चाहते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘नूपुर शर्मा पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी गैर-जिम्मेदाराना’: रिटायर्ड जज ने सुनाई खरी-खरी, कहा – यही करना है तो नेता बन जाएँ, जज क्यों...

दिल्ली हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज एसएन ढींगरा ने मीडिया में आकर बताया है कि वो सुप्रीम कोर्ट के जजों की टिप्पणी पर क्या सोचते हैं।

‘क्या किसी हिन्दू ने शिव जी के नाम पर हत्या की?’: उदयपुर घटना की निंदा करने पर अभिनेत्री को गला काटने की धमकी, कहा...

टीवी अभिनेत्री निहारिका तिवारी ने उदयपुर में कन्हैया लाल तेली की जघन्य हत्या की निंदा क्या की, उन्हें इस्लामी कट्टरपंथी गला काटने की धमकी दे रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
202,399FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe