Tuesday, November 30, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयभूल जाओ कश्मीर: पाकिस्तान में गूॅंजा- मोदी से तू डरता है, मरियम से लड़ता...

भूल जाओ कश्मीर: पाकिस्तान में गूॅंजा- मोदी से तू डरता है, मरियम से लड़ता है

पाकिस्तानी मीडिया अपने प्रधानमंत्री का मजाक उड़ाते हुए कह रहा है कि कश्मीर को भूल विपक्ष को इमरान खान का मसला संयुक्त राष्ट्र में ले जाना चाहिए और इस संकट से छुटकारा पाने की हर राजनीतिक, कूटनीतिक और रणनीतिक संभावनाओं पर विचार करना चाहिए।

ज्यादा अरसा बीता नहीं है जब पाकिस्तानी मीडिया प्रधानमंत्री इमरान खान के अमेरिकी दौरे पर फिदा था। लेकिन, जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 के निष्प्रभावी होते ही पाक के सिर से इमरान का खुमार उतर गया है। सड़कों पर ‘मोदी से तू डरता है, मरियम से लड़ता है’ और ‘नियाजी गो बैक’ के नारे लग रहे हैं।

पाकिस्तानी मीडिया में इमरान का मजाक उड़ाते हुए आर्टिकल प्रकाशित हो रहे हैं। इनमें कहा जा रहा है कि कश्मीर को भूलकर विपक्ष को इमरान खान का मसला संयुक्त राष्ट्र में ले जाना चाहिए और इस संकट से छुटकारा पाने की हर राजनीतिक, कूटनीतिक और रणनीतिक संभावनाओं पर विचार करना जाना चाहिए।

वैसे आर्टिकल 370 के निष्प्रभावी होने के बाद से गीदड़ भभकी देने में पाक अव्वल रहा है। खुफिया इनपुट यह भी है कि उसकी जमीन पर पल रहे आतंकी भारत में बड़े हमले को अंजाम देने की फिराक में हैं। लेकिन, नान-टमाटर के चढ़ते भाव के बीच पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की बेटी और पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज) की उपाध्यक्ष मरियम नवाज की गिरफ्तारी से जनता चिढ़ गई है।

पाकिस्तानी अवाम और मीडिया के बीच यह चर्चा जोरों पर है कि कश्मीर से ध्यान हटाने के लिए इमरान ने मरियम की गिरफ्तारी करवाई है। लोग सड़कों पर उतरकर उनका विरोध कर रहे हैं।

चीनी मिल भ्रष्टाचार मामले में मरियम और उनके चचेरे भाई यूसुफ अब्बास को राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) ने गिरफ्तार किया है। दोनों 21 अगस्त तक एनएबी की हिरासत में रहेंगे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe