Monday, October 25, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय24 साल में 250 बच्चों का यौन शोषण, रेप करने के बाद डायरी में...

24 साल में 250 बच्चों का यौन शोषण, रेप करने के बाद डायरी में स्कोर लिखता था डॉक्टर

स्कारनेक के खिलाफ जाँच की शुरुआत 1989 से लेकर 2017 के बीच चार लड़कियों के यौन उत्पीड़न से शुरू हुई थी। उसकी सीक्रेट डायरी हाथ लगने के बाद जॉंच में तेजी आई। डायरी में उसने यौन उत्पीड़न को "फैंटेसी" बताया था।

फ्रांस में एक रिटायर्ड सर्जन द्वारा 250 से ज्यादा बच्चों का यौन शोषण किए जाने का मामला सामने आया है। इस सर्जन का नाम जोई ली स्कारनेक है। वह चार लड़कियों के यौन शोषण के आरोप में मई 2017 से जेल में बंद है। फ्रांसीसी अभियोजकों के अनुसार उसके खिलाफ नए मामले मिले हैं। अभियोजकों ने इसे फ्रांस के इतिहास का यौन शोषण का सबसे बड़ा मामला बताया है।

स्कारनेक के खिलाफ अब तक करीब 209 बच्चों की गवाही हो चुकी है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार सर्जन ने जिन बच्चों को अपनी हैवानियत का शिकार बनाया उनमे 181 नाबालिग हैं। 184 बच्चे ऐसे भी हैं जो यौन-उत्पीड़न की इस त्रासदी पर अब कुछ भी कहने से बच रहे हैं। उन्होंने अपने और से लगाए गए आरोपों को वापस लेने की इच्छा जताई है।

स्कारनेक के खिलाफ जाँच की शुरुआत 1989 से लेकर 2017 के बीच चार लड़कियों के यौन उत्पीड़न से शुरू हुई थी। उसके खिलाफ 15 साल से कम उम्र के व्यक्ति के साथ दबाव बनाकर शारीरिक सम्बन्ध बनाने (यानी बलात्कार) का केस दर्ज हुआ था। इस मामले का फैसला 2020 की शुरुआत में अपेक्षित है। मामले की जाँच जब समाप्त होने की और थी तब पुलिस को इस डॉक्टर की एक सीक्रेट डायरी हाथ लगी थी। इसके बाद जाँच में एक बार फिर तेज़ी आ गई। इस डायरी की मदद से एकाएक कई मामले सामने आने लगे।

जाँच आगे बढ़ी तो मालूम चला कि स्कारनेक यौन उत्पीड़न के बाद डायरी में पीड़ित बच्चों का नाम लिखता था। डायरी में अपने कुकर्मों का उल्लेख उसने “सेक्सुअल एनकाउंटर” लिखकर किया था। डायरी में उसने बच्चों के यौन उत्पीड़न को “फैंटेसी” बताया था। जाँचकर्ताओं ने उसके घर से चाइल्ड पोर्न की कई तस्वीरों से लेकर डॉल्स तक बरामद की थी।

डायरी से पता चला कि उसने दक्षिणी फ़्रांस के Jonzac शहर में अपनी पड़ोसी की बेटी का भी रेप किया था। 2014 से 2017 के बीच वह इस शहर में रहता था। अभियोजन पक्ष के अनुसार सर्जन ने 1991 से लेकर 2014 के बीच इन घटनाओं को अंजाम दिया।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केरल में नॉन-हलाल रेस्तराँ खोलने वाली महिला को बेरहमी से पीटा, दूसरी ब्रांच खोलने के खिलाफ इस्लामवादी दे रहे थे धमकी

ट्विटर यूजर के अनुसार, बदमाशों के खिलाफ आत्मरक्षा में रेस्तराँ कर्मचारियों द्वारा जवाबी कार्रवाई के बाद केरल पुलिस तुशारा की तलाश कर रही है।

असम: CM सरमा ने किनारे किया दीवाली पर पटाखों पर प्रतिबंध का आदेश, कहा – जनभावनाओं के हिसाब से होगा फैसला

असम में दीवाली के मौके पर पटाखों पर पूर्ण प्रतिबंध का ऐलान किया गया था। अब मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने कहा है कि ये आदेश बदलेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
131,783FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe