Tuesday, July 23, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'आ जाओ हमारे पास लड़की है': टैक्सी ड्राइवर ने अगवा किया, फिर 17 साल...

‘आ जाओ हमारे पास लड़की है’: टैक्सी ड्राइवर ने अगवा किया, फिर 17 साल की लड़की से 17 दरिदों ने 4 दिन तक किया रेप

पीड़िता कहती है, “मुझे होश आया तो मैं नदी के पास थी। जमीन पर पूरी नंगी पड़ी थी और कई लोग मेरे इर्द-गिर्द थे। उन्होंने नदी किनारे मेरा रेप किया और मुझे घर ले गए। वहाँ उन्होंने फिर मेरा रेप किया। फिर दोस्तों को कॉल किया और कहा ‘आ जाओ हमारे पास लड़की है।”

कजाकिस्तान में एक 17 साल की लड़की का 17 लोगों ने गैंगरेप किया। लड़की का कहना है कि वो मई महीने में बाजार से कपड़े लेकर घर लौट रही थी तभी टैक्सी ड्राइवर ने अचानक रास्ता बदला और जब वो रोने लगी तो उसे ड्राइवर ने पानी की बोतल देकर पानी पीने को कहा। दो-चार घूँट पीते ही वह बेहोश हो गई और जब होश आया तो वो नग्न अवस्था में कहीं नदी के पास थी। उसके मुताबिक उसे कई लोगों ने घेरा हुआ था। इन सबने उसके साथ एक के बाद करके रेप किया। बाद में उसे एक अंजान घर ले जाया गया।

पूरी घटना कजाकिस्तान के सरयागाश की है। पीड़िता हाईस्कूल की छात्रा है। उसने आपबीती सुनाते हुए कहा कि जब उसने अपने आप को छुड़ाने की कोशिश की तो उसे नदी में फेंकने की बात हुई। पीड़िता कहती है, “मुझे होश आया तो मैं नदी के पास थी। जमीन पर पूरी नंगी पड़ी थी और कई लोग मेरे इर्द-गिर्द थे। उन्होंने नदी किनारे मेरा रेप किया और मुझे घर ले गए। वहाँ उन्होंने फिर मेरा रेप किया। फिर दोस्तों को कॉल किया और कहा ‘आ जाओ हमारे पास लड़की है।”

पीड़िता कहती है, “एक-एक करके सब आए और मेरा बलात्कार किया। उन्होंने मुझे मारा, नदी में फेंकने की धमकी दी।” लड़की की माँ ने बताया कि उनकी बेटी के साथ ये सब 4 दिन तक हुआ। इसके बाद दरिंदों ने लड़की को उसके कपड़े लौटाए और मेन दरवाजे से बाहर कर दिया।

अब पीड़िता और उसकी माँ ने इंसाफ पाने के लिए लोकल मीडिया का सहारा लिया है। उन्हें कहीं से न्याय नहीं मिल रहा। मुकदमा 5 माह पहले दर्ज हुआ था, लेकिन अब तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है। पीड़िता को उन बलात्कारियों का चेहरा याद है और उसने पुलिस को इनके बारे में बताया भी है। पुलिस इस मामले में जाँच कर रही है। 17 लोगों को शहर से बाहर न जाने को कहा गया है। जाँचकर्ताओं का कहना है कि लड़की की माँ ने सबसे प्रमुख सबूत यानी की लड़की के कपड़ों को जला दिया है जो उसने घटना के समय पहने हुए थे। वहीं लड़की की माँ का कहना है कि उन्होंने ऐसा बुरी यादों को खत्म करने के लिए किया।   

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कागज तो दिखाना ही पड़ेगा: अमर, अकबर या एंथनी… भोले के भक्तों को बेचना है खाना, तो जरूरी है कागज दिखाना – FSSAI अब...

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि कांवड़ रूट में नाम दिखने पर रोक लगाई जा रही है, लेकिन कागज दिखाने पर कोई रोक नहीं है।

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -