Tuesday, September 28, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयजर्मनी में समलैंगिकों की जान आफत में, इस्लामिक देशों से आए मुस्लिम शरणार्थियों के...

जर्मनी में समलैंगिकों की जान आफत में, इस्लामिक देशों से आए मुस्लिम शरणार्थियों के घृणा का बन रहे हैं शिकार

बार मालिकों के अनुसार, हफ्तों से चाव कारें रात में 60-70 किमी/घंटा की रफ्तार से रिंग स्ट्रीट से गली के लोगों की ओर दौड़ाई जा रही हैं। हम पीड़ित हैं और डरे हुए व अपमानित महसूस कर रहे हैं।

इस्लामिक देशों से यूरोप के विभिन्न हिस्सों में प्रवासियों का आना यूरोप के समलैंगिकों (homosexuals) के लिए एक बुरा सपना बन गया है, क्योंकि बार-बार उन पर होने वाले हमलों के कारण अब उन्हें खतरा महसूस होने लगा है। ऐसी ही एक घटना में दो हफ्ते पहले जर्मनी के कोलोन शहर में हुई, जहाँ एक बार के पास समलैंगिकों से कार को टकरा दी गई। इससे यूरोप में समलैंगिक समुदाय में दहशत की एक नई लहर दौड़ गई।

जिहाद वॉच की एक रिपोर्ट के मुताबिक, लगभग 15 दिन पहले जर्मनी के कोलोन शहर के एक गे (Gay) बार Schaafenstraße में समलैंगिक जश्न मना रहे थे। तभी कई अन्य विजिटर्स वहाँ पर आए, जिनमें से अधिकतर आप्रवासी थे, जो दूसरी जगहों पर कोविड-19 प्रतिबंधों के कारण यहाँ पर पार्टी करने के लिए आए थे। इस दौरान उन्होंने गली में पेशाब कर, बोतल फेंक और होमोफोबिक (समलैंगिकों के प्रति घृणा) कृत्य करके उन्हें डराना और उनका अपमान करना शुरू कर दिया।

दो हफ्ते पहले, Schaafenstraße के पास स्थिति तब बिगड़ गई, जब कुछ आगंतुकों ने बार के पास समलैंगिकों की ओर तेज गति से कारों को दौड़ाया। यह सिलसिला आगे भी चलता रहा। बार मालिकों के अनुसार, “हफ्तों से चाव कारें रात में 60-70 किमी/घंटा की रफ्तार से रिंग स्ट्रीट से गली के लोगों की ओर दौड़ाई जा रही हैं। हम पीड़ित हैं और डरे हुए व अपमानित महसूस कर रहे हैं।” उन्होंने कहा कि सुरक्षा की कमी से मौत या गंभीर चोट लग सकती है।

शहर के मेयर एंड्रियास हूपके ने शहर में कार हमले को निंदनीय बताया। उन्होंने कहा, “हमें सरकार से पूर्ण पैकेज की आवश्यकता है। किसी समलैंगिक पर गाड़ी चढ़ाया जाए, उससे पहले शाम को पुलिस को यहाँ खड़ा होना पड़ेगा। सिविल सेवकों की तत्काल आवश्यकता है। शहर इसे बर्दाश्त नहीं करेगा।”

एक अन्य समलैंगिक, डेविड लोवरिक ने कहा कि उन्हें कोलोन में पहले ही पीटा जा चुका है, क्योंकि वह समलैंगिक हैं। BILD से बात करते हुए लोवरिक ने कहा कि उन्हें समलैंगिक होने के कारण अरबों, तुर्कों और रूसियों से नियमित रूप से जान से मारने की धमकी मिलती है। डेविड लोवरिक मेकअप इनफ्लुएंसर हैं और वह इस बार में अक्सर आते रहते हैं। वह यहाँ पर शांतिपूर्ण ढंग से सेलीब्रेट करने के लिए आते हैं, लेकिन उन पर Schaafenstraße में ‘faggot’ और ‘you should be gassed’ जैसी गंदी टिप्पणियाँ की जाती है। उन्होंने कहा कि कुछ हफ्तों से स्थिति पहले से कहीं ज्यादा होमोफोबिक हो गई है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,827FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe