Monday, May 20, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'भारत विरोधी लोगों के इशारे पर काम कर रहा अमेरिकी मीडिया, कश्मीर पर दिखा...

‘भारत विरोधी लोगों के इशारे पर काम कर रहा अमेरिकी मीडिया, कश्मीर पर दिखा रहा एकतरफा तस्वीर’

हाल ही में कश्मीरी पंडितों ने जम्मू-कश्मीर में हुए घटनाक्रमों की एकतरफा खबरें प्रकाशित करने के खिलाफ अमेरिका में 'द वाशिंगटन पोस्ट' के कार्यालय के सामने विरोध प्रदर्शन भी किया था।

कश्मीर पर एकतरफा रिपोर्टिंग को लेकर अमेरिकी मीडिया को भारत ने फटकार लगाई है। अमेरिका में भारतीय राजदूत हर्षवर्धन श्रृंगला ने कहा है कि अमेरिकी मीडिया का एक तबका जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद से ही एकतरफा रिपोर्टिंग कर रहा है। ऐसा उन पक्षों के कहने पर किया जा रहा है, जो भारतीय हितों के खिलाफ काम कर रहे हैं।

श्रृंगला ने कहा कि भारत ने पिछले महीने जम्मू-कश्मीर की विशेष स्थिति को समाप्त करने और इसे दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने का फैसला वहाँ के लोगों की भलाई के लिए लिया है।

भारतीय राजनयिक ने जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 की कड़ी आलोचना करते हुए कहा कि यह एक अराजकतावादी प्रावधान था, जिससे अर्थव्यवस्था का दम घुट रहा था और पाकिस्तानी आतंकवाद को बढ़ावा मिल रहा था। उन्होंने कहा कि दुर्भाग्यवश अमेरिका में मीडिया के एक तबके ने अपने कारणों से इस पक्ष को सामने नहीं लाने का विकल्प चुना है। जबकि यह बेहद महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि वे तस्वीर के उस पहलू पर फोकस कर रहे हैं जिसे उन पक्षों द्वारा आगे बढ़ाया गया है जो देश के हितों से बैर रखते हैं।

श्रृंगला ने कहा कि उन्होंने और भारतीय दूतावास ने भारत के बारे में तथ्यात्मक स्थिति को लेकर कॉन्ग्रेस सदस्यों, सीनेटरों और थिंक टैंक से संपर्क कायम करने के लिए एक व्यापक अभियान शुरू किया है। हर्षवर्धन श्रृंगला का कहना है कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के निरस्त होने से वहाँ का माहौल बेहतर होगा। उन्होंने कहा कि इससे प्रदेश के लोगों को अपने अधिकारों को हासिल करने में मदद मिलेगी जिससे वे दशकों से वंचित थे। भारतीय राजदूत ने कहा कि वो लोगों को इस वास्तविकता से रूबरू करवाने की कोशिश कर रहे हैं।

गौरतलब है कि, हाल ही में कश्मीरी पंडितों ने जम्मू-कश्मीर में हुए घटनाक्रमों की एकतरफा खबरें प्रकाशित करने के खिलाफ अमेरिका में ‘द वाशिंगटन पोस्ट’ के कार्यालय के सामने विरोध प्रदर्शन किया था। उन्होंने अखबार पर पक्षपातपूर्ण रिपोर्टिंग करने का आरोप लगाते हुए कहा था, “वाशिंगटन पोस्ट मीडिया की खबरों में कहीं यह जिक्र नहीं है कि इस अराजक राज्य में कश्मीरी पंडितों के खिलाफ सबसे जघन्य नरसंहार हुआ जिससे उन्हें निर्वासित होना पड़ा।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत में 1300 आइलैंड्स, नए सिंगापुर बनाने की तरफ बढ़ रहा देश… NDTV से इंटरव्यू में बोले PM मोदी – जमीन से जुड़ कर...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आँकड़े गिनाते हुए जिक्र किया कि 2014 के पहले कुछ सौ स्टार्टअप्स थे, आज सवा लाख स्टार्टअप्स हैं, 100 यूनिकॉर्न्स हैं। उन्होंने PLFS के डेटा का जिक्र करते हुए कहा कि बेरोजगारी आधी हो गई है, 6-7 साल में 6 करोड़ नई नौकरियाँ सृजित हुई हैं।

कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं ने अपने ही अध्यक्ष के चेहरे पर पोती स्याही, लिख दिया ‘TMC का एजेंट’: अधीर रंजन चौधरी को फटकार लगाने के बाद...

पश्चिम बंगाल में कॉन्ग्रेस का गठबंधन ममता बनर्जी के धुर विरोधी वामदलों से है। केरल में कॉन्ग्रेस पार्टी इन्हीं वामदलों के साथ लड़ रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -