Wednesday, August 4, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'भारत विरोधी लोगों के इशारे पर काम कर रहा अमेरिकी मीडिया, कश्मीर पर दिखा...

‘भारत विरोधी लोगों के इशारे पर काम कर रहा अमेरिकी मीडिया, कश्मीर पर दिखा रहा एकतरफा तस्वीर’

हाल ही में कश्मीरी पंडितों ने जम्मू-कश्मीर में हुए घटनाक्रमों की एकतरफा खबरें प्रकाशित करने के खिलाफ अमेरिका में 'द वाशिंगटन पोस्ट' के कार्यालय के सामने विरोध प्रदर्शन भी किया था।

कश्मीर पर एकतरफा रिपोर्टिंग को लेकर अमेरिकी मीडिया को भारत ने फटकार लगाई है। अमेरिका में भारतीय राजदूत हर्षवर्धन श्रृंगला ने कहा है कि अमेरिकी मीडिया का एक तबका जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद से ही एकतरफा रिपोर्टिंग कर रहा है। ऐसा उन पक्षों के कहने पर किया जा रहा है, जो भारतीय हितों के खिलाफ काम कर रहे हैं।

श्रृंगला ने कहा कि भारत ने पिछले महीने जम्मू-कश्मीर की विशेष स्थिति को समाप्त करने और इसे दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने का फैसला वहाँ के लोगों की भलाई के लिए लिया है।

भारतीय राजनयिक ने जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 की कड़ी आलोचना करते हुए कहा कि यह एक अराजकतावादी प्रावधान था, जिससे अर्थव्यवस्था का दम घुट रहा था और पाकिस्तानी आतंकवाद को बढ़ावा मिल रहा था। उन्होंने कहा कि दुर्भाग्यवश अमेरिका में मीडिया के एक तबके ने अपने कारणों से इस पक्ष को सामने नहीं लाने का विकल्प चुना है। जबकि यह बेहद महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि वे तस्वीर के उस पहलू पर फोकस कर रहे हैं जिसे उन पक्षों द्वारा आगे बढ़ाया गया है जो देश के हितों से बैर रखते हैं।

श्रृंगला ने कहा कि उन्होंने और भारतीय दूतावास ने भारत के बारे में तथ्यात्मक स्थिति को लेकर कॉन्ग्रेस सदस्यों, सीनेटरों और थिंक टैंक से संपर्क कायम करने के लिए एक व्यापक अभियान शुरू किया है। हर्षवर्धन श्रृंगला का कहना है कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के निरस्त होने से वहाँ का माहौल बेहतर होगा। उन्होंने कहा कि इससे प्रदेश के लोगों को अपने अधिकारों को हासिल करने में मदद मिलेगी जिससे वे दशकों से वंचित थे। भारतीय राजदूत ने कहा कि वो लोगों को इस वास्तविकता से रूबरू करवाने की कोशिश कर रहे हैं।

गौरतलब है कि, हाल ही में कश्मीरी पंडितों ने जम्मू-कश्मीर में हुए घटनाक्रमों की एकतरफा खबरें प्रकाशित करने के खिलाफ अमेरिका में ‘द वाशिंगटन पोस्ट’ के कार्यालय के सामने विरोध प्रदर्शन किया था। उन्होंने अखबार पर पक्षपातपूर्ण रिपोर्टिंग करने का आरोप लगाते हुए कहा था, “वाशिंगटन पोस्ट मीडिया की खबरों में कहीं यह जिक्र नहीं है कि इस अराजक राज्य में कश्मीरी पंडितों के खिलाफ सबसे जघन्य नरसंहार हुआ जिससे उन्हें निर्वासित होना पड़ा।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारतीय हॉकी का ‘द ग्रेट वॉल’: जिसे घेर कर पीटने पहुँचे थे शिवसेना के 150 गुंडे, टोक्यो ओलंपिक में वही भारत का नायक

शिवसेना वालों ने PR श्रीजेश से पूछा - "क्या तुम पाकिस्तानी हो?" अपने ही देश में ये देख कर उन्हें हैरत हुई। टोक्यो ओलंपिक के बाद सब इनके कायल।

अफगानिस्तान के सबसे सुरक्षित इलाके में तालिबानी हमला, रक्षा मंत्री निशाना: ब्लास्ट-गोलीबारी, सड़कों पर ‘अल्लाहु अकबर’

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के विभिन्न हिस्सों में गोलीबारी और बम ब्लास्ट की आवाज़ें आईं। शहर के उस 'ग्रीन जोन' में भी ये सब हुआ, जो कड़ी सुरक्षा वाला इलाका है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,873FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe