Wednesday, July 17, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयराहुल गाँधी के कार्यक्रम से जुड़े संगठन ने अमेरिका में कराया इस्लामी धर्मांतरण, एजुकेशनल...

राहुल गाँधी के कार्यक्रम से जुड़े संगठन ने अमेरिका में कराया इस्लामी धर्मांतरण, एजुकेशनल टूर पर गए पाकिस्तानी क्रिकेटर बाबर आजम और मोहम्मद रिजवान भी बने गवाह

धर्मांतरण के पीछे कट्टर इस्लामी संगठन आईसीएनए का हाथ है। दिलचस्प यह है कि 4 जून को अमेरिका के न्यूयॉर्क में राहुल गाँधी का जो कार्यक्रम आयोजित किया गया था, उसमें भी इस संगठन की भागीदारी थी।

अमेरिका के बाल्टीमोर शहर में इस्लामी धर्मांतरण का एक वीडियो वायरल है। काॅन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी के अमेरिकी दौरे के दौरान आयोजित कार्यक्रम से जुड़े इस्लामी संगठन का हाथ इसके पीछे है। धर्मांतरण के गवाह बने लोगों में पाकिस्तान के क्रिकेटर बाबर आजम और मोहम्मद रिजवान भी शामिल थे। दोनों हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के एजुकेशन प्रोग्राम में शामिल होने के लिए अमेरिका गए थे।

यह धर्मांतरण इस्लामिक सर्कल ऑफ नॉर्थ अमेरिका (ICNA) कन्वेंशन 2023 कार्यक्रम में हुआ। इसका आयोजन 27-28 मई 2023 को किया गया था। पाकिस्तानी क्रिकेटरों की मौजूदगी में हुए धर्मांतरण का वीडियो मोहिब आसिफ नामक ब्लॉगर ने 28 मई को यूट्यूब पर अपलोड किया था। क्रिक डेन नामक यूट्यूब चैनल के शेयर करने के बाद यह वीडियो वायरल हो गया। 

इस कार्यक्रम के दौरान दोनों पाकिस्तानी आजम और रिजवान ने वहाँ मौजूद लोगों को संबोधित भी किया था। इसका वीडियो आईसीएनए के यूट्यूब चैनल पर यहाँ और यहाँ देखा जा सकता है। गौरतलब है कि 4 जून 2023 को अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में राहुल गाँधी का एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था। इस कार्यक्रम के आयोजकों में कट्टरपंथी इस्लामिक संगठन आईसीएनए का भी हाथ था। दरअसल, कार्यक्रम से पहले सोशल मीडिया पर एक रजिस्ट्रेशन फॉर्म वायरल हुआ था। इस फॉर्म में कार्यक्रम के लिए मुस्लिमों से रजिस्ट्रेशन कराने की अपील की गई थी। यह विशेष रजिस्ट्रेशन फॉर्म राहुल गाँधी की अमेरिका यात्रा की आधिकारिक वेबसाइट पर उपलब्ध नहीं था। लेकिन सोशल मीडिया समेत कुछ अन्य मैसेजिंग प्लेटफॉर्म पर इसे शेयर किया गया था।

डिसइंफो लैब के अनुसार, आईसीएनए के लश्कर-ए-तैयबा और जमात-ए-इस्लामी जैसे पाकिस्तानी आतंकी संगठनों से संबंध हैं। ICNA ने कश्मीर को भारत से अलग करने के अपने विचारों को आगे बढ़ाने के लिए हिज्बुल मुजाहिदीन के सरगना सैयद सलाहुद्दीन सहित कई इस्लामिक आतंकियों का महिमामंडन किया है। आईसीएनए, भारत विरोधी गतिविधियों में शामिल इंडियन अमेरिकन मुस्लिम काउंसिल (IAMC) से भी जुड़ा हुआ है। आईएएमसी के संस्थापक शेख उबैद और सदस्य अब्दुल मलिक मुजाहिद आईसीएनए के प्रमुख हैं। बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के साथ पीएम मोदी के स्टेट डिनर के खिलाफ पत्र लिखने वालों में भी IAMC का भी नाम शामिल था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -