Friday, May 14, 2021
Home रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय कोरोना की आड़ में विस्तार कर रहे इस्लामी आतंकी संगठन, लॉकडाउन का फायदा उठा...

कोरोना की आड़ में विस्तार कर रहे इस्लामी आतंकी संगठन, लॉकडाउन का फायदा उठा कर रची जा रही साजिश

कोविड-19 या कोरोना वायरस संक्रमण आपदा शैतानों द्वारा लाई गई है और इस वायरस की काट के लिए एक ही एंटी-वायरस है और वो है इस्लाम। - यह किसी और ने नहीं बल्कि बोको हराम के सबसे बड़े सरगना अबूबकर शेकाउ ने कहा।

मजहबी कट्टरता पर नज़र रखने वाले संगठनों ने आशंका जताई है कि बोको हराम जैसे आतंकी संगठन कोरोना वायरस आपदा की आड़ में अपना प्रभाव बढ़ा रहे हैं। साथ ही 2014 में सीरिया और इराक में कत्लेआम मचाने वाला दाएश भी कोरोना की आड़ में अपने संगठन का विस्तार कर रहा है। वहाँ भी नॉन-मुस्लिमों को निशाना बनाया जा रहा है। इन हमलों को नरसंहार की श्रेणी में रखा जा सकता है।

फिलहाल देश-दुनिया लॉकडाउन से उबरने की कोशिश में लगी है और लोग चहारदीवारी के भीतर बंद रह कर उकता गए हैं। धीरे-धीरे जनजीवन सामान्य बनाने के लिए सभी प्रकार के प्रयास किए जा रहे हैं। ऐसी आपदा की स्थिति में भी आतंकी संगठनों को चैन नहीं है और वो अपना विस्तार करने में लगातार लगे हुए हैं। बोको हराम और दाएश जैसे आतंकी संगठनों ने कोरोना को अपने लिए एक मौका के रूप में देखा है।

बोको हराम के सबसे बड़े सरगना अबूबकर शेकाउ ने हाल ही में बयान दिया था कि कोविड-19 या कोरोना वायरस संक्रमण आपदा शैतानों द्वारा लाई गई है और इस वायरस की काट के लिए एक ही एंटी-वायरस है और वो है इस्लाम। कई लोग कह रहे हैं कि कोरोना आपदा के बीच दुनिया के सभी देशों को आतंकवाद के ख़िलाफ़ लड़ाई में ढील नहीं देनी चाहिए, नहीं तो ‘न्यू ऑर्डर वर्ल्ड’ में इससे निपटने के लिए कोई रणनीति नहीं होगी।

आतंकी संगठन बोको हराम ख़ुद को एक जिहादी संगठन बताता है। इसके बारे में पहली बार 2003 में चर्चा हुई थी। उसके द्वारा किए गए अपराधों में कुछ भी बाकी नहीं रहा है और इसके धीरे-धीरे अपना ख़ासा प्रसार किया है। कहने को तो ये नॉर्थ-ईस्ट नाइजीरिया में आधारित है लेकिन इसने आसपास के सभी पड़ोसी देशों को अपने आतंक से हलकान कर रखा है। एक बात जानने लायक है कि इसके आतंकी हमलों के पीछे इनका मकसद क्या होता है।

जैसे, जो भी पश्चिमी विचारधारा का समर्थन करते पाए जाते हैं या फिर बोको हराम की आलोचना करते हैं, इसके आतंकी उन लोगों के दरवाजे पर दस्तक देने में देर नहीं करते। ये ज्यादातर ईसाइयों को निशाना बनाता है। बताया जाता है कि इसके पीछे उन्हें काफिर मानने वाली सोच है क्योंकि ईसाई अल्लाह को नहीं मानते। महिलाओं और बच्चों पर हमला करना इसका ट्रेंड रहा है। महिलाओं और लड़कियों का यौन शोषण, उनसे जबरन मजदूरी करवाना और उनका बलात्कार करना इसके लिए आम बात है।

‘इस्लामिक स्टेट वेस्ट अफ्रीका प्रोविंस (ISWAP)’ भी इससे सम्बद्ध आतंकी संगठन ही है। ये बुर्किना फासो, कैमरून, चाड, नाइजर और नाइजीरिया में आतंकी हमले करता है। ज्यादातर हमले नॉन-मुस्लिम अल्पसंख्यकों पर होते हैं। मजहबी अत्याचार पर नज़र रखने वाले संगठन ‘ओपन डोर्स’ ने बताया है कि बोको हराम अपने संगठन विस्तार के लिए बेचैन है। इसने मार्च 2020 में चाड में हमला बोल कर 98 सैनिकों को मार डाला।

अफ्रीका के सब-सहारा क्षेत्रों में ये अपना प्रभाव बढ़ा रहा है। वहीं अगर दाएश की बात करें तो उसके अपराधों में हजारों लोगों को मार डालना, महिलाओं और लड़कियों को यौन दासता के लिए मजबूर करना और लड़कों को जबरदस्ती अपने संगठन में भर्ती करना शामिल है। 6 साल पहले किए गए अपराधों के कई पीड़ित अभी तक मिसिंग हैं। अल्पसंख्यक समुदायों की जनसंख्या वहाँ आधी रह गई है। जो बचे हैं, वो डर के जी रहे हैं।

हालाँकि, दाएश के ख़िलाफ़ सफलता जरूर मिली है लेकिन अमेरिका का कहना है कि युद्ध अभी ख़त्म नहीं हुआ है। हाल ही में उसने इराक में कुछ सैनिकों को मार डाला था। विशेषज्ञों का कहना है कि दाएश भी इराक के लिए एक बड़ा खतरा बना हुआ है। इसने अपने आतंकियों को पश्चिमी देशों और उनके लोगों पर हमले करने को कहा है। पश्चिम की कमजोरियों का फायदा उठाया जा रहा है क्योंकि वो फ़िलहाल कोरोना से निपटने में व्यस्त हैं।

अगर भारत की बात करें तो यहाँ भी जम्मू कश्मीर में आतंकियों की गतिविधि बढ़ गई है। हाल ही में घाटी में सरपंच अजय भारती पंडिता की हत्या कर दी गई। सुरक्षा बलों ने 2 सप्ताह में 22 आतंकियों को मार गिराया है, जिनमें से 6 बड़े सरगना थे। इससे पता चलता है कि यहाँ भी वो कोरोना की आड़ में सक्रियता बढ़ा रहे हैं लेकिन सेना पहले से सख्त थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

1971 में भारतीय नौसेना, 2021 में इजरायली सेना: ट्रिक वही-नतीजे भी वैसे, हमास ने ‘Metro’ में खुद भेज दिए शिकार

इजरायल ने एक ऐसी रणनीतिक युद्धकला का प्रदर्शन किया है, जिसने 1971 में भारत और पाकिस्तान के बीच हुए युद्ध की ताजा कर दी है।

20 साल से जर्जर था अंग्रेजों के जमाने का अस्पताल: RSS स्वयंसेवकों ने 200 बेड वाले COVID सेंटर में बदला

कभी एशिया के सबसे बड़े अस्पतालों में था BGML। लेकिन बीते दो दशक से बदहाली में था। आरएसएस की मदद से इसे नया जीवन दिया गया है।

₹995 में Sputnik V, पहली डोज रेड्डीज लैब वाले दीपक सपरा को: जानिए, भारत में कोरोना के कौन से 8 टीके

जानिए, भारत को किन 8 कोरोना वैक्सीन से उम्मीद है। वे अभी किस स्टेज में हैं और कहाँ बन रही हैं।

3500 गाँव-40000 हिंदू पीड़ित, तालाबों में डाले जहर, अब हो रही जबरन वसूली: बंगाल हिंसा पर VHP का चौंकाने वाला दावा

वीएचपी ने कहा है कि ज्यादातार पीड़ित SC/ST हैं। कई जगहों पर हिंदुओं से आधार, वोटर और राशन कार्ड समेत कई दस्तावेज छीन लिए गए हैं।

दिल्ली: केजरीवाल सरकार ने फ्री वैक्सीनेशन के लिए दिए ₹50 करोड़, पर महज तीन महीने में विज्ञापनों पर खर्च कर डाले ₹150 करोड़

दिल्ली में कोरोना के फ्री वैक्सीनेशन के लिए केजरीवाल सरकार ने दिए 50 करोड़ रुपए, पर प्रचार पर खर्च किए 150 करोड़ रुपए

महाराष्ट्र: 1814 अस्पतालों का ऑडिट, हर जगह ऑक्सीजन सेफ्टी भगवान भरोसे, ट्रांसफॉर्मर के पास स्टोर किए जा रहे सिलेंडर

नासिक के अस्पताल में हादसे के बाद महाराष्ट्र के अस्पतालों में ऑडिट के निर्देश तो दे दिए गए, लेकिन लगता नहीं कि इससे अस्पतालों ने कुछ सीखा है।

प्रचलित ख़बरें

हिरोइन है, फलस्तीन के समर्थन में नारे लगा रही थीं… इजरायली पुलिस ने टाँग में मारी गोली

इजरायल और फलस्तीन के बीच चल रहे संघर्ष में एक हिरोइन जख्मी हो गईं। उनका नाम है मैसा अब्द इलाहदी।

1600 रॉकेट-600 टारगेट: हमास का युद्ध विराम प्रस्ताव ठुकरा बोला इजरायल- अब तक जो न किया वो करेंगे

संघर्ष शुरू होने के बाद से इजरायल पर 1600 से ज्यादा रॉकेट दागे जा चुके हैं। जवाब में गाजा में उसने करीब 600 ठिकानों को निशाना बनाया है।

फिलिस्तीनी आतंकी ठिकाने का 14 मंजिला बिल्डिंग तबाह, ईद से पहले इजरायली रक्षा मंत्री ने कहा – ‘पूरी तरह शांत कर देंगे’

इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा, “ये केवल शुरुआत है। हम उन्हें ऐसे मारेंगे, जैसा उन्होंने सपने में भी न सोचा हो।”

‘मर जाओ थंडर वुमन’… इजराइल के समर्थन पर गैल गैडोट पर टूटे कट्टरपंथी, ‘शाहीन बाग की दादी’ के लिए कभी चढ़ाया था सिर पर

इजराइल-हमास और फिलिस्तीनी इस्लामी जिहादियों में जारी लड़ाई के बीच हॉलीवुड में "थंडर वुमन" के नाम से जानी जाने वाली अभिनेत्री गैल गैडोट पर...

इजरायल पर हमास के जिहादी हमले के बीच भारतीय ‘लिबरल’ फिलिस्तीन के समर्थन में कूदे, ट्विटर पर छिड़ा ‘युद्ध’

अब जब इजरायल राष्ट्रीय संकट का सामना कर रहा है तो जहाँ भारतीयों की तरफ से इजरायल के साथ खड़े होने के मैसेज सामने आ रहे हैं, वहीं कुछ विपक्ष और वामपंथी ने फिलिस्तीन के साथ एक अलग रास्ता चुना है।

गाजा पर गिराए 1000 बम, 160 विमानों ने 150 टारगेट पर दागे 450 मिसाइल: बोले नेतन्याहू- हमास को बहुत भारी कीमत चुकानी पड़ेगी

फलस्तीन के साथ हवाई संघर्ष के बीच इजरायल जमीनी लड़ाई की भी तैयारी कर रहा है। हथियारबंद टुकड़ियों के साथ 9000 रिजर्व सैनिकों की तैनाती।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,357FansLike
93,847FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe