Saturday, June 22, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयभारत और PM मोदी पर प्रोपेगेंडा चलाने वाला अल जजीरा इजरायल में होगा बैन,...

भारत और PM मोदी पर प्रोपेगेंडा चलाने वाला अल जजीरा इजरायल में होगा बैन, PM नेतन्याहू ने कतर के मीडिया संस्थान को ‘नरसंहार’ में शामिल बताया

जरायल अल जजीरा के कई पत्रकारों की हमास आतंकियों के साथ संलिप्तता का दावा इजरायल करता आया है। फरवरी 2024 में अल जजीरा के एक ऐसे ही पत्रकार का लैपटॉप बरामद हुआ था। उसके हमास के आतंकी कमांडर होने की बात सामने आई थी। उसकी इस्लामी आतंकी संगठन हमास के साथ ट्रेनिंग की तस्वीरें भी सामने रखी गईं थी।

विश्व भर में इस्लामी प्रोपेगेंडा चलाने वाले क़तर के सरकारी मीडिया नेटवर्क अल जजीरा पर इजरायल ताला जड़ने जा रहा है। इसके लिए इजरायल की संसद ने नए कानून को मंजूरी दे दी है। अल जजीरा को इजरायल में बंद करने की जानकारी प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने दी है।

बेंजामिन नेतन्याहू ने एक्स (पहले ट्विटर) पर लिखा, “अल जज़ीरा ने इजरायल की सुरक्षा को नुकसान पहुँचाया, 7 अक्टूबर के नरसंहार में हिस्सा लिया और इजरायली सुरक्षा बलों के विरुद्ध हिंसा भड़काई। अब समय आ गया है कि हमारे देश से हमास के मुखपत्र को बंद किया जाए। आतंकवादी चैनल अल जज़ीरा अब इजरायल में प्रसारित नहीं होगा। मैं चैनल को रोकने लिए नए कानून के तहत तुरंत कार्रवाई करूँगा।”

इजरायल की संसद ने सोमवार (1 अप्रैल, 2024) को अल जजीरा पर प्रतिबंध लगाने वाला कानून पास किया है। यह कानून इजरायल के प्रधानमंत्री को शक्ति देता है कि वह ऐसे किसी विदेशी मीडिया संस्थान पर पाबंदी लगा सकता है जो कि इजरायल के सुरक्षा हितों को नुकसान पहुँचाता हो।

इससे पहले इजरायल अल जजीरा के कई पत्रकारों की हमास आतंकियों के साथ संलिप्तता का दावा इजरायल करता आया है। फरवरी 2024 में अल जजीरा के एक ऐसे ही पत्रकार का लैपटॉप बरामद हुआ था। उसके हमास के आतंकी कमांडर होने की बात सामने आई थी। उसकी इस्लामी आतंकी संगठन हमास के साथ ट्रेनिंग की तस्वीरें भी सामने रखी गईं थी।

इजरायल लगातार अल जजीरा पर हमास के आतंकियों के मददगार बनने और अपने खिलाफ प्रोपेगेंडा को हवा देने का आरोप लगाता रहा है। अल जजीरा कई बार इजरायल के विरुद्ध एक तरफा खबरें चलाता आया गया है। इजरायल ने 7 अक्टूबर, 2023 के हमास हमले के बाद एक ऐसी इमारत पर हमला किया था जिसमे अल जजीरा का दफ्तर था। इजरायल ने आरोप लगाया था कि अल जजीरा मीडिया की आड़ में हमास आतंकियों को पनाह दे रहा था।

नए प्रतिबंधों के बाद अब इजरायल में अल जजीरा काम नहीं कर सकेगा। अल जजीरा ने इसको लेकर कहा है कि उसके ऊपर लगाए गए आरोप असत्य हैं। अल जजीरा ने कहा है वह इस निर्णय के खिलाफ न्यायालय जाएगा और इजरायली प्रधानमंत्री उसे लम्बे समय से बंद करना चाहते थे।

अज जजीरा अरबी देश क़तर का मीडिया है। इसे क़तर की सरकार नियंत्रित करती है। यह काफी बड़ा नेटवर्क है और अरबी तथा अंग्रेजी में इसके कई चैनल विश्व भर में प्रसारित होते हैं। इसके फोकस का क्षेत्र अरबी भाषी राष्ट्र हैं। यह उत्तरी अफ्रीका और अरब प्रायद्वीप में मुख्य रूप से सक्रिय है। यह नेटवर्क भारत के खिलाफ कई बार झूठ फैलाता पकड़ा गया है।

अल जजीरा भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को हिन्दू राष्ट्रवादी बताता आया है और लगातार मोदी सरकार की आलोचना का प्रोपेगेंडा करता रहा है। इसे भारत में भी बंद करने की माँग उठती रही है। अल जजीरा भारत में वर्तमान में चुनावों को लेकर अपना एजेंडा बढ़ा रहा है।

इजरायल ने सीरिया में ईरानी वाणिज्य दूतावास पर किया हमला (Israel accused of killing 11 in Iranian embassy attack)

सीरिया की राजधानी दमिश्क में ईरान के वाणिज्यिक दूतावास की एक इमारत पर हवाई हमला हुआ है। इस हमले का आरोप ईरान और सीरिया ने इजरायल पर लगाया है। हमले का निशाना ईरान की रेवोल्यूशनरी गार्ड के कमांडर थे। इस हमले में 11 लोगों की मौत हुई है। हमले में ईरान के शीर्ष कमांडर ब्रिगेडियर जनरल रेजा जाहेदी की भी मौत हो गई है। बताया गया यह हमला F-35 लड़ाकू विमानों के जरिए किया गया। हमले में 8 ईरानी, 2 सीरियाई जबकि एक लेबनानी नागरिक के मारे जाने की सूचना है।

इस हमले के बाद अब ईरान और इजरायल के बीच तनाव बढ़ सकता है। इससे इजरायल और हमास के बीच अक्टूबर 2023 से चल रहे युद्ध में भी तेजी आ सकती है। ईरान इस हमले का बदला लेने के लिए इजरायल के अन्य ठिकानों पर हमला कर सकता है। सीरिया के विदेश मंत्री ने इस हमले कहा है कि यह काफी जघन्य आंतकी हमला है और इससे मासूमों की जान गई है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज भी ‘रलिव, गलिव, चलिव’ ही कश्मीर का सत्य, आखिर कब थमेगा हिन्दुओं को निशाना बनाने का सिलसिला: जानिए हाल के वर्षों में कब...

जम्मू कश्मीर में इस्लाम के नाम पर लगातार हिन्दू प्रताड़ना जारी है। 2024 में ही जिहाद के नाम पर 13 हिन्दुओं की हत्याएँ की जा चुकी हैं।

CM केजरीवाल ने माँगे थे ₹100 करोड़, हमने ₹45 करोड़ का पता लगाया: ED ने दिल्ली हाई कोर्ट को बताया, कहा- निचली अदालत के...

दिल्ली हाई कोर्ट ने मुख्यमंत्री और AAP मुखिया अरविन्द केजरीवाल की नियमित जमानत पर अंतरिम तौर पर रोक लगा दी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -