Friday, June 14, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयहमास की 'संसद' पर लहराया इजरायली झंडा, स्पीकर की कुर्सी पर बैठे यहूदी सैनिक:...

हमास की ‘संसद’ पर लहराया इजरायली झंडा, स्पीकर की कुर्सी पर बैठे यहूदी सैनिक: गाजा में बच्चों के अस्पताल को बना रखा था आतंक का अड्डा

हमास वर्ष 2007 से ही गाजा पर कब्ज़ा किए हुए है। वह गाजा की जमीन को अपनी आतंकी गतिविधि संचालित करने के लिए इस्तेमाल में लाता है और यहाँ के नागरिकों को अपनी लड़ाई में ढाल बनाता है।

इजरायल के रक्षा मंत्री याओव गैलेंट ने कहा है कि इस्लामी आतंकी संगठन हमास ने 16 वर्षों के बाद गाजा पट्टी का नियन्त्रण खो दिया है। उन्होंने यह भी कहा है कि हमास के आतंकी दक्षिणी गाजा में भाग रहे हैं और उनकी रसद गाजा के आम नागरिक लूट रहे हैं। इस बीच इजरायल के सैनिकों की एक फोटो भी सामने आई है जिसमें वह हमास की संसद के अंदर खड़े होकर इजरायल का झंडा लहरा रहे हैं। यहीं से हमास गाजा पर अपनी तानाशाही चलाता था। यह सैनिक इजरायल की गोलानी ब्रिगेड के हैं।

हमास वर्ष 2007 से ही गाजा पर कब्ज़ा किए हुए है। वह गाजा की जमीन को अपनी आतंकी गतिविधि संचालित करने के लिए इस्तेमाल में लाता है और यहाँ के नागरिकों को अपनी लड़ाई में ढाल बनाता है। हमास ने एक राजनीतिक विंग बना रखी है जो गाजा में लोकतांत्रिक प्रतिनिधित्व का दिखावा करती है।

गौरतलब है कि इस्लामी आतंकी संगठन हमास ने 7 अक्टूबर, 2023 को गाजा से इजरायल पर हमला बोल दिया था। इस हमले में हमास के आतंकियों ने 1200 लोगों को मार दिया था। इजरायल इसके बाद से ही लगातार गाजा पर हमले कर रहा है और अब उसकी सेना भी गाजा में घुस चुकी है। इजरायल पर इस हमले के बाद उसकी सरकार ने सेना को आदेश दिया था कि गाजा पर कब्जा कर लिया जाए। पहले इजरायल की वायुसेना ने हमास पर हवाई हमले किए और उसके बाद सेना की टुकड़ियाँ गाजा के भीतर घुस गईं।

इजरायल के हमले के कारण गाजा में अब तक गाजा में 11,000 से अधिक लोग मारे जा चुके हैं। इजरायल ने इस बीच हमास के आतंकियों की संख्या और उनकी योजना का खुलासा भी किया है। इजरायल की सेना ने बताया है कि हमास के पास युद्ध की शुरुआत के समय कम से कम 30,000 सैनिक थे जिन्हें अलग-अलग ब्रिगेड में बाँटा गया था।

हालाँकि, अब यह आतंकी अपने ठिकाने छोड़ रहे हैं और इजरायल की सेना तेजी से गाजा को अपने कब्जे में ले रहा है। हमास ने बच्चों के अस्पताल के नीचे अपना सैन्य बेस बना रखा था, जिसे सेना ने अपने कब्जे में लिया है। इस बीच गाजा के सबसे बड़े अस्पताल अल शिफा के पास भी आतंकियों ने हमले तेज कर दिए हैं ताकि इजरायल अपनी सेना पीछे हटा ले। इजरायल की सेना ने इस अस्पताल के प्रबंधकों से बातचीत करके उन्हें इलाका खाली करने के लिए सभी सुविधाएँ उपलब्ध करवाने का आश्वासन दिया है।

इजरायल की सेना ने आरोप लगाया है कि हमास के आतंकी अस्पताल वालों को इस बात के लिए धमका रहे हैं कि वह इजरायल से कोई भी सहायता ना लें। इससे इजरायल पर इलाका खाली करने का दबाव पड़े। हमास के आतंकियों ने इस अस्पताल को ढाल बनाकर इसके नीचे सुरंगें बना ली हैं। इजरायल ने गाजा की जनता पहले ही उत्तरी इलाके में जाने को कहा था। बड़ी संख्या में गाजा के निवासी उधर चले भी गए हैं। इजरायल ने इस बीच गाजा के भीतर पहुँचने वाली जरूरी रसद को भी मंजूरी दे थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -