Tuesday, July 23, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयऐसा जवाब देंगे कि दुश्मन ने सोचा भी नहीं होगा... इजरायल के PM ने...

ऐसा जवाब देंगे कि दुश्मन ने सोचा भी नहीं होगा… इजरायल के PM ने किया युद्ध का ऐलान, सेना ने लॉन्च किया ‘Swords Of Iron’

आतंकवादी समूह हमास द्वारा हमले की शुरुआत के लगभग पाँच घंटे बाद, इस मामले पर अपने पहले सार्वजनिक बयान में नेतन्याहू ने कहा, "दुश्मन को ऐसी कीमत चुकानी पड़ेगी जैसी उन्होंने पहले कभी नहीं जानी होगी।"

गाजा से आतंकी समूह हमास द्वारा सुबह-सुबह किए गए हमले के कुछ घंटों बाद आईडीएफ ने शनिवार (7 अक्टूबर, 2023) को बड़े पैमाने पर जवाबी कार्रवाई शुरू की है। आतंकी हमले में हमास द्वारा इजरायल और उसके कई क्षेत्रों पर 5000 से अधिक रॉकेट दागे गए। वहीं यह भी खबर है कि हमास आतंकवादियों ने अचानक हमला करने के बाद कई इजरायली शहरों पर कब्जा कर लिया है। वहीं इस मामले में इजरायल ने युद्ध की घोषणा करते हुए इस ऑपरेशन को कोडनेम “स्वॉर्ड्स ऑफ आयरन” दिया है।

“हम युद्ध में हैं और हम जीतेंगे”

टाइम्स ऑफ़ इजरायल की रिपोर्ट के अनुसार,प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने हमास आतंकवादी समूह द्वारा किए गए बड़े हमले पर अपना पहला सार्वजनिक बयान देते हुए कहा कि देश युद्ध में है। वह कहते हैं, ”इसराइल के नागरिकों, हम युद्ध में हैं। और हम जीतेंगे।”

गाजा स्थित आतंकवादी समूह द्वारा हमले की शुरुआत के लगभग पाँच घंटे बाद, इस मामले पर अपने पहले सार्वजनिक बयान में नेतन्याहू ने कहा, “दुश्मन को ऐसी कीमत चुकानी पड़ेगी जैसी उन्होंने पहले कभी नहीं जानी होगी।”

इजरायल हायोम की रिपोर्ट्स के अनुसार, इजरायल कई दक्षिणी शहरों में आतंकवादियों की घुसपैठ और देश के केंद्र और दक्षिण में हजारों रॉकेट दागे जाने से 22 लोगों के मारे जाने और लगभग 300 लोगों के घायल होने की खबरें हैं।

वहीं लगभग 30 इज़राइलियों के पकड़े जाने की अपुष्ट रिपोर्टें भी आ रही हैं, इज़राइल ने पुष्टि की कि शार हानेगेव के क्षेत्रीय परिषद के मेयर लड़ाई में मारे गए हैं। रॉकेट हमले के कारण दक्षिणी शहर राहत में लगभग चार इज़राइली मारे गए।

इजरायल पर हमले की जानकारी देते हुए पत्रकार आदित्य राज कौल ने सोशल मीडिया एक्स पर पोस्ट किया, “हमास इस्लामी आतंकवादी समूह का दावा है कि उसने कई आईडीएफ सैनिकों का अपहरण कर लिया है जिन्हें गाजा ले जाया जा रहा है। इज़राइल के ओफाकिम, नेटिवोट और सेडरोट में आतंकियों ने कई घरों पर कब्जा कर लिया और उन्हें बंधक बना लिया। इजराइल के कई इलाकों में आपात स्थिति की घोषणा हो गई है।”

हमास का “ऑपरेशन अल-अक्सा”

हमास के सैन्य विंग के नेता मोहम्मद दीफ (Deif ) ने आज सुबह (शनिवार) बात की और इज़राइल की ओर किए गए रॉकेट हमलों की जिम्मेदारी ली। इसके अलावा, इस्लामिक जिहाद की सैन्य शाखा के इस आतंकी हमले में प्रबलता से भाग लेने की बात सामने आई है। 

हमास ने इस आतंकी हमले को “ऑपरेशन अल-अक्सा” नाम दिया है। हमास के उप नेता सलाह अल-अरौरी ने अपने बयान कहा, “ऑपरेशन का उद्देश्य अल-अक्सा की रक्षा करना और कैदियों को रिहा करना है।” इस बीच, आईडीएफ ने गाजा पट्टी में हमास के ठिकानों को निशाना बनाना शुरू कर दिया है। ताबड़तोड़ तरीके इजरायल द्वारा जवाबी हमला किया जा रहा है। 

हमास के आतंकी दीफ ने यह भी कहा, “यरूशलेम में अपराध, भूमि की जब्ती, फिलिस्तीनियों को उनके घरों से निष्कासित करना, घरों पर हमले और वेस्ट बैंक में लोगों के उत्पीड़न के साथ-साथ गाजा पर घेराबंदी की प्रतिक्रिया है।” हमास आतंकी ने  यह भी कहा, “बेवजह कब्जे का युग समाप्त हो गया है।”

इसके अलावा, विदेशों में हमास के शीर्ष नेताओं को टीवी पर बयान देते हुए भी देखा गया। हमास नेता इस्माइल हानियेह ने कहा, “हम इस जीत के लिए अल्लाह का शुक्रिया अदा करते हैं।” उसके डिप्टी, आतंकी रणनीतिकार सालेह अल-अरौरी का भी भड़काऊ बयान आया है। 

भारतीय दूतावास ने जारी की एडवाइजरी

इजरायल में भारतियों के लिए दूतावास ने सुरक्षा सम्बंधित एडवाइजरी जारी की है। जिसके तहत भारतियों को हमले की जगह से दूर सुरक्षा बंकरों में रहने की बात कही गई है।

इसमें कहा गया है कि कोई भी भारतीय नागरिक घर से बाहर निकलकर यहाँ-वहाँ न घूमे बल्कि सुरक्षा सुनिश्चित करने में रक्षा मंत्रालय का सहयोग करे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20000 महिलाओं को रेप-मौत से बचाने के लिए जब कॉन्ग्रेसी मंत्री ने RSS से माँगी थी मदद: एक पत्र में दर्ज इतिहास, जिसे छिपा...

पत्र में कहा गया था कि आरएसएस 'फील्ड वर्क' के लिए लोगों को अत्यधिक प्रशिक्षित करेगा और संघ प्रमुख श्री गोलवर्कर से परामर्श लिया जा सकता है।

कागज तो दिखाना ही पड़ेगा: अमर, अकबर या एंथनी… भोले के भक्तों को बेचना है खाना, तो जरूरी है कागज दिखाना – FSSAI अब...

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि कांवड़ रूट में नाम दिखने पर रोक लगाई जा रही है, लेकिन कागज दिखाने पर कोई रोक नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -