Friday, June 25, 2021
Home रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय 127 साल पुरानी बाइबिल से शपथ लेंगे अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन: जानिए क्या है...

127 साल पुरानी बाइबिल से शपथ लेंगे अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन: जानिए क्या है ऐसा करने की खास वजह

राष्ट्रपति जॉन एफ. कैनेडी के बाद बाइडेन अमेरिका के दूसरे कैथोलिक राष्ट्रपति होंगे। अमेरिकी के अधिकतर राष्ट्रपति प्रोटेस्टेंट रहे हैं, जबकि चार राष्ट्रपति Nontrinitarians थे। यह उल्लेखनीय है कि संयुक्त राज्य अमेरिका के सभी राष्ट्रपति ईसाई रहे हैं।

अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति के रूप में जो बाइडेन कुछ ही घंटों में शपथ लेंगे। कैपिटल हिल, हाल ही में जहाँ दंगे हुए थे, उनकी ईसाई जड़ों के गवाह बन जाएँगे। रिपोर्ट्स के मुताबिक, बाइडेन साल 1893 से संभाल कर रखी गई अपने परिवार की 127 साल पुरानी बाइबिल के साथ शपथ लेंगे।

राष्ट्रपति जॉन एफ कैनेडी के बाद बाइडेन अमेरिका के दूसरे कैथोलिक राष्ट्रपति होंगे। अमेरिकी के अधिकतर राष्ट्रपति प्रोटेस्टेंट रहे हैं, जबकि चार राष्ट्रपति Nontrinitarians थे। यह उल्लेखनीय है कि संयुक्त राज्य अमेरिका के सभी राष्ट्रपति ईसाई रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक यह बाइबिल बाइडेन के पिता की ओर से है। जो कि 1893 से उनके परिवार के पास है। उन्होंने अपने सभी सात शपथ ग्रहण समारोहों के लिए एक ही बाइबिल का उपयोग किया है, जिसमें अमेरिकी सीनेटर और दो बार राष्ट्रपति बराक ओबामा के कार्यकाल के दौरान अमेरिका के उपराष्ट्रपति के तौर पर लिया गया शपथ ग्रहण शामिल हैं। डेलावेयर के अटॉर्नी जनरल के रूप में उनके दिवंगत बेटे बीयू ने भी अपने शपथ के दौरान इसका इस्तेमाल किया था।

टुडे की रिपोर्ट के अनुसार, यह बाइबिल लगभग 5 इंच मोटी है और इसके कवर पर एक सेल्टिक क्रॉस बना हुआ है। पिछले महीने बाइबिल के बारे में होस्ट स्टीफन कोलबर्ट से बात करते हुए ने कहा था, “यह बाइडन की ओर से एक पारिवारिक विरासत है और सारी महत्वपूर्ण तारीख भी उसमें है। उदाहरण के लिए, हर बार जब मुझे किसी भी चीज़ के लिए शपथ दिलाई जाती है, तो वह तारीख उसमें होती है और बाइबिल पर लिखी होती है।”

गौरतलब है कि जब 2009 में बाइडन ने सीनेटर के रूप में शपथ ली, तब उन्हें उनकी यह बाइबिल नहीं मिली। जिसकी वजह से समारोह में लेट हुआ था। उस समय बाइडन के हाथ में इतनी बड़ी पुस्तक देखने के बाद, तत्कालीन उपराष्ट्रपति डिक चेनी ने कहा था, “जो, यह एक बड़ी बाइबिल है। बस उससे उन्हें मारना मत।”

उल्लेखनीय है कि, 30 अप्रैल 1789 को जॉर्ज वॉशिंगटन ने संयुक्त राज्य के पहले राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली थी। उस शपथ समारोह के दौरान उन्होंने सेंट जॉन लॉज नंबर 1 से उधार ली गई बाइबिल का इस्तेमाल किया, जो न्यूयॉर्क में सबसे पुरानी मेसोनिक लॉज थी। उसके बाद जॉर्ज एचडब्ल्यू बुश, वॉरेन जी हार्डिंग, ड्वाइट डी आइजनहावर और जिमी कार्टर सहित कई उत्तराधिकारियों ने उसी बाइबिल का इस्तेमाल किया। जॉर्ज डब्ल्यू बुश 2001 में भी उसी बाइबिल इस्तेमाल करना चाहते थे लेकिन अपनी नाजुक प्रकृति के कारण नहीं कर सके। फिर उन्होंने अपने परिवार की बाइबिल का इस्तेमाल करने का फैसला किया था।

अब्राहम लिंकन ने 1861 में अपने पहले शपथ ग्रहण समारोह में कॉन्ग्रेस की लाइब्रेरी में संग्रहित लिंकन बाइबिल का इस्तेमाल किया। वहीं राष्ट्रपति ओबामा और राष्ट्रपति ट्रम्प ने भी अपने शपथ ग्रहण समारोहों के लिए उसी बाइबिल का इस्तेमाल किया। बता दें 2013 में दूसरे शपथ ग्रहण समारोह के दौरान, ओबामा ने डॉ मार्टिन लूथर किंग जूनियर से संबंधित एक बाइबिल का उपयोग किया था।

फ्रेंकलिन डी रूजवेल्ट सहित कई राष्ट्रपतियों ने पारिवारिक बाइबिल से शपथ लिया था। दिलचस्प बात यह है कि जॉन क्विंसी एडम्स और थियोडोर रूजवेल्ट ने समारोहों के लिए बाइबिल का उपयोग ही नहीं किया। दरअसल एडम्स को कानून की किताब से शपथ दिलाई गई थी, तो वहीं रूजवेल्ट ने एक मित्र के घर पर अपना शपथ ग्रहण समारोह पूरा किया था, क्योंकि राष्ट्रपति मैककिनले (McKinley) की मृत्यु हो गई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केजरीवाल की सरकार, महामारी में भी नहीं आई बाज: ऑक्सीजन ऑडिट रिपोर्ट से वेंटिलेटर पर AAP 

मुख्यधारा की मीडिया केजरीवाल सरकार से सवाल नहीं पूछती। ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि अब अदालत क्या रूख अख्तियार करती है।

बाड़ी के पटुआ तीत: मात्र एक दिन में पूरे इजरायल की आबादी से ज्यादा टीका, ‘बुद्धिजीवी’ खोज रहे विदेशी मीडिया की रिपोर्ट

दूसरे शब्दों में कहें तो भारत ने एक दिन में लगभग पूरे इजरायल का टीकाकरण कर दिया। मगर इसे विदेशी मीडिया प्रतिशत में बताएगी और...

भारत के IT मंत्री के ट्विटर अकाउंट पर रोक, देश के बजाय अमेरिकी कानून बना कारण: ट्विटर की मनमानी कब तक?

ट्विटर ने आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद का अकांउट एक घंटे के लिए ब्लॉक कर दिया। ट्विटर ने अमेरिकी कानून का हवाला देते हुए...

SC ऑडिट पैनल की रिपोर्ट: केजरीवाल सरकार के ड्रामे के कारण खड़े रहे ऑक्सीजन टैंकर, दूसरे राज्यों को भी झेलनी पड़ी कमी

दिल्ली के 4 कंटेनर सूरजपुर आईनॉक्स में खड़े थे, क्योंकि आपूर्ति ज्यादा थी और लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन को स्टोर करने की कोई जगह नहीं थी।

ऑपइंडिया इम्पैक्ट: स्कूल में हिंदू बच्चों से नमाज पर एक्शन में NCPCR, फतेहपुर के DM-SP से रिपोर्ट तलब

ऑपइंडिया ने इस स्कूल में अंग्रेजी की टीचर रहीं कल्पना सिंह के हवाले से पूरे प्रकरण को उजागर किया था।

3 महीने-10 बार मालिक, अनिल देशमुख को दिए ₹4 करोड़: रिपोर्ट्स में दावा, ED ने नागपुर-मुंबई के ठिकानों पर मारे छापे

ईडी सूत्रों के हवाले से कहा गया मुंबई के 10 बार मालिकों ने तीन महीने के भीतर अनिल देशमुख को 4 करोड़ रुपए दिए थे।

प्रचलित ख़बरें

‘सत्यनारायण और भागवत कथा फालतू, हिजड़ों की तरह बजाते हैं ताली’: AAP नेता का वीडियो वायरल

AAP की गुजरात इकाई के नेता गोपाल इटालिया का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें वे हिन्दू परंपराओं का अपमान करते दिख रहे हैं।

फतेहपुर के अंग्रेजी मीडियम स्कूल में हिंदू बच्चे पढ़ते थे नमाज: महिला टीचर ने खोली मौलाना उमर गौतम के धर्मांतरण गैंग की पोल

फतेहपुर के नूरुल हुदा इंग्लिश मीडियम स्कूल में मौलाना उमर के गिरोह की सक्रियता का खुलासा वहाँ की ही एक महिला टीचर ने किया है।

‘अपनी मर्जी से मंतोष सहनी के साथ गई, कोई जबरदस्ती नहीं’ – फजीलत खातून ने मधुबनी अपहरण मामले पर लगाया विराम

मधुबनी जिले के बिस्फी की फजीलत खातून के कथित अपहरण मामले में नया मोड़। फजीलत खातून ने खुद ही सामने आकर बताया कि वो मंतोष सहनी के साथ...

TMC के गुंडों ने किया गैंगरेप, कहा- तेरी काली माँ न*गी है, तुझे भी न*गा करेंगे, चाकू से स्तन पर हमला: पीड़ित महिलाओं की...

"उस्मान ने मेरा रेप किया। मैं उससे दया की भीख माँगती रही कि मैं तुम्हारी माँ जैसी हूँ मेरे साथ ऐसा मत करो, लेकिन मेरी चीख-पुकार उसके बहरे कानों तक नहीं पहुँची। वह मेरा बलात्कार करता रहा। उस दिन एक मुस्लिम गुंडे ने एक हिंदू महिला का सम्मान लूट लिया।"

मुस्लिम प्रोफेसर के संपर्क में आकर MBA पास ऋचा बनी माहीन अली, लौटकर घर नहीं आई: सैलरी से मस्जिद को देती है ₹75000

इस्लाम अपनाने वाली ऋचा अब ट्रेनर बन गई है। अब वह खुद छात्राओं और महिलाओं को धर्मांतरण के लिए प्रेरित कर रही है।

दुबई एयरपोर्ट पर नौकरी, मोटी सैलरी का लालच: रिटायर्ड फौजी की बेटी रेणु बन गई आयशा अल्वी

उत्तर प्रदेश के शाहजहाँपुर शाहजहाँपुर जिले के एक रिटायर फौजी की बेटी से दुबई एयरपोर्ट पर काम का लालच देकर इस्लाम कबूल करवाया गया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
105,860FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe