Thursday, June 13, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयजस्टिन ट्रूडो मतलब बिना घर-घाट का कुत्ता: खालिस्तानियों को साध रहे, मुस्लिमों से खा...

जस्टिन ट्रूडो मतलब बिना घर-घाट का कुत्ता: खालिस्तानियों को साध रहे, मुस्लिमों से खा रहे गाली, महँगाई पर घर में लगी है आग, विदेशियों को दे रहे ज्ञान

ट्रुडो जहाँ कनाडा को महँगाई की आग में झोंक चुके हैं वहीं अब वहाँ के मुस्लिम अपने मजहब पर आई आँच के लिए ट्रूडो को मूर्ख करार दे रहे हैं। मुस्लिमों का आरोप है कि ट्रूडो कनाडा के स्कूलों में बच्चों को गे, लेस्बियन संबंधी पढ़ाई करवा कर इस्लाम के खिलाफ काम कर रहे हैं।

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने जून में खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या का आरोप भारत पर मढ़कर यह दर्शा दिया है कि वह स्थानीय स्तर पर अपनी विफलताओं को अब अंतरराष्ट्रीय मुद्दों से ढँकने का प्रयास कर रहे हैं।

ट्रूडो ने कनाडा में अपने विरोध को कम करने का प्रयास इस बात से किया है कि उनके देश में आ रही समस्याएँ अन्य देशों के कारण हैं ना कि उनकी स्वयं की विफलताओं के कारण। ऐसा इसलिए भी है क्योंकि ट्रूडो वर्तमान में कनाडा में भारी विरोध का सामना कर रहे हैं।

बता दें कि कनाडा वर्तमान में महँगाई, शिक्षा, स्वास्थ्य समेत तमाम समस्याओं से जूझ रहा है जिसे सुलझाने में वह विफल हैं। हालाँकि, अपनी खत्म होती लोकप्रियता बचाने के लिए उन्होंने भारत से रिश्ते खराब करने का रास्ता चुना है ताकि उन्हें कनाडा के सिख वोट मिल सकें और साथ ही यह संदेश जाए कि वह कनाडा में अन्य किसी देश का हस्तक्षेप बर्दाश्त नहीं करेंगे। इससे वह कनाडा की जनता के राष्ट्रवादी तबके का विश्वास जीतना चाहते हैं।

कनाडा के 63% नागरिकों को नहीं पसंद हैं ट्रूडो

हालाँकि, इन सब प्रयासों के बावजूद भी उनकी कनाडा में लोकप्रियता खत्म हो रही है। वह वर्ष 2015 से ही कनाडा के प्रधानमंत्री हैं और तबसे उनकी लोकप्रियता में तेज गिरावट आई है। दरअसल, जुलाई 2023 में किए गए एक सर्वे में यह सामने आया है 33% कनाडाई मानते हैं कि ट्रूडो बीते 55 वर्षों में कनाडा के सबसे बेकार प्रधानमंत्री हैं।

वहीं अप्रूवल रेटिंग्स के आधार पर यह भी स्पष्ट हुआ है कि वह अब कनाडाई नागरिकों को पसंद नहीं आ रहे हैं। ट्रूडो रैंकर के अनुसार, सितम्बर 2023 में उनकी डिसअप्रूवल रेटिंग 63% हो गई है। इसका अर्थ है कि वह 100 में से 63 कनाडाई नागरिकों को पसंद नहीं आ रहे।

महँगाई पर काबू पाने में विफल

उनकी लोकप्रियता घटने के कई कारण हैं। इसमें सबसे बड़ा कारण महँगाई है। जस्टिन ट्रूडो के कार्यकाल के दौरान कनाडा में महँगाई लगातार बढ़ी है। कनाडा के सांख्यिकी विभाग के अनुसार, जुलाई 2018 में कनाडा में महँगाई दर (ऊर्जा कीमतों को छोड़ कर) 2.1% थी जो कि जुलाई 2022 में बढ़ कर 6.3% पहुँच गई।

कनाडा जैसे विकसित अर्थव्यवस्था वाले देश के लिए यह महँगाई का काफी उच्च स्तर है। विकासशील देशों में जीडीपी को बढ़ाने के लिए सरकारें एक स्तर तक महँगाई को नियंत्रित नहीं करती लेकिन कनाडा विकसित है और यहाँ भाव अधिकांश समय स्थिर रहते हैं। ऐसे में यहाँ महँगाई का बढ़ना ट्रूडो की साख में बट्टा लगा रहा है।

कनाडा के सांख्यिकी विभाग की ही रिपोर्ट बताती है कि कनाडा की आबादी के 25% लोगों का कहना है कि वह मात्र $500 (41,635.50 रुपये) का भी कोई अधिक खर्चा नहीं झेल सकते। इसी सर्वे में यह भी बात सामने आई कि कनाडा की युवा जनसंख्या का आधा हिस्सा अपने महीने के खर्चे पूरे करने में समस्याओं का सामना कर रहा है।

ट्रूडो से मुस्लिम भी हैं गुस्सा

महँगाई के अतिरिक्त, ट्रूडो की वोक विचारधारा भी उनके लिए समस्याएँ खड़ी कर रही हैं। ट्रूडो लगातार अमेरिका की तरह ही कनाडा के स्कूलों में भी LGBT+ को प्रमोट कर रहे हैं। इसको लेकर स्कूलों में लाई गई उनकी नीतियाँ कनाडाई मुस्लिमों में उनकी छवि बिगाड़ रही हैं।

कनाडा में प्रदर्शन करते मुस्लिम अभिभावक (चित्र साभार: द गार्जियन)
कनाडा में प्रदर्शन करते मुस्लिम अभिभावक (चित्र साभार: द गार्जियन)

कनाडा के मुस्लिम अपनी मजहबी विचारधारा को ना बचाने के लिए ट्रूडो को मूर्ख करार दे रहे। मुस्लिम अभिभावक आरोप लगा रहे हैं कि ट्रूडो कनाडा के स्कूलों में बच्चों के ऊपर जबरन गे, लेस्बियन संबंधी पाठ्यक्रम थोप रहे हैं।

मुस्लिम अभिभावक इस बात की शिकायत ट्रूडो से कर चुके हैं लेकिन ट्रूडो ने इसे अमेरिकी दक्षिणपंथियों की साजिश बता दिया था। इस कारण से कनाडाई मुस्लिमों में ट्रूडो के प्रति और भी गुस्सा भरा हुआ है, वह स्कूलों के बाहर प्रदर्शन कर रहे हैं।

कनाडा में घरों की कमी को पूरा नहीं कर पाए हैं ट्रूडो

कनाडा में वह इस बात के लिए भी कड़ा विरोध झेल रहे हैं कि उन्होंने कनाडा में आवासीय समस्या को नहीं सुलझाया है। कनाडा में लम्बे समय से ही घरों की समस्या है। बाहर से आने वाले छात्र और अन्य परिवार भी कनाडा में घर नहीं ढूँढ पा रहे हैं।

एक रिपोर्ट के अनुसार, कनाडा को वर्ष 2030 तक 58 लाख नए घरों की आवश्यकता होगी लेकिन इस दिशा में कुछ ख़ास काम नहीं हो सका है। अनुमान के मुताबिक कनाडा में 2030 तक मात्र 23 लाख घर ही बन पाएँगे, अर्थात इस क्षेत्र में 35 लाख घरों की कमी होगी। अपनी इस विफलता को जस्टिन ट्रूडो ने स्वयं भी एक बातचीत के दौरान स्वीकार किया था।

गौरतलब है कि स्थानीय स्तर पर अपनी विफलताओं को छुपाने के लिए अब ट्रूडो ने यह रास्ता अख्तियार किया है कि वह भारत की बुराई करके और खालिस्तानियों को संरक्षण देकर अपनी लोकप्रियता बढ़ा सकें। हालाँकि, इससे ट्रूडो को कितना फायदा मिलेगा यह स्पष्ट नहीं है लेकिन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर वह एक नौसिखिए के रूप में देखे जा रहे हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अर्पित त्रिपाठी
अर्पित त्रिपाठीhttps://hindi.opindia.com/
अवध से बाहर निकला यात्री...

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -