Tuesday, September 28, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयअफगानिस्तान में फँसी कानपुर की हिना, शौहर मोहम्मद गनी ने बेचा: परेशान माँ ने...

अफगानिस्तान में फँसी कानपुर की हिना, शौहर मोहम्मद गनी ने बेचा: परेशान माँ ने मोदी सरकार से लगाई बचाने की गुहार, ऑडियो वायरल

28 अगस्त की रात को हिना ने अपनी माँ समीरुन निशा को फोन कर बताया कि अभी काबुल से 80 किलोमीटर दूर जुरमुट इलाके में फँसी हुई हैं। उसने अपनी माँ से अफगानिस्तान से उसे और उसके बच्चों को निकालने की गुहार भी लगाई है।

अफगानिस्तान में तालिबान के आने से डर और दहशत का माहौल कायम है ऐसे में वहाँ से आया एक फोन कॉल का रिकॉर्ड ऑडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। वायरल ऑडियो में कानपुर की रहने वाली हिना खान अफगानिस्तान में फँसी है और अपने परिजनों से मदद माँग रही है कि कोई उसे भारत ले आएँ। महिला की आपबीती सुनकर सोशल मीडिया पर तरह-तरह की चर्चा छिड़ गई है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मामला कानपुर महानगर के बाबूपुरवा थाना क्षेत्र का है। हिना नाम की एक महिला अपने तीन बच्चों के साथ अफगानिस्तान में फँसी हुई है। हिना के अब्बू इखलाक अहमद की पहले ही मृत्यु हो चुकी है। और अब बेटी को लेकर बाबूपुरवा इलाके के बगाही में रहने वाली उसकी माँ समीरुन निशा बहुत परेशान हैं। हिना की माँ ने सोमवार को पुलिस में शिकायत दर्ज कराते हुए पुलिस और मोदी सरकार से मदद की गुहार लगाईं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस को दिए तहरीर में माँ ने बताया, “मेरी बेटी हिना खान उर्फ पम्मो मुंबई में अपने चाचा के पास रहती थी। वहाँ एक बार में काम करती थी, तभी उसकी मुलाकात अफगानिस्तान निवासी मोहम्मद गनी से हुई, जो काबुल से 80 किलोमीटर दूर जुरमुट का रहने वाला है। मोहम्मद गनी ने बेटी को प्रेमजाल में फँसाकर निकाह करने के बाद मुंबई में ही रहने लगा। दोनों के एक बेटा व दो बेटियाँ हैं। कुछ समय पहले वह बेटी व बच्चों को लेकर अफगानिस्तान चला गया था। जिसके कुछ दिन बाद शौहर मोहम्मद गनी मुंबई वापस लौट आया। लेकिन हिना वहीं रहने लगी।”

लेकिन अब अपनी बेटी हिना से फोन पर बात के बाद की माँ का सीधा आरोप है कि मोहम्मद गनी ने हिना को वहाँ पर बेच दिया था। उन्होंने कहा कि उनकी बेटी को अफगानिस्तान में बंधक बनाकर रखा जा रहा है। रिपोर्ट के अनुसार, 28 अगस्त की रात को हिना ने अपनी माँ समीरुन निशा को फोन कर बताया कि अभी काबुल से 80 किलोमीटर दूर जुरमुट इलाके में फँसी हुई हैं। उसने अपनी माँ से अफगानिस्तान से उसे और उसके बच्चों को निकालने की गुहार भी लगाई है।

जिसके बाद समीरन निशा पुलिस के पास पहुँची और अपनी बेटी को अफगानिस्तान से हिंदुस्तान लाने की प्रार्थना की। हिना ने अपनी माँ को बताया कि काबुल और जुरमुट में हालात बेहद खराब हैं। वहाँ खाने और पीने को भी कुछ नहीं मिल रहा है। हर वक्त बस यह लगता है कि मौत कब उन्हें अपने आगोश में ले लेगी। हिना गुहार लगा रही है कि किसी भी तरह उसकी और उसके बच्चों की जान बचा ली जाए। हिना की माँ की माने तो मोहम्मद गनी मुंबई में किसी दूसरी महिला के साथ रह रहा है और उसकी बेटी को वापस लाने के लिए पैसों की माँग भी रख रहा है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, कानपुर पुलिस ने इस मामले के बारे में विदेश मंत्रालय को ईमेल के द्वारा सूचित कर दिया है। साथ ही पुलिस इस बात की भी जाँच भी कर रही है कि कहीं ये मानव तस्करी से जुड़ा मामला तो नहीं है।

वहीं भारत सरकार के स्तर पर अफगानिस्तान में फँसी हिना खान और उसके बच्चों को बचाने की कवायद शुरू हो गई। सोमवार देर रात एडीसीपी साउथ डॉ. अनिल कुमार ने विदेश मंत्रालय को इस मामले की पूरी जानकारी दी है। पुलिस कमिश्नर असीम अरुण और डीसीपी साउथ रवीना त्यागी को भी मामले से अवगत कराया है। साथ ही पुलिस कमिश्नर ने बताया कि महिला ने जो तहरीर दी है, उसमें अपने दामाद पर आरोप लगाए हैं। उसकी भी जाँच शुरू कर दी गई है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,827FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe