Wednesday, July 28, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयतबलीगी जमात की वजह से Pak में भी कोरोना संक्रमण : मरकज की इमारत...

तबलीगी जमात की वजह से Pak में भी कोरोना संक्रमण : मरकज की इमारत को ही बनाया क्वारंटाइन सेंटर

पाकिस्तान में कोरोना वायरस के कारण अब तक 30 लोगों की मौत हो चुकी है और 2000 से भी ज्यादा लोग संक्रमित पाए गए हैं। बता दें कि रविवार को तबलीगी जमात के एक व्यक्ति ने पुलिस अधिकारी अशरफ अली माखी को चाकुओं से गोद डाला था।

पाकिस्तान के पंजाब में स्थित रायविंड सिटी में पूरी तरह लॉकडाउन का ऐलान कर दिया गया है। मुल्क में कोरोना वायरस के संक्रमण के बड़े ख़तरे को देखते हुए जिला प्रशासन ने ये ऐलान किया। शहर की सारी दुकानों को बंद कर दिया गया है। असिस्टेंट पुलिस कमिश्नर अदनान राशिद ने बताया कि क्षेत्र में कोरोना वायरस से स्थिति लगातार बदतर होती जा रही है, इसी आलोक में ये निर्णय लिया गया है। शुरुआत में इस लॉकडाउन को 3-4 दिनों तक ही रखा गया है। सम्भावना है कि ये अवधि बाद में बढ़ा दी जाएगी। पंजाब के गृह विभाग ने बताया है कि रायविंड में कोरोना वायरस के कई मामले मिलने के बाद स्वास्थ्य मामलों पर कैबिनेट बैठक हुई, जहाँ ये निर्णय लिया गया

पाकिस्तान में कोरोना वायरस के कारण अब तक 30 लोगों की मौत हो चुकी है और 2000 से भी ज्यादा लोग संक्रमित पाए गए हैं। बता दें कि रविवार (मार्च 5, 2020) को तबलीगी जमात के एक व्यक्ति ने पुलिस अधिकारी अशरफ अली माखी को चाकुओं से गोद डाला था। तबलीगी का सदस्य क्वारंटाइन सेंटर से भाग रहा था और इसी क्रम में उसने एसएचओ माखी पर धड़ाधड़ चाकुओं से वार किया। अधिकारी को जल्दी-जल्दी में लय्याह स्थित डीएचक्यू हॉस्पिटल में दाखिल किया गया, जहाँ उनकी हालत स्थिर बनी हुई है।

रायविंड स्थित मरकज में ठहरे 35 लोगों की स्क्रीनिंग की गई थी, जिनमें से 27 कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। लाहौर स्गिटर रायविनफ़ में इस्लामी संगठन तबलीगी जमात ने एक मजहबी कार्यक्रम का आयोजन किया था, जिसमें कम से कम 1200 लोग शामिल हुए थे। इसमें भाग लेने के लिए आए लोग तब वहीं पर रह गए जब कार्यक्रमों को कैंसिल कर दिया गया और सरकार ने लॉकडाउन का ऐलान किया। मरकज को सील कर उसे क्वारंटाइन सेंटर बना दिया गया।

मार्च के शुरुआती हफ्ते में भी तबलीगी जमात ने लाहौर में 1.5 लोगों का एक जलसा आयोजित किया था। यह सब कोरोना वायरस के ख़तरों के बावजूद किया गया। इसमें शामिल आए लोगों ने साथ खाना खाया और उनमें से अधिकतर साथ सोए। इस कारण पाकिस्तान में कोरोना वायरस के मामलों में अचानक से इजाफा होना शुरू हो गया। बता दें कि भारत में भी इसी जमात के कारण कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी हुई है। दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित मरकज की 6 मंजिला इमारत में 2500 लोग कई दिनों तक ठहरे रहे और वहाँ मजहबी कार्यक्रमों को भी नहीं रोका गया, जिससे देश भर में कोरोना के कई नए मामले आए हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बद्रीनाथ नहीं, वो बदरुद्दीन शाह हैं…मुस्लिमों का तीर्थ स्थल’: देवबंदी मौलाना पर उत्तराखंड में FIR, कभी भी हो सकती है गिरफ्तारी

मौलाना के खिलाफ़ आईपीसी की धारा 153ए, 505, और आईटी एक्ट की धारा 66F के तहत केस किया गया है। शिकायतकर्ता का आरोप है कि उसके बयान से हिंदू भावनाएँ आहत हुईं।

बसवराज बोम्मई होंगे कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री: पिता भी थे CM, राजीव गाँधी के जमाने में गवर्नर ने छीन ली थी कुर्सी

बसवराज बोम्मई के पिता एस आर बोम्मई भी राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं, जबकि बसवराज ने भाजपा 2008 में ज्वाइन की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,571FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe