Friday, June 18, 2021
Home रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय चीन देता है श्रमिकों को असहनीय यातना, सड़ा खाना और बस 2-4 घंटों की...

चीन देता है श्रमिकों को असहनीय यातना, सड़ा खाना और बस 2-4 घंटों की नींद, तब बनता है सस्ता ‘मेड इन चाइना’ माल

मजदूरों के हाथ कागज रगड़ते-रगड़ते छिल जाते हैं। लेकिन वह फिर भी काम करते रहते हैं। बदले में, नींद लेने के लिए उनके पास सिर्फ़ 2 से 4 घंटे का समय होता है।

हम अक्सर सोचते हैं कि आखिर ‘मेड इन चाइना’ लिखा सामान इतना सस्ता कैसे होता है। आखिर अन्य देश के मुकाबले चीन ऐसी कौन सी क्वालिटी का सामान इस्तेमाल करता है कि उनके उत्पाद की कीमत बाकी ब्रांडों से कम होती है। वास्तविकता ये है कि इसका कारण कम्युनिस्ट राष्ट्र चीन का कोई नया संसाधन या प्रणाली नहीं है, बल्कि उनका तानाशाही रवैया ही है, जिनके चलते वह एक व्यक्ति को मजदूर बनाकर इतना काम करवाता है कि उनके लिए चीजों की कीमत नगण्य रह जाती है।

न्यूऑर्क टाइम्स में आज एक बुक रिव्यू प्रकाशित हुआ है। इसमें अमेलिया पाँग (Amelia Pang) की किताब ‘मेड इन चाइना’ (Made in China) का जिक्र है। उन्होंने चीन में जबरन मजदूरी कराने की प्रथा पर काम किया है और उनकी इस किताब के 5 अध्याय इसी विषय को समर्पित हैं। इसमें बताया गया है कि कैसे कोई भी चीज तैयार करवाने के लिए मजदूरों से से दिन रात काम करवाया जाता है। वह मुश्किल से दो-चार घंटे सो पाते हैं। हालात इतनी बुरी होती है कि सपने में भी उन्हें सिर्फ़ वही काम दिखाई देता है। लोगों से ऐसे काम करवाने के लिए चीन में बाकायदा एक कैंप है जिसका नाम- ‘मसंजिया’ रखा गया है।

इसमें ‘सुन ई’ नाम के मजदूर से जुड़े किस्से का उल्लेख है। जिन्हें पेपर मशरूम बनाने का काम दिया गया और प्रति दिन उनके लिए लक्ष्य 160 पेपर मशरूम तैयार करने का रखा गया। इसमें बताया गया कि कैसे सुन ई के हाथ कागज रगड़ते-रगड़ते हाथ छिल जाते हैं। लेकिन वह फिर भी काम करते रहते हैं।  बदले में उन्हें खाने में घटिया बदबू वाला सब्जियों का सूप पीने को मिलता है। वहीं इतने काम के बाद नींद लेने के लिए उनके पास सिर्फ़ 2 से 4 घंटे का समय होता है। जिसमें उन्हें सपने भी फोल्डिंग पेपर मशरूम के आते हैं।

मालूम हो कि साल 2020 में डिटेंशन की घटनाओं और जबरन मजदूरी कराने की घटनाओं में बहुत विस्तार हुआ है। पांग ने अपनी किताब में इसी पर गौर करवाया है। उन्होंने बताने की कोशिश की है कि जो पेपर मशरूम या हैलोइन डेकोरेशन हम देखते हैं उसके पीछे उसे बनाने वाले के साथ हुआ अत्याचार और कई जटिलताएँ होती हैं।

इसमें एक पोर्टलैंड में रहने वाली महिला का भी जिक्र है जिसे सुन ई ने हैलोईन डेकोरेशन के पैकेज में पत्र छिपाकर भेजा था। जब महिला ने पैकेज खोला तो वह नोट उसे मिला। इसमें लिखा था कि अगर आप किसी अवसर पर इस उत्पाद को खरीदती हैं तो कृपया इसे विश्व मानवाधिकार संगठन को भेज दें। यह पत्र कथित तौर पर सुन की रिहाई यानी साल 2010 से दो साल बाद मिला। पांग ने इसी केस पर रिसर्च की है। इसके अलावा साल 2018 में इस पत्र पर ‘लेटर फ्रॉम मसंजिया’ नाम से डॉक्यूमेंट्री भी बनी है।

खबर के अनुसार, पीड़िता सुन ई की रिहाई के लिए उनकी माँ और बहन ने बहुत मेहमत की थी क्योंकि कैद में उन्हें असहनीय प्रताड़ना दी जा रही थी। पांग के लिए दुखद यह रहा कि जब तक उन्होंने अपनी किताब पूरी की तब तक सुन की मृत्यु हो गई थी। उन्हें केवल 2017 में उनसे मिलने का मौका मिला था।

पांग लिखती हैं कि चीन में सांस्कृतिक क्रांति ने लाखों लोगों को मार डाला और चीन की अर्थव्यवस्था को खराब कर दिया है। यही कारण है कि आधुनिक मुख्य धारा के चीनी आदर्श मानवाधिकारों की तुलना में सामाजिक स्थिरता पर अधिक जोर देते हैं। उन्होंने अपनी किताब में बताया है कि कैसे जेल में बंदियों से काम करवाया जाता है और कैसे हमारी खर्च करने की आदतों के कारण आज लगातार ऐसे रास्ते खोजे जा रहे हैं जिससे उत्पाद के डिजाइन, मैनुफेक्चर और वितरण के बीच का समय कम हो।

वह कुछ रिटेलर्स का जिक्र करके कहती हैं कि तेजी से बदलती माँगों से चीन कंपनियों पर जब दबाव बनता है तो वह पैसे बचाने वाले लेबर सॉल्यूशन की ओर आगे बढ़ते हैं जो उन्हें जेलों में मिल जाते हैं। सामान की घटती बढ़ती घटनाओं पर पांग समझाती हैं कि कैसे खरीद करते हुए किसी सामान के प्रोडक्शन की बात लोगों के दिमाग में होने चाहिए। वह कहती हैं,

“कीमत कम होने पर हम खुशी महसूस करते हैं। अगर कीमत बहुत अधिक है तो हमें दर्द होता है। जब हम खड़े होते हैं … एक कंप्यूटर स्क्रीन की चमक के सामने, हम उन श्रमिकों की पीड़ा को महसूस नहीं करते हैं जिन्होंने हमारी इच्छाओं को महसूस करने के साथ ही हमारे लिए उत्पादों को गहराई से बनाया है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अगर मरना पड़े तो 4-6 को मार के मरना’: कॉन्ग्रेस अल्पसंख्यक सेल का नया अध्यक्ष, जो बच्चों से लगवाता है ‘हिटलर की मौत मरेगा’...

इमरान प्रतापगढ़ी को देश के कई उर्दू मुशायरों और इस्लामी कार्यक्रमों में बुलाया जाता है और वो उन्हीं का सहारा लेकर अपना इस्लामी प्रोपेगंडा चलाते हैं।

दो समुद्री तटों और चार पहाड़ियों के बीच स्थित रायगढ़ का हरिहरेश्वर मंदिर, जहाँ विराजमान हैं पेशवाओं के कुलदेवता

अक्सर कालभैरव की प्रतिमा दक्षिण की ओर मुख किए हुए मिलती है लेकिन हरिहरेश्वर में स्थित मंदिर में कालभैरव की प्रतिमा उत्तरमुखी है।

मोदी कैबिनेट में वरुण गाँधी की एंट्री के आसार, राजनाथ बोले- UP में 2022 का चुनाव योगी के नाम

मोदी सरकार में जल्द फेरबदल की अटकलें कई दिनों से लग रही है। 6 नाम सामने आए हैं जिन्हें जगह मिलने की बात कही जा रही है।

ताबीज की लड़ाई को दिया जय श्रीराम का रंग: गाजियाबाद केस की पूरी डिटेल, जुबैर से लेकर बौना सद्दाम तक की बात

गाजियाबाद में मुस्लिम बुजुर्ग के साथ हुई मारपीट की घटना में कब, क्या, कैसे हुआ। सब कुछ एक साथ।

टिकरी बॉर्डर पर शराब पिला जिंदा जलाया, शहीद बताने की साजिश: जातिसूचक शब्दों के साथ धमकी भी

जले हुए हालात में भी मुकेश ने बताया कि किसान आंदोलन में कृष्ण नामक एक व्यक्ति ने पहले शराब पिलाई और फिर उसे आग लगा दी।

‘अब मूत्रालय का भी फीता काट दो’: AAP का ‘स्पीडब्रेकर’ देख नेटिजन्स बोले- नारियल फोड़ने से धँस तो नहीं गया

AAP नेता शिवचरण गोयल ने स्पीडब्रेकर का सारा श्रेय मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को दिया। लेकिन नेटिजन्स ने पूछ दिए कुछ कठिन सवाल।

प्रचलित ख़बरें

BJP विरोध पर ₹100 करोड़, सरकार बनी तो आप होंगे CM: कॉन्ग्रेस-AAP का ऑफर महंत परमहंस दास ने खोला

राम मंदिर में अड़ंगा डालने की कोशिशों के बीच तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास ने एक बड़ा खुलासा किया है।

‘भारत से ज्यादा सुखी पाकिस्तान’: विदेशी लड़की ने किया ध्रुव राठी का फैक्ट-चेक, मिल रही गाली और धमकी, परिवार भी प्रताड़ित

साथ ही कैरोलिना गोस्वामी ने उन्होंने कहा कि ध्रुव राठी अपने वीडियो को अपने चैनल से डालें, ताकि जिन लोगों को उन्होंने गुमराह किया है उन्हें सच्चाई का पता चले।

टिकरी बॉर्डर पर शराब पिला जिंदा जलाया, शहीद बताने की साजिश: जातिसूचक शब्दों के साथ धमकी भी

जले हुए हालात में भी मुकेश ने बताया कि किसान आंदोलन में कृष्ण नामक एक व्यक्ति ने पहले शराब पिलाई और फिर उसे आग लगा दी।

‘चुपचाप मेरे बेटे की रखैल बन कर रह, इस्लाम कबूल कर’ – मृत्युंजय बन मुर्तजा ने फँसाया, उसके अम्मी-अब्बा ने धमकाया

मुर्तजा को धर्मान्तरण कानून-2020 के तहत गिरफ्तार कर लिया है। आरोपित को कोर्ट में पेश करने के बाद उसे जेल भेज दिया गया है।

पल्लवी घोष ने गलती से तो नहीं खोल दी राहुल गाँधी की पोल? लोगों ने कहा- ‘तो इसलिए की थी बंगाल रैली रद्द’

जहाँ यूजर्स उन्हें सोनिया गाँधी को लेकर इतनी महत्तवपूर्ण जानकारी देने के लिए तंज भरे अंदाज में आभार दे रहे हैं। वहीं राहुल गाँधी को लेकर बताया जा रहा है कि कैसे उन्होंने बेवजह वाह-वाही लूट ली।

भाई की आँखें फोड़वा दी, बीवी 14वें बच्चे को जन्म देते मरी: मोहब्बत का दुश्मन था हिन्दू-मुस्लिम शादी पर प्रतिबंध लगाने वाला शाहजहाँ

माँ नूरजहाँ को निकाल बाहर किया। ससुर की आँखें फोड़वा डाली। बीवी 14वें बच्चे को जन्म देते हुए मरी। हिन्दुओं पर अत्याचार किए। आज वही व्यक्ति लिबरलों के लिए 'प्यार का मसीहा' है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
104,581FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe