Friday, May 24, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयमालदीव में हेलीकॉप्टर-विमान उड़ाने के लिए पायलट ही नहीं, पड़े हुए हैं भारत से...

मालदीव में हेलीकॉप्टर-विमान उड़ाने के लिए पायलट ही नहीं, पड़े हुए हैं भारत से ‘भीख’ में मिले तीनों एयरक्राफ्ट: 76 जवानों के वापस लौटने के बाद मुश्किल में इस्लामी मुल्क

भारत ने 3 एयरक्राफ्ट मालदीव को डोनेट किया था, जिन्हें उड़ाने के लिए अब पायलट ही नहीं हैं। ये बात किसी मीडिया रिपोर्ट ने नहीं, बल्कि खुद मालदीव के रक्षा मंत्री घासन मौमून ने बताई है।

जनवरी 2024 की शुरुआत में जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लक्षद्वीप पहुँचे थे और वहाँ की सुंदरता दिखाते हुए उन्होंने पर्यटन के पटल पर उस क्षेत्र को ला दिया, तब मालदीव भड़क गया था। वहाँ के 3 मंत्रियों ने पीएम मोदी के खिलाफ टिप्पणी की, जिसके बाद उन्हें पद से हाथ धोना पड़ा। इसके बाद मालदीव में भारतीय पर्यटकों की आमद में भारी कमी आई। अब सामने आया है कि मालदीव में सेना का विमान उड़ाने के लिए पायलटों की भी कमी है। उन्हें फ्लाइट उड़ाने के लिए कोई मिल ही नहीं रहा है।

बड़ी बात ये है कि ये एयरक्राफ्ट भारत ने ही मालदीव को दान में दिया है। भारत ने 3 एयरक्राफ्ट मालदीव को डोनेट किया था, जिन्हें उड़ाने के लिए अब पायलट ही नहीं हैं। ये बात किसी मीडिया रिपोर्ट ने नहीं, बल्कि खुद मालदीव के रक्षा मंत्री घासन मौमून ने बताई है। इसका कारण ये है कि मालदीव के राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज्जु ने वहाँ तैनात भारतीय सेना के 76 जवानों को मुल्क छोड़ने का आदेश दे दिया। भारत के प्रति अपने रूखे रवैये के प्रदर्शन के क्रम में उन्होंने ये आदेश दिया था।

इसके बाद भारत ने भी उन जवानों को वापस बुला लिया। अब मालदीव ने उनकी जगह नागरिक पुलिस को तैनात कर दिया है। मालदीव के रक्षा मंत्री घासन मौमून ने शनिवार (11 मई, 2024) को वहाँ के राष्ट्रपति दफ्तर में प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए ये जानकारी दी। उन्होंने कहा कि ‘मालदीवियन नेशनल डिफेंस फोर्स (MNDF)’ में ऐसा कोई जवान नहीं है, जो भारत द्वारा डोनेट किए गए 2 हेलीकॉप्टरों और 1 डोर्नियर विमान को उड़ाने में सक्षम हो।

इन एयरक्राफ्ट्स को उड़ाने के लिए कई चरणों का प्रशिक्षण होता है, जिसे मालदीव में किसी पायलट ने पूरा नहीं किया है। ऐसे में किसी के पास भी इन तीनों एयरक्राफ्ट्स को उड़ाने का लाइसेंस नहीं है। बता दें कि मोहम्मद मुइज्जु के शासनकाल में मालदीव का झुकाव चीन की तरफ ज्यादा है। जिन जवानों को मालदीव ने वापस भारत भेजा है, उनमें अधिकतर पायलट, तकनीकी विशेषज्ञ और क्रू के लोग थे। हालाँकि, मालदीव का कहना है कि सेनाहिया मिलिट्री हॉस्पिटल से भारतीय डॉक्टरों को हटाने का कोई इरादा नहीं है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हिरोइन लैला खान की हत्या मामले में सौतेले अब्बा को हुई ‘सजा-ए-मौत’: फार्म हाउस में गाड़ दी परिवार के 6 लोगों की लाश, 13...

बॉलीवुड अभिनेत्री लैला खान और उनके पूरे परिवार की हत्या मामले में अभिनेत्री के सौतेले पिता को कोर्ट ने सजा-ए-मौत सुनाई है।

UPA सरकार ने ब्रह्मोस मिसाइल के निर्यात को रोका, लीक हुई चिट्ठियों से खुलासा: मोदी सरकार ने की जो हजारों करोड़ की डील, वो...

UPA सरकार ने जानबूझकर ब्रह्मोस मिसाइल के निर्यात से जुड़ी फाइलों को अटकाया। इंडोनेशियाई टीम का दौरा रोक दिया गया। बातचीत तक रोक दी गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -