Tuesday, June 25, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'यूनाइटेड नेशन ऑफ इस्लाम' में 8 साल के बच्चों का भी शारीरिक शोषण, 16...

‘यूनाइटेड नेशन ऑफ इस्लाम’ में 8 साल के बच्चों का भी शारीरिक शोषण, 16 घंटे कराते थे मजदूरी: अमेरिकी अदालत ने दोषी पाया

नाबालिगों को यह बताया गया था कि बिना वेतन के काम करना 'अल्लाह के प्रति अपने कर्तव्य को पूरा' करना है। बच्चों को उनकी उम्र के बारे में झूठ बोलने के लिए कहा गया था। इसके अलावा, बच्चों को दिन में दो बार खाना मिलता था।

अमेरिका के कंसास जिले की अदालत ने यूनाइटेड नेशन ऑफ इस्लाम ‘पंथ’ के आठ सदस्यों को 8 साल से भी कम उम्र के नाबालिगों से जबरन काम कराने और उनका शोषण करने के मामले में आरोपित करार दिया है। मंगलवार 26 अक्टूबर को संघीय अभियोजकों ने कंसास स्थित इस्लामिक संगठन से जुड़े इन आठ सदस्यों पर देश भर के व्यवसायों को बिना वेतन के चाइल्ड लेबर मुहैया कराने की साजिश रचने और वर्षों तक उनका शारीरिक शोषण करने का आरोप लगाया।

16 घंटे तक कराते थे जबरन काम

25 अक्टूबर को आठ सदस्यों को हिरासत में लेने के बाद 20 पन्नों के अभियोग को सार्वजनिक किया गया। इसके मुताबिक, यूनाइटेड नेशन ऑफ इस्लाम के लोगों ने बच्चों को उनके माता-पिता से अलग किया और उन्हें बेहद बुरे हालात में छिपा कर रखा। इन बच्चों को बिना मजदूरी दिए 16 घंटे तक काम करने के लिए मजबूर किया। अभियोजन पक्ष का कहना है कि इन बच्चों को इलाज से भी वंचित रखा गया। कुछ बच्चों को इस्लामिक संगठन द्वारा संचालित व्यवसायों में काम करने के लिए मजबूर किया गया और बाकियों को न्यू जर्सी, न्यूयॉर्क, ओहियो, मैरीलैंड, जॉर्जिया और उत्तरी कैरोलिना जैसे दूसरे राज्यों में काम के लिए भेजा गया।

जिनके खिलाफ आरोप तय किए गए हैं, उनमें काबा मजीद, यूनुस रसूल, जेम्स स्टेटन, रैंडोल्फ रॉडनी हैडली, डाना पीच, एटेनिया किनार्ड और जैकलीन ग्रीनवेल शामिल हैं। सभी को 25 अक्टूबर 2021 को विभिन्न शहरों से गिरफ्तार किया गया था। बच्चों के खाने-पीने, कपड़े पहनने, पढ़ने तक पर संगठन के नेताओं का दखल था।

कंसास सिटी में UNOI का मुख्यालय (साभार: फॉक्स न्यूज)

अवैतनिक श्रम ‘अल्लाह के प्रति कर्तव्य’

नाबालिगों को यह बताया गया था कि बिना वेतन के काम करना ‘अल्लाह के प्रति अपने कर्तव्य को पूरा’ करना है। बच्चों को उनकी उम्र के बारे में झूठ बोलने के लिए कहा गया था। इसके अलावा, बच्चों को दिन में दो बार खाना मिलता था। वहीं, युवा लड़कियों को अपना वजन मेनटेन करने के लिए निर्देश दिए गए थे।

संगठन के सदस्य थकान से बेहोश होने वाले बच्चों के इलाज में देरी, अस्थमा से पीड़ितों को इनहेलर न देने जैसे अमानवीय कृत्य करते थे। आठों आरोपितों पर वर्ष 2000 और 2012 के बीच हुए कथित दुर्व्यवहार के मामले में साजिश और जबरन श्रम का आरोप लगा है। इसी पीरियड में प्रताड़ित किए गए 10 बच्चों के नाम को भी मुकदमे में सूचीबद्ध किया गया है।

UNOI के संस्थापक ने खुद को बताया अल्लाह

इस्लामिक संगठन की स्थापना रॉयल जेनकिंस नाम के ट्रक ड्राइवर ने करीब 40 साल पहले की थी। वह खुद को अल्लाह बताता था। जेनकिंस ने दावा किया था कि 1978 में फरिश्तों ने उसका अपहरण कर लिया था और उसे एक अंतरिक्ष यान से आकाशगंगा में लेकर गए। उस दौरान उसे बताया गया कि धरती पर कैसे शासन करना है। उसने 2012 तक इस संगठन को चलाया। फिलहाल जेनकिंस कहाँ है, इसकी जानकारी किसी को नहीं है। वहीँ, कुछ लोग उसके मरने की बात भी कह रहे हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NEET-UG विवाद: क्या है NTA, क्यों किया गया इसका गठन, किस तरह से कराता है परीक्षाओं का आयोजन… जानिए सब कुछ

सरकार ने परीक्षाओं के पारदर्शी, सुचारू और निष्पक्ष संचालन को सुनिश्चित करने के लिए विशेषज्ञों की एक उच्च स्तरीय समिति की घोषणा की है

हिंदुओं का गला रेता, महिलाओं को नंगा कर रेप: जो ‘मालाबर स्टेट’ माँग रहे मुस्लिम संगठन वहीं हुआ मोपला नरसंहार, हमें ‘किसान विद्रोह’ पढ़ाकर...

जैसे मोपला में हिंदुओं के नरसंहार पर गाँधी चुप थे, वैसे ही आज 'मालाबार स्टेट' पर कॉन्ग्रेसी और वामपंथी खामोश हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -