Wednesday, June 19, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयमर गईं मिया खलीफा? फेसबुक पेज पर श्रद्धांजलि की बाढ़: मीम से बताया- जिंदा...

मर गईं मिया खलीफा? फेसबुक पेज पर श्रद्धांजलि की बाढ़: मीम से बताया- जिंदा हूँ मैं, किसान आंदोलन पर थी मुखर-कनाडा पर खामोश

भारत में 'किसान आंदोलन' का समर्थन करने वाले कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो किसी गुप्त स्थान पर भाग गए हैं और वहाँ से बयान दे रहे हैं कि ये 'ट्रकर्स प्रोटेस्ट' घिनौना है।

पूर्व पोर्न स्टार मिया खलीफा ने सोशल मीडिया पर उड़ रही अपनी मौत की अफवाहों को झूठ बताते हुए एक मीम शेयर किया है। मिया खलीफा के फेसबुक पेज को अचानक से अचानक से ‘मेमोरियल पेज’ बना दिया गया, जिसके बाद उन्हें स्पष्टीकरण देना पड़ा कि वो ज़िंदा हैं। उनके द्वारा शेयर किए गए मीम में लिखा हुआ था, “मैं अभी मरी नहीं हूँ। मैं काफी अच्छी हूँ।” ये मीम 1975 की ब्रिटिश कॉमेडी/फंतासी फिल्म ‘Monty Python and the Holy Grail’ से लिया गया है।

उन्होंने तस्वीर के साथ कैप्शन नहीं डाला, लेकिन ऐसा लग रहा था कि इस मीम में लिखे शब्द उनके ही हैं। सोमवार (31 जनवरी, 2022) को अचानक से मिया खलीफा के फेसबुक पेज को आधिकारिक रूप से ‘मेमोरियल’ के रूप में चिह्नित कर दिया गया था। बता दें कि अगर किसी व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तो उसके फेसबुक पेज पर ‘मेमोरियल’ का टैग लगा दिया जाता है। हाल ही में भारत में रह रहीं बांग्लादेशी लेखिका तस्लीमा नसरीन के पेज से साथ भी गलती से फेसबुक ने ऐसा कर दिया था।

इसी कारण लोगों ने चर्चा करनी शुरू कर दी थी क्या मिया खलीफा की मौत हो गई है? फेसबुक ने उनके प्रोफ़ाइल पर लिख दिया था, “हमें विश्वास है कि जो लोग मिया खलीफा से प्यार करते हैं, वो उनके जीवन को सेलिब्रेट करने के लिए और उन्हें याद करने के लिए यहाँ आकर शांति प्राप्त करेंगे।” 2020 में भी उनके आत्महत्या की अफवाह उड़ी थी, जिसे उन्होंने गलत बताया था। हालाँकि, हिजाब में एक सेक्स दृश्य फिल्माने के कारण आतंकी संगठन ISIS ने उन्हें हत्या की धमकी दी थी।

उन्होंने फरवरी 2021 में उस समय दिल्ली व उसके आसपास के इलाकों में चल रहे ‘किसान आंदोलन’ पर चुप्पी को लेकर प्रियंका चोपड़ा पर सवाल उठाए थे। मिया खलीफा लगातार ‘किसान आंदोलन’ पर ट्वीट कर रही थीं। उन्होंने पूछा था कि आखिर कोई ऐसा सोच भी कैसे सकता है कि सारे अंतरराष्ट्रीय सेलेब्रिटीज ने रुपए लेकर ही ‘अब तक के सबसे बड़े विरोध प्रदर्शन’ के पक्ष में ट्वीट किया है। उन्होंने भारतीय खाने के साथ तस्वीर शेयर कर के भी इस मामले में इमोशनल समर्थन लेना चाहा था। 

वहीं कनाडा में चल रहे ट्रक वालों के विरोध प्रदर्शन पर उन्होंने चुप्पी साध रखी है। ठीक उसी तरह, जैसे भारत में ‘किसान आंदोलन’ का समर्थन करने वाले कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो किसी गुप्त स्थान पर भाग गए हैं और वहाँ से बयान दे रहे हैं कि ये ‘ट्रकर्स प्रोटेस्ट’ घिनौना है। लाखों लोग कनाडा की सड़कों पर ट्रक लेकर निकले हुए हैं। जस्टिन ट्रूडो का कहना है कि वो धमकियों से डरेंगे नहीं। लाखों ट्रक राजधानी ओटावा की सड़कों पर जमे हुए हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

कनाडा का आतंकी प्रेम देख भारत ने याद दिलाया कनिष्क ब्लास्ट, 23 जून को पीड़ितों को दी जाएगी श्रद्धांजलि: जानिए कैसे गई थी 329...

भारत ने एयर इंडिया के विमान कनिष्क को बम से उड़ाने की बरसी याद दिलाते हुए कनाडा में वर्षों से पल रहे आतंकवाद को निशाने पर लिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -