Tuesday, July 27, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयविवादित नक्शे के बाद FM चैनलों पर भारत विरोधी गाने, उत्तराखंड तक आ रही...

विवादित नक्शे के बाद FM चैनलों पर भारत विरोधी गाने, उत्तराखंड तक आ रही आवाज: नेपाल की नई करतूत

बताया जा रहा है कि इनमें से कुछ गाने पुराने हैं तो कुछ गानों को हाल के कुछ महीनों में ही रिकॉर्ड कराया गया है। कुछ गाने यू-ट्यूब जैसे सोशल प्लेटफॉर्म पर भी शेयर किए गए हैं।

नेपाल ने कुछ दिनों पहले अपने विवादित नक्शे में भारत के कुछ इलाकों को शामिल किया था। अब वह अपने एफएम चैनल्स पर भारत विरोधी गानों का प्रसारण कर रहा है। इन गानों के जरिए वह लिपुलेख, कालापानी और लिम्पियाधुरा के इलाकों को भारत से वापस लेने की बात कह रहा है।

इन गानों का प्रसारण धारचुला एफएम समेत कुछ और चैनलों पर हो रहा है, जिसे उत्तराखंड के तमाम पर्वतीय इलाकों में सुना जा सकता है। ये इलाके नेपाल की सीमा के पास हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में टीचर की नौकरी करने वाली बबिता सांवल बताती हैं कि वह रोज अपने स्कूल से लौटते वक्त नेपाल के धारचुला एफएम सुनती थीं। हाल के दिनों में इस एफएम चैनल पर भारत विरोधी गानों का प्रसारण शुरू हो गया है, जिन्हें हर घंटे कई बार बजाया जाता है। इसे देखते हुए अब उन्होंने इन चैनलों को सुनना बंद कर दिया है।

बबिता सांवल एक गाने के बोल को याद करते हुए बताती हैं कि इसमें लिपुलेख, कालापानी और लिम्पियाधुरा को वापस लेने की बात कही जाती है। एक अन्य गाने में कहा जा रहा है, “लिपुलेख और कालापानी हमारा होना चाहिए, यह हमारी भूमि है जो चोरी हो गई है।”

बताया जा रहा है कि इनमें से कुछ गाने पुराने हैं तो कुछ गानों को हाल के कुछ महीनों में ही रिकॉर्ड कराया गया है। कुछ गाने यू-ट्यूब जैसे सोशल प्लेटफॉर्म पर भी शेयर किए गए हैं।

पिथौरागढ़ के धारचूला उपमंडल के दांटू गांव निवासी शालू दताल ने बताया कि कुछ नेपाली एफएम चैनलों ने नेपाली गीतों के बीच भारत विरोधी भाषण देना शुरू किया है। उन्होंने कहा कि सीमा के दोनों ओर के लोग नेपाली गाने सुनते हैं। इस बीच वे नेपाली नेताओं के भारत विरोधी भाषण भी सुनते हैं।

नेपाल के मुख्य एफएम चैनलों के अलावा कुछ पुराने एफएम चैनल जैसे मल्लिकार्जुन रेडियो और annapurna.online जैसे वेबसाइट भारत विरोधी बातें रिपोर्ट करते हैं। कालापानी को नेपाल का हिस्सा बताते हैं।

धारचूला के रंग समुदाय के एक नेता कृष्णा गर्ब्याल ने बताया कि इन रेडियो स्टेशनों ने कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा को नेपाली क्षेत्र मानते हुए यहाँ के मौसम की रिपोर्ट देना भी शुरू कर दिया है।

हालाँकि, जिला प्रशासन और पुलिस ने कहा कि उन्हें अपने एफएम रेडियो चैनलों के माध्यम से नेपाल द्वारा शुरू किए गए भारत विरोधी प्रोपेगेंडा के बारे में कोई जानकारी नहीं है। पिथौरागढ़ की पुलिस अधीक्षक प्रीति प्रियदर्शनी ने कहा, “इस विषय पर हमारी खुफिया इकाइयों ने कोई फीडबैक नहीं दिया है।”

धारचूला सर्किल अधिकारी वीके आचार्य ने भी इस पर अनभिज्ञता जाहिर की। उन्होंने कहा, “हमारी खुफिया इकाइयों ने अभी तक नेपाल द्वारा भारत विरोधी किसी भी तरह के प्रोपेगेंडा के बारे में नहीं बताया है।” वहीं व्यास घाटी के नेता अशोक नब्याल ने कहा कि सीमा पर सक्रिय भारतीय खुफिया एजेंसियों को प्रोपेगेंडा का जवाब देने में सक्षम होने के लिए स्थिति का संज्ञान लेने की आवश्यकता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,361FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe