Thursday, August 5, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयइमरान सरकार से घर वापसी की फरियाद लगा रहे पाकिस्तानी, दुबई में दूतावास के...

इमरान सरकार से घर वापसी की फरियाद लगा रहे पाकिस्तानी, दुबई में दूतावास के सामने प्रदर्शन

इससे पहले भी चीन में भी फँसे अपने छात्रों को पाकिस्तान ने बेसहारा छोड़ दिया था। इसके उलट भारत ने चीन सहित कई देशों में फँसे अपने हजारों नागरिकों को वतन लाकर उनको सुरक्षित घर तक पहुँचाया है।

कोरोना संकट के बीच दुबई में फँसे पाकिस्तानी अपने वतन लौटने के लिए सरकार से फरियाद लगा रहे हैं। फिर भी न तो पाकिस्तान की इमरान खान सरकार उनकी सुन रही और न यूएई के अधिकारी कोई मदद कर रहे। इससे निराश पाकिस्तानी दुबई में दूतावास के बाहर प्रदर्शन कर रहे हैं।

वीडियो में आप देख सकते हैं कि सैकड़ों पाकिस्तानी दुबई में दूतावास के सामने देश लौटने की माँग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। कुछ अधिकारी समझाते हुए सुनाई दे रहे हैं कि विरोध करने का यह तरीका सही नहीं हैं। इससे आपको भी परेशानी होगी और हमें भी। इससे पाकिस्तान का भी नाम ख़राब होगा।

वीडियो में अधिकारी लगातार पाकिस्तानियों को समझाते हुए कह रहे हैं कि आपको यह समझना होगा कि हम पाकिस्तान में नहीं बल्कि दूसरे मुल्क में रह रहे हैं। इसलिए हमें यहाँ के कानूनों का पालन करना होगा। अधिकारियों ने आगे कहा कि हम आपकी हर संभव मदद कर रहे हैं। अभी कितनों को राशन दिया है और भी राशन देंगे।

इसके बाद फिर से पाकिस्तानी लोग विरोध करते हुए बस एक ही बात करते रहे कि हमें राशन नहीं चाहिए हमें पाकिस्तान जाना है। लेकिन यूएई के अधिकारियों ने राशन देने के सिवाय किसी भी तरह की मदद करने से साफ इनकार कर दिया है। अब कोरोना संकट में दुबई में फँसे पाकिस्तान के लोगों को न तो यूएई भेजने के लिए तैयार है और न ही उन नागरिकों को अपने देश पाकिस्तान से किसी भी तरह की मदद मिल रही है।

गौरतलब है कि इससे पहले भी चीन में भी फँसे अपने छात्रों को पाकिस्तान ने बेसहारा छोड़ दिया था। इसके उलट भारत ने चीन सहित कई देशों में फँसे अपने हजारों नागरिकों को वतन लाकर उनको सुरक्षित घर तक पहुँचाया है।

जब चीन से भारतीय छात्रों को निकाला गया था तब एक वीडियो काफी वायरल हुआ था। इसमें चीन में फँसे पाकिस्तानी छात्र कह रहे थे, “ये भारतीय छात्र हैं और ये बस इन्हें लेने आई है, जो इनके दूतावास ने भेजी है। वुहान की यूनिवर्सिटी से इस बस से इन छात्रों को एयरपोर्ट ले जाया जाएगा और वहाँ से फिर इन्हें इनके घर पहुँचाया जाएगा। बांग्लादेश वाले भी आज रात यहाँ से ले जाए जाएँगे। एक हम पाकिस्तानी हैं, जो यहाँ पर फँसे हैं। जिनकी सरकार कहती है कि आप मरो या जियो, हम आपको नहीं निकालेंगे। शेम ऑन यू पाकिस्तान, सीखो भारत से कुछ सीखो।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,995FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe