Thursday, June 13, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयनाच मेरी बुलबुल तो खाना मिलेगा: राशन के बदले किन्नर को सरकारी ऑफिस में...

नाच मेरी बुलबुल तो खाना मिलेगा: राशन के बदले किन्नर को सरकारी ऑफिस में नचाया, पाकिस्तान में गैस सिलिंडर 10000 रुपए में

हाल ही में कुछ लोगों ने सेना के हेडक्वार्टर की पोल्ट्री फार्म को लूट लिया। करीब 12 लोग हथियारों से लैस होकर आए और कर्मचारियों को बंधक बना लिया। इसके बाद 30 लाख रुपए की 5,000 मुर्गियाँ लूट लिए।

मजहब के नाम पर भारत से अलग मुल्क बना पाकिस्तान (Pakistan) अपनी नीतियों और कर्मों से कंगाली के कगार पर पहुँच गया है। हालात ये गए हैं कि आम जनता वहाँ दाने-दाने के लिए मोहताज हो गई है। वहीं, भ्रष्ट सरकारी अधिकारी इसका भी फायदा उठाने से बाज नहीं आ रहे हैं।

पाकिस्तान का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें एक किन्नर को राशन देने के बदलने वहाँ के सरकारी अधिकारी अपने ऑफिस में उससे नाच करा रहे हैं। यह वीडियो गुजरावालां का बताया जा रहा है। किन्नर ने बताया कि राशन के बदले उसे नाचने के लिए मजबूर किया गया। वीडियो वायरल होने के बाद जाँच के आदेश दे दिए गए हैं। हालाँकि, जिस अधिकारी पर यह आरोप लगा है, वह इससे इनकार कर रहा है।

हालाँकि, पाकिस्तान की बदहाल अर्थव्यवस्था का यह पहला नमूना नहीं है। इसका नमूना वहाँ खाने-पीने के सामान से लेकर अन्य घरेलू चीजों की आसमान छूती कीमतों से देखने को मिल रहा है। सोना तो वहाँ के लिए सपना बन गया है। पाकिस्तान में अब 2 लाख रुपए प्रति तोला मिल रहा है। यानी 10 ग्राम सोना लेने के लिए 2 लाख पाकिस्तानी रुपए से ज्यादा देने होंगे।

सोना तो सोना, आटा-दाल तक लोगों की बस के बाहर होते जा रहे हैं। पाकिस्तान में सरसों का तेल 553 रुपए लीटर, दूध 150 रुपए लीटर, आटा 150 रुपए किलो और चावल 147 रुपए किलो मिल रहा है। वहीं, कॉमर्शियल गैस सिलेंडर की कीमत 10,000 रुपए तक पहुँच गई है।

पिछले सप्ताह तक पाकिस्तान में महंगाई की दर लगभग 32 प्रतिशत तक पहुँच गई है। पिछले साल के मुकाबले इस साल पाकिस्तान में प्याज 482 प्रतिशत महंगा हो गया है। चाय पत्ती 65 फीसदी महंगी, अंडे 64 फीसदी और नमक तक 50 फीसदी महंगा हो चुका है। चिकेन की कीमत दोगुनी से भी अधिक पहुँच गई है।पाकिस्तानी रुपया एक डॉलर के मुकाबले 268.50 रुपए के सर्वकालिक निम्न स्तर पर है।

पिछले साल प्याज 35 रुपए किलो मिलता था, अब 225 रुपए किलो मिल रहा है। बीते साल 210 रुपए किलो मिलने वाला चिकन 390 रुपए किलो तक पहुँच गया। नमक भी 33 रुपए से बढ़कर 50 रुपए पहुँच गया है।

पाकिस्तान में अब लोगों के लिए पेट भरना मुश्किल हो रहा है। ऐसे में हर तरफ अफरा-तफरी और मारा-मारी मची हुई है। अब लूट-मार और छीना-छपटी की स्थिति पहुँच गई है। सेना के अड्डे भी सुरक्षित नहीं रह गए हैं। हाल ही में कुछ लोगों ने सेना के हेडक्वार्टर की पोल्ट्री फार्म को लूट लिया। करीब 12 लोग हथियारों से लैस होकर आए और कर्मचारियों को बंधक बना लिया। इसके बाद 30 लाख रुपए की 5,000 मुर्गियाँ लूट लिए।

कहा जा रहा है कि पाकिस्तान को अगर कहीं से मदद नहीं मिली तो वह मई 2023 तक दिवालिया हो जाएगा। विदेशी एजेेेंसियों ने भी मदद के बदले पाकिस्तान से अपनी नीतियों में आवश्यक सुधार करने के लिए कहा है। पाकिस्तान में हालात ये हो गए हैं कि पेमेंट के लिए उसके पास अब विदेशी मुद्रा नहीं है। बंदरगाहों पर विदेशी कंटेनर पड़े हैं, लेकिन उनका पेमेंट करने के लिए उसके पास पैसे नहीं है।

बिजली और ऊर्जा संकट के कारण पाकिस्तान पहले ही संकटों में है। उसने बाजारों और मॉल को रात 8 बजे बंद करने का आदेश जारी किया है। चाय की खपत को रोकने के लिए वहाँ के मंत्री आग्रह कर चुके हैं। यही नहीं, अब तो वित्त मंत्री को अल्लाह का भरोसा रह गया है। उन्होंने कहा कि मजहब के आधार पर अल्लाह ने पाकिस्तान को बनाया है और अब वही इसे पालेगा।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेता खाएँ मलाई इसलिए कॉन्ग्रेस के साथ AAP, पानी के लिए तरसते आम आदमी को दोनों ने दिखाया ठेंगा: दिल्ली जल संकट में हिमाचल...

दिल्ली सरकार ने कहा है कि टैंकर माफिया तो यमुना के उस पार यानी हरियाणा से ऑपरेट करते हैं, वो दिल्ली सरकार का इलाका ही नहीं है।

पापुआ न्यू गिनी में चली गई 2000 लोगों की जान, भारत ने भेजी करोड़ों की राहत (पानी, भोजन, दवा सब कुछ) सामग्री

प्राकृतिक आपदा के कारण संसाधनों की कमी से जूझ रहे पापुआ न्यू गिनी के एंगा प्रांत को भारत ने बुनियादी जरूरतों के सामान भेजे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -