Wednesday, June 19, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयपादरी का सिर काटा, फिर जीभ भी निकाल ली: ईसाई-इस्लाम पर बहस कर लोगों...

पादरी का सिर काटा, फिर जीभ भी निकाल ली: ईसाई-इस्लाम पर बहस कर लोगों को ईसा मसीह की शरण में बुला रहे थे

पादरी की पत्नी ने बताया, "काफी ढूँढने के बाद मैंने अपने पति को आखिरकार ढूँढ लिया। हमें वह खून से लथपथ मिले, उनके सिर को काट दिया गया था और उनकी जीभ निकाल ली गई थी।"

पूर्वी युगाँडा के पल्लीसा शहर के कोमोलो गाँव में ईसाई धर्म और इस्लाम के बारे में सार्वजनिक बहस में शामिल होने पर 3 मई को हुई पादरी की हत्या में इस्लामी कट्टरपंथियों के शामिल होने का शक है। इस घटना में एक पादरी का सिर धड़ से अलग कर दिया और उनकी जीभ को भी बाहर खींच लिया।

इस्लाम पर बात करने वाले पादरी थॉमस चिकूमा उस इलाके के बहुत ही प्रसिद्ध पादरी थे, जिन्होंने अपने पूरे जीवन में करीब 50 चर्च स्थापित किए थे। उन्हें ईसाई और इस्लाम धर्म के बारे में खुली बहस करने के लिए बुलाया गया था।

खुली बहस के लिए बुलाया फिर पादरी पर भड़के कट्टरपंथी

रिपोर्ट्स के मुताबिक, रिश्तेदारों ने बताया कि पादरी चिकूमा 14 लोगों (जिनमें 6 मुस्लिम भी थे) को लेकर उस सभा में गए, जहाँ ईसाई-इस्लाम पर सार्वजनिक बहस होनी थी। यहाँ उन्होंने बाइबल और कुरान का हवाला देकर ईसाई धर्म का पक्ष रखा और लोगों से ईसा मसीह के शरण में आने को कहा। इससे वहाँ उपस्थित कई मुस्लिम नाराज हो गए और ”अल्लाहू अकबर” और ”अल्लाह सबसे बड़ा” जैसे नारे लगाने लगे, जिसके बाद पादरी और उनके बेटे को वहाँ से भागना पड़ा।

पादरी के बेटे ने बताया कि घर जाते वक्त दो मोटरसाइकिलों पर सवार और इस्लामी पोशाक पहने दो मुस्लिम हमारी बगल से निकले। जब हम अपने घर से करीब 200 मीटर की दूरी पर थे, तो वे मोटरसाइकिल हमारे घर के पास ही स्थित नालुफेन्या प्राथमिक विद्यालय के पास रुक गए।

दोनों मोटरसाइकिलों को जंक्शन पर खड़ी देख पादरी को शक हुआ तो उसने अपने बेटे को कुछ दूरी बनाकर चलने के लिए कहा। पादरी चिकूमा के बेटे ने बताया कि उसने पिता को दोनों मोटरसाइकिल सवारों और दो अन्य लोगों से बात करते हुए देखा। पादरी के बेटे ने कहा, ”अचानक ही वहाँ उन लोगों ने खुली बहस के बारे में बात करना शुरू कर दिया और उनमें से एक ने मेरे पिता को थप्पड़ जड़ दिया। मैं डर गया और कसावा के खेतों से होकर अपने घर पहुँच गया।”

क्रिश्चियन हेडलाइंस के अनुसार, पादरी चिकूमा की पत्नी जेसिका नाइकोम्बा एक घंटे बाद घर पहुँचीं तो उन्हें वहाँ कोई नहीं मिला। पादरी की पत्नी ने बताया, “काफी ढूँढने के बाद मैंने अपने पति को आखिरकार ढूँढ लिया। हमें वह खून से लथपथ मिले, उनके सिर को काट दिया गया था और उनकी जीभ निकाल ली गई थी।”

बहरहाल, पल्लीसा पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर पल्लीसा के ही एक अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए पहुँचा दिया। फिलहाल पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

कनाडा का आतंकी प्रेम देख भारत ने याद दिलाया कनिष्क ब्लास्ट, 23 जून को पीड़ितों को दी जाएगी श्रद्धांजलि: जानिए कैसे गई थी 329...

भारत ने एयर इंडिया के विमान कनिष्क को बम से उड़ाने की बरसी याद दिलाते हुए कनाडा में वर्षों से पल रहे आतंकवाद को निशाने पर लिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -