Saturday, July 20, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयबच्चों के खिलौने से भी इस्लाम को खतरा: फुटबॉल वर्ल्ड कप के मेजबान कतर...

बच्चों के खिलौने से भी इस्लाम को खतरा: फुटबॉल वर्ल्ड कप के मेजबान कतर ने लगाया बैन, कहा- इनके रंग LGBT फ्लैग जैसे

मंत्रालय ने नागरिकों और निवासियों से अपील की है कि अगर उन्हें इस्लाम विरोधी किसी लोगो या डिजाइन का पता चलता है तो वे तुरंत इसकी जानकारी दें।

कतर में अगले साल फुटबॉल विश्वकप का आयोजन किया जाना है। इस दौरान दुनियाभर से लोगों के इस रूढ़िवादी इस्लामी देश में पहुँचने की उम्मीद है। उससे पहले यहाँ बच्चों के कुछ खिलौनों को प्रतिबंधित कर दिया गया है। इसकी वजह इनका रंग बताया गया है जो कथित तौर पर इस्लामी मूल्यों के खिलाफ है।

रिपोर्ट के अनुसार रंगे बिरंगे खिलौनों को दुकानों से जब्त किया गया है। देश के वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के अधिकारियों का कहना है कि उन्हें रंग-बिरंगे खिलौनों पर कोई आपत्ति नहीं है। लेकिन रेनबो कलर्स के कुछ खिलौने एलजीबीटी फ्लैग जैसे दिखते हैं। उन्होंने बताया कि जिन खिलौनों को बैन किया गया है, उनका रंग कुछ-कुछ LGBTQ फ्लैग जैसा है। बता दें कि कतर में समलैंगिकता गैरकानूनी है।

जानकारी के मुताबिक वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय ने कतर के अलग-अलग क्षेत्रों की दुकानों में जाँच अभियान चलाने के आदेश दिए थे। इससे संबंधित जो ट्वीट किया गया है, उसमें कुछ खिलौनों जैसे रबर स्ट्रेस बॉल और दूसरी चीजों की तस्वीर भी लगाई गई है और ये रेनबो कलर्स के हैं। साथ ही मंत्रालय ने नागरिकों और निवासियों से अपील की है कि अगर उन्हें इस्लाम विरोधी किसी लोगो या डिजाइन का पता चलता है तो वे तुरंत इसकी जानकारी दें।

उल्लेखनीय है कि नवंबर में इंग्लिश फुटबॉल एसोसिएशन ने LGBTQ फैन्स को आश्वासन दिया था कि विश्व कप के लिए देश में उनका स्वागत किया जाएगा। एसोसिएशन ने कतर से टूर्नामेंट के लिए अपने LGBTQ विरोधी रुख को नरम करने के लिए कहा था कि टूर्नामेंट के दौरान एलजीबीटी फ्लैग की अनुमति होगी। 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -