Thursday, September 23, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयकैमरामैन को बचाने में रूस के आपातकालीन मंत्री जिनिचेव की मौत, आर्कटिक क्षेत्र में...

कैमरामैन को बचाने में रूस के आपातकालीन मंत्री जिनिचेव की मौत, आर्कटिक क्षेत्र में सैन्य अभ्यास के दौरान हुआ हादसा

जिनिचेव साल 2018 से आपात मामलों से जुड़े मंत्रालय का नेतृत्व कर रहे थे। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत 1980 के दशक के आखिर से केजीबी अफसर के तौर पर की थी। वह सोवियत संघ के विघटन से पहले संघीय सुरक्षा एजेंसी (एफएसबी) में सेवाएँ दे चुके हैं।

रूस के आपातकालीन मंत्री येवगेनी जिनिचेव की आर्कटिक क्षेत्र में एक सैन्य अभ्यास के दौरान कैमरामैन की जान बचाते समय मौत हो गई। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, रूस के राष्ट्रपति कार्यालय क्रेमलिन के प्रवक्ता दिमित्री पेसकोव ने मंत्री की मौत की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि इस दुखद घटना के बारे में राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को भी जानकारी दे दी गई है। उनके मृत शरीर को अब मॉस्को लाने की तैयारी की जा रही है।

रूसी मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, येवगेनी जिनिचेव की ड्यूटी के दौरान दुखद मृत्यु हो गई है। इस दुर्घटना के समय वे आर्कटिक क्षेत्र को आपात स्थिति से बचाने के लिए कई विभागों के साथ सैन्य अभ्यास कर रहे थे। जिनिचेव सैन्य अभ्यास के दौरान शूटिंग कर रहे कैमरामैन को पानी में गिरने से बचाने का प्रयास कर रहे थे, तभी उनका पैर फिसला और चट्टान से सिर टकराने के कारण उन्हें गंभीर चोट लगी और अस्पताल लेकर जाते समय उन्होंने दम तोड़ दिया। इस हादसे में कैमरामैन की भी मौत हो गई है।

प्रारंभिक रिपोर्टों के अनुसार, रूस के आपातकालीन मंत्री येवगेनी जिनिचेव एक चट्टान के किनारे खड़े थे। तभी एक कैमरामैन फिसलकर गिर गया। उसे बचाने के लिए जिनिचेव ने उस चट्टान से नीचे पानी में छलांग लगा दी। इस दौरान वे एक दूसरी चट्टान से टकरा गए और उनके सिर में गंभीर चोट लग गई। वे दोनों अस्पताल में भर्ती थे लेकिन एक आपातकालीन सेवा हेलीकॉप्टर में उनकी मृत्यु हो गई।

रूसी मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, जिनिचेव साल 2018 से आपात मामलों से जुड़े मंत्रालय का नेतृत्व कर रहे थे। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत 1980 के दशक के आखिर से केजीबी अफसर के तौर पर की थी। वह सोवियत संघ के विघटन से पहले संघीय सुरक्षा एजेंसी (एफएसबी) में सेवाएँ दे चुके हैं। जिनिचेव का जन्म 1966 में लेनिनग्राद (अब सेंट पीटर्सबर्ग) में हुआ था। विभिन्न पदों पर रहते हुए जिनिचेव ने राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ कई विदेश यात्राएँ भी की।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गुजरात के दुष्प्रचार में तल्लीन कॉन्ग्रेस क्या केरल पर पूछती है कोई सवाल, क्यों अंग विशेष में छिपा कर आता है सोना?

मुंद्रा पोर्ट पर ड्रग्स की बरामदगी को लेकर कॉन्ग्रेस पार्टी ने जो दुष्प्रचार किया, वह लगभग ढाई दशक से गुजरात के विरुद्ध चल रहे दुष्प्रचार का सबसे नया संस्करण है।

‘मुंबई डायरीज 26/11’: Amazon Prime पर इस्लामिक आतंकवाद को क्लीन चिट देने, हिन्दुओं को बुरा दिखाने का एक और प्रयास

26/11 हमले को Amazon Prime की वेब सीरीज में मु​सलमानों का महिमामंडन किया गया है। इसमें बताया गया है कि इस्लाम बुरा नहीं है। यह शांति और सहिष्णुता का धर्म है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,782FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe